1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. gaya
  5. bihar weather after three years in gaya mercury crosses 44 in april thunderstorm and rain expected on sunday monday rdy

Bihar Weather: गया में तीन साल बाद अप्रैल में पारा 44 के पार, रविवार-सोमवार को आंधी और बारिश के आसार

हीट वेव ऐसी कि घर या दफ्तर से बाहर निकलने से लोग परहेज जता रहे थे. जो लोग बाहर निकल भी रहे थे. वह पूरी सावधानी से मुंह व चेहरे पर गमछा, तौलिया या फिर छाता लेकर निकले थे. शनिवार को आसमान में छिटपुट बादल छाये रहने के साथ रविवार, सोमवार को छिटपुट बारिश भी हो सकती है.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
Bihar Weather News
Bihar Weather News
file

गया जिले में पिछले सात वर्षों में यह तीसरी बार अप्रैल महीने में गया का तापमान 44 डिग्री के पार चला गया. शुक्रवार को गया का अधिकतम तापमान 44.1 व न्यूनतम 25.1 डिग्री सेल्सियस रहा. मौसम विभाग के मुताबिक हीट वेव भी चली. इससे पहले 30 अप्रैल 2019 में 44.3 डिग्री सेलसियस, 19 अप्रैल 2016 में 44.2 डिग्री व 30 अप्रैल 1999 में अप्रैल महीने में अब तक का सबसे अधिक अधिकतम पारा 46.1 डिग्री सेल्सियस हो गया था. गुरुवार को अधिकतम तापमान 41.9 डिग्री, न्यूनतम 23.1 डिग्री सेल्सियस, बुधवार को अधिकतम 43.5 डिग्री व न्यूनतम 23.8 डिग्री सेल्सियस रहा था. सुबह से ही शरीर को झुलसा देने वाली चिलचिलाती धूप, लू व तपिश से लोग परेशान दिखे.

लू और तपिश से लोग बेहाल

हीट वेव ऐसी कि घर या दफ्तर से बाहर निकलने से लोग परहेज जता रहे थे. जो लोग बाहर निकल भी रहे थे. वह पूरी सावधानी से मुंह व चेहरे पर गमछा, तौलिया या फिर छाता लेकर निकले थे. अक्सर लोग कड़ी धूप व लहर से बचने के लिए पैदल चलने के बजाये निजी वाहन, ऑटो, इ-रिक्शा या फिर रिक्शा की सेवा ले रहे थे. दोपहर में सड़कों पर या फिर व्यावसायिक मंडी में भी कम ही लोगों की आवाजाही रही. मौसम विभाग ने पूर्वानुमान में बताया है कि शनिवार को आसमान में छिटपुट बादल छाये रहने के साथ रविवार, सोमवार को भी आसमान में हल्की बदली छाने के साथ छिटपुट बारिश भी हो सकती है. इसी के तापमान भी लुढ़क सकता है.

प्रचंड गर्मी में भी दक्षिण भारतीय श्रद्धालु बढ़ा रहे बोधगया की रौनक

बोधगया. अप्रैल में ही प्रचंड गर्मी के बीच बोधगया में इन दिनों दक्षिण भारतीय श्रद्धालुओं ने रौनक बढ़ा दी है. तामिलनाडु, आंध्रप्रदेश, कर्नाटक, ओड़िशा व पश्चिम बंगाल के श्रद्धालुओं की आवाजाही के कारण महाबोधि मंदिर तो गुलजार रह ही रहा है, अन्य मंदिरों के आसपास भी चहल-पहल बढ़ गयी है. मुख्य रूप से मंदिरों के आसपास रहे फुटपाथी दुकानों व ठेले पर नारियल पानी व आइसक्रीम आदि की बिक्री करने वाले दुकानदारों को आमदनी हो रही है. पिछले दो वर्षों से कोरोना के कारण घर बैठे बोधगया के फुटपाथी दुकानदारों को इस गर्मी में भी राहत मिल रही है.

श्रद्धालुओं व सैलानियों की आवाजाही अच्छे संकेत

यहां के ऑटो व ई-रिक्शा चालकों को भी रोजगार मिला हुआ है और इस कारण उनकी स्थिति भी अब सुधरने लगी है. हालांकि, दक्षिण भारतीय व पश्चिम बंगाल के श्रद्धालु विष्णुपद मंदिर में भी पूजा-अर्चना कर रहे हैं व पिंडदान की प्रक्रिया भी पूरी कर ले रहे हैं. साथ ही बोधगया पहुंच कर अपने पितरों की आत्मा की शांति के लिए भगवान बुद्ध से भी कामना करना नहीं भूल रहे हैं. अमूमन गर्मी बढ़ने के साथ ही बोधगया में सन्नाटा पसर जाता था, पर इस वर्ष प्रचंड गर्मी के बाद भी श्रद्धालुओं व सैलानियों की आवाजाही अच्छे संकेत हैं. कई दुकानदारों ने बताया कि यात्रियों के आने से उनकी आर्थिक समस्या का समाधान होने लगा है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें