1. home Hindi News
  2. state
  3. Chhattisgarh
  4. chhattisgarh budget 2022 23 cm bhupesh baghel carries briefcase made of cow dung said old pension scheme will be implemented mtj

गोबर से बना बैग लेकर बजट पेश करने पहुंचे भूपेश बघेल, छत्तीसगढ़ में पुरानी पेंशन योजना लागू करने का ऐलान

छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने बताया कि वर्ष 2022-23 के लिए बजट में किसी नए कर का प्रस्ताव नहीं है. मुख्यमंत्री ने अपने बजट भाषण में कहा कि उनकी सरकार ने पहले वर्ष में ही 17 लाख 96 हजार किसानों का आठ हजार 744 करोड़ रुपये का कृषि ऋण माफ किया है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
गोबर से बने ब्रीफकेस के साथ छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल
गोबर से बने ब्रीफकेस के साथ छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल
Twitter

रायपुर: छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बुधवार को गोबर से बना बैग लेकर बजट पेश करने के लिए विधानसभा पहुंचे. वर्ष 2022-23 के बजट में उन्होंने पुरानी पेंशन योजना को लागू करने का ऐलान किया. मुख्यमंत्री के पास वित्त विभाग का भी प्रभार है. श्री बघेल ने वित्त वर्ष 2022-23 के लिए एक लाख चार हजार करोड़ रुपये का बजट पेश किया.

स्थानीय प्रतिभागियों का परीक्षा शुल्क माफ

इस दौरान उन्होंने राज्य में पुरानी पेंशन योजना को लागू करने तथा छत्तीसगढ़ व्यावसायिक परीक्षा मंडल और छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित की जाने वाली प्रतियोगी परीक्षाओं में राज्य के स्थानीय प्रतिभागियों का परीक्षा शुल्क माफ करने समेत कई अन्य घोषणाएं की. मुख्यमंत्री ने अपने बजट भाषण में कहा कि मेरा सौभाग्य है कि भारत की आजादी की 75वीं सालगिरह के वर्ष में मैं अपनी सरकार का यह बजट प्रस्तुत कर रहा हूं.

नवा रायपुर में सेवाग्राम की होगी स्थापना

भूपेश बघेल ने कहा कि मुझे संतोष है कि बीते तीन वर्षों के दौरान हमारी सरकार ने आजादी के नायक राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सपनों को पूरा करने की दिशा में सार्थक कदम उठाये हैं. बापू की स्मृतियां को संजोने और उनके विचारों पर आधारित विकास के रास्तों को प्रदर्शित करने के लिए नवा रायपुर में सेवा ग्राम की स्थापना की जायेगी. इस परियोजना की अनुमानित लागत 100 करोड़ रुपये है.

सकल वित्तीय घाटा 14,600 करोड़ रहने का अनुमान

भूपेश बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य का सकल वित्तीय घाटा 14,600 करोड़ रुपये अनुमानित है, जो राज्य के सकल घरेलू उत्पाद का 3.3 प्रतिशत है. वर्ष 2022-23 के लिए कुल प्राप्तियां एक लाख चार हजार करोड़ रुपये पर शुद्ध खर्च एक लाख चार हजार करोड़ रुपये अनुमानित है. उन्होंने कहा कि राज्य की कुल राजस्व प्राप्तियां 89 हजार 73 करोड़ रुपये तथा कुल राजस्व व्यय 88 हजार 372 करोड़ अनुमानित है. इसलिए वर्ष 2022-23 में कुल 701 करोड़ के राजस्व अधिशेष का अनुमान है.

किसानों के 8,744 करोड़ का कृषि ऋण माफ किया

छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने बताया कि वर्ष 2022-23 के लिए बजट में किसी नए कर का प्रस्ताव नहीं है. मुख्यमंत्री ने अपने बजट भाषण में कहा कि उनकी सरकार ने पहले वर्ष में ही 17 लाख 96 हजार किसानों का आठ हजार 744 करोड़ रुपये का कृषि ऋण माफ किया है. किसानों से धान की खरीदी 2,500 रुपये प्रति क्विंटल की दर पर की गयी. खरीफ 2018 के धान के लिए 15 लाख 77 हजार किसानों को छह हजार 22 करोड़ रुपये की बोनस राशि का तत्काल भुगतान किया गया.

अब भूमिहीन किसानों को मिलेगी 7 हजार रुपये की सहायता राशि

श्री बघेल ने कहा कि राज्य में राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना में छह हजार वार्षिक सहायता राशि दी जा रही है. इस वर्ष तीन लाख 54 हजार 513 भूमिहीन कृषि मजदूरों को 71 करोड़ 8 लाख की पहली किस्त का भुगतान किया जा चुका है. आगामी वर्ष से छह हजार वार्षिक सहायता की राशि को बढ़ाकर सात हजार करने की घोषणा करता हूं.

औद्योगिक पार्कों की होगी स्थापना

उन्होंने कहा कि राज्य में स्थापित गोठानों को महात्मा गांधी ग्रामीण औद्योगिक पार्क के रूप में विकसित किया जायेगा. इन औद्योगिक पार्कों में स्थानीय खाद्य उत्पादों तथा लघु वनोपज उत्पादों के मूल्य संवर्द्धन के लिए प्रसंस्करण इकाइयों की स्थापना की जायेगी. बघेल ने कहा कि राज्य में सौर सुजला योजना अंतर्गत तीन और पांच एचपी क्षमता के 15 हजार सौर सिंचाई पंपों की स्थापना की जायेगी. इसके लिए 417 करोड़ रुपये का प्रावधान है.

नक्सल प्रभावित जिलों में 47 स्टील ब्रिज बनेंगे

उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत 9 किलोमीटर सड़क और 24 वृहद पुलों के निर्माण का भौतिक लक्ष्य है. नक्सल प्रभावित जिले बीजापुर, सुकमा और दंतेवाड़ा में 47 स्टील ब्रिज निर्माण का प्रस्ताव है. योजना में एक हजार 675 करोड़ रुपये का प्रावधान है. बघेल ने अधिसूचित क्षेत्रों में रेत खदानों का संचालन पंचायतों द्वारा किये जाने की घोषणा की. राज्य में किसी भी ग्राम पंचायत की सहमति के बिना पंचायत क्षेत्र में कोई भी खदान संचालित नहीं की जायेगी. (एजेंसी इनपुट के साथ)

Posted By: Mithilesh Jha

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें