1. home Home
  2. state
  3. bihar
  4. darbhanga
  5. chaanan pul chhatigrast hone se badhee kathinaee darabhanga bas dipo ne band kee bas seva rdy

चानन पुल क्षतिग्रस्त होने से बढ़ी कठिनाई, दरभंगा बस डिपो ने बंद की बस सेवा

बिहार राज्य पथ परिवहन निगम की परेशानी क्षतिग्रस्त चानन पुल ने बढ़ा दी है. पुल से सरकारी बस नहीं गुजर रही, जिससे प्रत्येक माह यहां के डिपो को डेढ़ लाख से अधिक का नुकसान हो रहा है. अब बांका जाने वाले यात्री सीधे प्राइवेट बस स्टैंड से बस पकड़ निकल जा रहे हैं.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
चानन पुल क्षतिग्रस्त होने से बढ़ी कठिनाई
चानन पुल क्षतिग्रस्त होने से बढ़ी कठिनाई
सोशल मीडिया

भागलपुर: बिहार राज्य पथ परिवहन निगम की परेशानी क्षतिग्रस्त चानन पुल ने बढ़ा दी है. पुल से सरकारी बस नहीं गुजर रही, जिससे प्रत्येक माह यहां के डिपो को डेढ़ लाख से अधिक का नुकसान हो रहा है. अब बांका जाने वाले यात्री सीधे प्राइवेट बस स्टैंड से बस पकड़ निकल जा रहे हैं.

इधर, दरभंगा बस डिपो ने भी भागलपुर में अपनी सेवा को बंद कर दी है. अब निगम को दुर्गा पूजा का इंतजार है. पूजा में यात्रियों की संख्या में बढ़ोतरी होने की उम्मीद है. अब जब एक-एक कर बस सेवा बाधित हो रही है, तो ऐसे में कितने यात्री यहां की सेवा को प्राप्त करने आयेंगे या नहीं यह देखना दिलचस्प होगा.

दरभंगा बस डिपो ने बंद कर दी सेवा

दरभंगा बस डिपो ने भागलपुर में बस सेवा को बंद कर दी है. दो माह से यह सेवा बंद है. इसके पीछे की वजह यात्री की कमी और सड़क का खराब होना है. इस रूट पर बस चलाने से डिपो संचालक को इनकम कम बस पर ज्यादा खर्च करना पड़ता था. दरभंगा जाने वाले यात्रियों की संख्या बेहद कम थी. अब यह सेवा फिर से कब आरंभ होगी, इसकी जानकारी किसी के पास नहीं है. दरभंगा बस डिपो से मात्र एक बस भागलपुर आती थी, जो वापसी में यात्री के साथ जाती थी.

लाखों का नुकसान

बांका जिले के लिए भागलपुर बस डिपो से पांच बसों का संचालन होता है. विभाग एक बस से अगर एक हजार रुपये प्रति दिन कमाई करता है, तो एक दिन में इन पांच बसों से पांच हजार रुपया का इनकम होगा. ऐसे में एक माह में इन पांचों बस से करीब डेढ़ लाख की कमाई डिपो करता था. चानन पुल क्षतिग्रस्त होने से बस को सीधे बांका में प्रवेश कराना संभव नहीं हो रहा है.

पुल के पास ही बस रोक दी जाती है. इसके बाद यात्री ऑटो या अन्य साधन से पुल को पार कर बांका जाते है. यात्री को पुल पार करने में भी खर्च करना होता है. इससे धीरे-धीरे सरकारी बस स्टैड़ में यात्रियों की संख्या कम हो गयी. लोग किसी और साधन से सीधे बांका निकल जाते हैं.

Posted by: Radheshyam Kushwaha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें