1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. arrah
  5. koilwar bridge bihar inauguration by minister nitin gadkari as travel to arrah patna now easy skt

Bihar: कोईलवर में जाम का अब नो-टेंशन, सिक्स लेन पुल का हुआ शुभारंभ, इन जिलों से पटना पहुंचना अब बेहद आसान

बिहार के कोईलवर में जाम की समस्या से लोगों को रोजाना सामना करना पड़ता था. अब जाम को टेंशन खत्म हो चुका है. शनिवार को सिक्स लेन पुल के दूसरे लेन का भी उद्घाटन हो गया. जिसके बाद अब कई शहरों से पटना आना-जाना बेहद आसान हो गया.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
कोईलवर में बना नया सिक्स लेन पुल
कोईलवर में बना नया सिक्स लेन पुल
सोशल मीडिया

बिहार के कोईलवर में बने नये सिक्स लेन पुल का आज विधिवत उद्घाटन कर दिया गया. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये इस पुल के डाउनस्ट्रीम लेन का उद्घाटन किया. जिसके बाद अब इस पुल पर गाड़ियां तेज रफ्तार में दौडती नजर आएंगी. कोईलवर में लोगों को अब भीषण जाम का सामना नहीं करना पड़ेगा. नये पुल के तैयार हो जाने से अब इससे मुक्ति मिलेगी.

कोईलवर पुल के दोनों लेन चालू

सोन नदी पर बने कोईलवर पुल के दूसरे लेन का निर्माण कार्य पूरा होने के बाद अब इसका उद्घाटन कर दिया गया. यह पुल बिहार और उत्तर प्रदेश को जोड़ने वाला एक प्रमुख राजमार्ग है. कोईलवर पुल के दोनों लेन चालू हो जाने के बाद केवल बिहार और उत्तर प्रदेश ही नहीं बल्कि दक्षिण बिहार के जिलों से पटना पहुंचना अब अधिक आसान हो जाएगा. शाहाबाद और पूर्वांचल समेत अन्य जिलों और राज्यों को सूबे की राजधानी पटना से यह पुल जोड़ता है.

जाम की समस्या से अब मुक्ति, इन जिलों को फायदा

कोईलवर जाम की समस्या से हमेसा जूझता रहा है. पुराने अब्दुल बारी पुल के सिंगल लेन के होने की वजह से गाड़ियों के जाम लगने से लोग रोज परेशान रहते थे. अब इसके समानांतर बने इस पुल के चालू हो जाने से जाम की समस्या भी खत्म होगी और आरा-पटना के बीच की दूरी तय करने में बेहद कम समय लगेगा. दक्षिण और मध्य बिहार के शहरों से पटना, आरा, बक्सर, छपरा, सासाराम आदि के बीच यातायात बेहद सुगम होगा.

यह होगा फायदा

परियोजना की विशेषता यह है कि स्वर्णिम चतुर्भज और पूर्वांचल एक्सप्रेस वे के रास्ते बिहार का देश के अन्य हिस्सों से सीधा जुड़ाव होगा. राज्य के विभिन्न हिस्सों में निर्माण सामग्री मिट्टी, बालू आदि की ढुलाई में सुविधा होगी. समय व ईंधन में बचत होगी. कृषि उपज, स्थानीय और अन्य उत्पादों की बड़े बाजारों तक पहुंच में सुविधा होगी.

POSTED BY: Thakur Shaktilochan

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें