1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. bhojpur
  5. bhojpur police stf arrested 2 arms smugglers with fake bsf i card and arms license with magazine skt

आरा स्टेशन पर 2 आर्म्स तस्करों को STF ने दबोचा, BSF का फर्जी आइकार्ड, हथियार व कारतूसों का जखीरा बरामद

आरा स्टेशन पर एसटीएफ ने दो आर्म्स तस्करों को दबोचा है. दोनों के पास से हथियार व कारतूसों का जखीरा बरामद हुआ है. वहीं जाली आर्म्स लाइसेंस भी जब्त किया गया है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
आरा स्टेशन पर दबोचे गये 2 आर्म्स तस्कर, बरामद कारतूस व दस्तावेज
आरा स्टेशन पर दबोचे गये 2 आर्म्स तस्कर, बरामद कारतूस व दस्तावेज
prabhat khabar

बिहार में हथियार तस्करों ने अब तस्करी का नया तरीका खोज लिया है. भोजपुर जिला की पुलिस ने आरा स्टेशन पर दो ऐसे हथियार तस्करों को दबोचा है जो बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स यानी बीएसएफ का जवान बनकर फर्जी आइकार्ड लेकर घूम रहे थे. बीएसएफ का आइकार्ड गृह मंत्रालय बनाता है लेकिन तस्करों ने खुद ही कार्ड तैयार कर लिया.

दो हथियार तस्करों को दबोचा

भोजपुर पुलिस ने आरा स्टेशन पर कार्रवाई की और दो हथियार तस्करों को दबोच लिया. इस कार्रवाई में कुख्यात अंतरराज्यीय हथियार तस्कर विक्की तिवारी और बिरमन तिवारी को दबोचा गया है. दोनों के पास से काफी संख्या में कारतूस व हथियार बरामद हुए हैं. विक्की तिवारी शाहपुर, भोजपुर जिला तो बिरमन तिवारी रोहतास जिला के नोखा थाना क्षेत्र का रहने वाला है.

बीएसएफ का फर्जी आइकार्ड
बीएसएफ का फर्जी आइकार्ड
prabhat khabar

बीएसएफ का फर्जी आइकार्ड, आर्म्स का फेक लाइसेंस जब्त

एसटीएफ ने इनके पास से एक रेगुलर डीबीबीएल गन, 7.62MM की एक पिस्टल, 554 कारतूस, एक मैगजीन, BSF का जाली आईकार्ड, आर्म्स का 2 जाली लाइसेंस, कैश 700 रुपए और 2 मोबाइल फोन बरामद किये गये हैं. बताया जा रहा है कि दोनों लंबे समय से हथियार और कारतूसों की तस्करी कर रहे थे. आर्म्स का फेक लाइसेंस और बीएसएफ का फर्जी आइकार्ड बरामद किया गया है. हथियार के फर्जी लाइसेंस की बदौलत दोनों बड़ी खेप में गोलियां खरीदते रहे.

फेक आर्म्स लाइसेंस
फेक आर्म्स लाइसेंस
prabhat khabar

बड़ा खुलासा संभव

गोलियां बिहार के अलग-अलग जगहों पर सप्लाइ की जाती है. वहीं दोनों को पकड़ने वाली एसटीएफ की टीम इनसे पूछताछ कर रही है. बीएसएफ के फर्जी आइकार्ड का इस्तेमाल कहां-कहां किया गया है, इसका पता लगाया जा रहा है. वहीं बरामद हथियार और कारतूसों के खेप कहां भेजे जा रहे थे, उसकी भी जानकारी जुटाइ जा रही है. ऐसी आशंका देखी जा रही है कि इनके कनेक्शन बिहार से बाहर के माफियाओं से भी हो सकते हैं. इसका खुलासा पूछताछ के बाद ही हो सकेगा.

POSTED BY: Thakur Shaktilochan

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें