निष्ठा प्रशिक्षण से होगा कौशल का विकास

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

किशनगंज : जिले के दिघलबैंक प्रखंड के 150 शिक्षकों का पांच दिवसीय विशेष प्रशिक्षण सोमवार से प्रारंभ हुआ. नेशनल इनीशिएटिव फॉर स्कूल हेड्स एंड टीचर्स हॉलिस्टिक एडवांसमेंट स्कूल प्रमुखों और शिक्षकों की समग्र उन्नति के लिए यानी निष्ठा के इस प्रथम बैच का उद्घाटन जिला कार्यक्रम पदाधिकारी समग्र शिक्षा अभियान अजीत कुमार शर्मा ने किया.

इस दौरान उन्होंने निष्ठा प्रशिक्षण के विषय में प्रकाश डालते हुए कहा की मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने देशभर के लाखों शिक्षकों को निःशुल्क प्रशिक्षण देने के लिए “निष्ठा योजना को शुरू करने का निर्णय लिया है. सरकार ने स्कूलों में पढ़ा रहे शिक्षकों को एक खास प्रशिक्षण देने की बात कही है.
फिलहाल इनमें पहली से आठवीं तक के बच्चों को पढ़ाने वाले करीब 42 लाख शिक्षकों को शामिल किया जा रहा है. उनके अनुसार निष्ठा प्रशिक्षण प्रारंभिक स्तर पर सीखने के परिणामों को बेहतर बनाने के लिए एक राष्ट्रीय पहल है.
उनके अनुसार इस एकीकृत प्रशिक्षण कार्यक्रम में शिक्षकों के प्रशिक्षण में किताबों के बजाय बच्चों के बौद्धिक विकास पर मुख्य रूप से फोकस रहेगा. इस कार्यक्रम के तहत बच्चों में महत्वपूर्ण सोच को प्रोत्साहित करने और बढ़ावा देने के लिए शिक्षकों को प्रेरित और सुसज्जित किया जाएगा. छात्र तब विविध स्थितियों को संभालने में सक्षम होंगे और शिक्षक प्रथम स्तर के काउंसेलर के रूप में कार्य कर सकेंगे.
इस दौरान उन्होंने कहा कि निष्ठा प्रशिक्षण से शिक्षकों का शैक्षणिक कार्य में समग्र उन्नति होगा.उन्हें बदलते समय व बच्चों के सोच में हो रहे बदलाव को ध्यान में रखते हुए उन्हें पांच दिनों के प्रशिक्षण में नये गुर सीखाए जाएंगे.ताकि शिक्षक बच्चों की रुचि के अनुसार खेल-खले में पढ़ाई को आनंदायी बनाकर पढ़ा सकें. इस योजना के तहत शिक्षकों के प्रशिक्षण की इस पहल से स्कूली शिक्षा को मजबूती मिलेगी.ऐसे ही प्रयास आगे किये जाएंगे.
उन्होंने ये भी कहा इस प्रशिक्षण से शिक्षकों की गुणवत्ता काफी बेहतर हो. इसके साथ ही लर्निग आउटकम के लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में सुधार हों. जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (समग्र शिक्षा) अजीत शर्मा ने कहा कि शिक्षण कार्य के दौरान शिक्षक बच्चों को पढ़ाने से पहले खुद पढ़ें. शिक्षक को अध्ययन करते रहना चाहिए.
शिक्षक जिस पाठ्यक्रम को पढ़ाने वाले हैं, उसकी समुचित तैयारी और पूर्वाभ्यास कर छात्र,छात्राओं को पढ़ाने जाएं.मौके परर डीडीओ वली आजम, लेखापाल भरत प्रधान,मो यूसुफ,शुभोजीत सिन्हा, बिंदु कुमारी भारती, मुकेश कुमार,सोहराब आलम, श्यामल भारती, शिपु कुमारी व 150 प्रशिक्षु उपस्थित थे.
निष्ठा प्रशिक्षण से शिक्षा की गुणवत्ता में होगा सुधार
बहादुरगंज. गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के प्रोत्साहन हेतु बिहार शिक्षा परियोजना की पहल पर सोमवार को प्रोजेक्ट गर्ल्स हाई स्कूल बहादुरगंज में पांच दिवसीय गैर-आवासीय प्रशिक्षण ' निष्ठा ' का शुभारंभ हुआ.
बीडीओ जुल्फेकार आदिल, सीओ कौशर इमाम व प्रशिक्षु आरओ अनुपम कुमार ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर निष्ठा प्रशिक्षण का शुभारंभ किया व बिहार शिक्षा परियोजना के सौजन्य से आयोजित प्रशिक्षण के जरिये शिक्षक कर्मियों से बेहतर शिक्षण पद्धति ग्रहण करने की उम्मीद जाहिर की. अलग - अलग तीन बैच में 50 - 50 की संख्या में शिक्षक प्रशिक्षणार्थी इस निष्ठा प्रशिक्षण में शामिल थे.
मौके पर बीडीओ जुल्फेकार आदिल ने कहा कि उन्नयन की तर्ज पर ही बिहार शिक्षा परियोजना ने निष्ठा के जरिये बच्चों में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रस्तुति करण की दिशा में इस प्रशिक्षण की शुरुआत की है. नयी शिक्षा पद्धति के आधार पर अब मोबाइल एप के जरिये स्कूली बच्चों में बेहतर व कुशल शिक्षा उपलब्ध करवाना ही निष्ठा प्रशिक्षण का असली उद्देश्य है.
इसके लिए बिहार शिक्षा परियोजना ने बारी - बारी से शिक्षक कर्मियों को प्रशिक्षित करने की कवायद शुरू कर दी है. मौके पर प्रशिक्षक के तौर पर निष्ठा ठाकुरगंज की ट्रेनर टीम ने बताया कि मोबाइल एप के जरिये नयी शिक्षा पद्धति के विकास को लेकर संबंधित मुद्दों पर शिक्षक कर्मियों को सभी समुचित जानकारी उपलब्ध करवायी जायेगी.
इससे पहले समग्र शिक्षा के डीपीओ अजित शर्मा ने प्रशिक्षण के बीच में ही निष्ठा प्रशिक्षण कार्यक्रम का निरीक्षण किया व निष्ठा में शामिल प्रशिक्षकों व शिक्षक प्रशिक्षणार्थियों को निष्ठा से संबंधित टिप्स बताये. ट्रेनर टीम में चंद्रशेखर, एजाज अनवर, किरण झा, शिवली नोमानी, अंजार आलम, आशुतोष उपाध्याय शामिल थे.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें