1. home Home
  2. sports
  3. tokyo olympics 2020 first day india journey mirabai chanu created history vikas krishna disappointed see medal table avd

Tokyo Olympics : पहले दिन ऐसा रहा भारत का सफर, मीराबाई ने रचा इतिहास, कृष्ण ने किया निराश, देखें मेडल तालिका

टोक्यो ओलंपिक 2020 (Tokyo Olympics 2020) का पहला दिन भारत के लिहाज से मिला-जुला रहा. वेटलिफ्टिंग में मीराबाई चानू (Mirabai Chanu) ने रजत पदक जीतकर भारतीय खेलों में नया इतिहास रच डाला. जबकि पुरुष हॉकी टीम और टेनिस खिलाड़ी सुमित नागल ने शानदार शुरुआत की.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Tokyo Olympics 2020
Tokyo Olympics 2020
pti photo

टोक्यो ओलंपिक 2020 (Tokyo Olympics 2020) का पहला दिन भारत के लिहाज से मिला-जुला रहा. वेटलिफ्टिंग में मीराबाई चानू (Mirabai Chanu) ने रजत पदक जीतकर भारतीय खेलों में नया इतिहास रच डाला. जबकि पुरुष हॉकी टीम और टेनिस खिलाड़ी सुमित नागल ने शानदार शुरुआत की. हालांकि निशानेबाजी, मुक्केबाजी, तीरंदाजी और महिला हॉकी में भारत को निराशा हाथ लगी.

चानू ने महिलाओं के 49 किग्रा में 202 किग्रा (87 किग्रा + 115 किग्रा) भार उठाकर ओलंपिक की वेटलिफ्टिंग स्पर्धा में पदक के लिये भारत का 21 वर्ष का इंतजार खत्म किया. चानू के मेडल से भारत अभी पदक तालिका में संयुक्त 12वें स्थान पर है. चीन तीन स्वर्ण सहित चार पदक जीतकर शीर्ष पर है.

भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने न्यूजीलैंड को 3-2 से हराया

भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने न्यूजीलैंड को रोमांचक मैच में 3-2 से हराकर अपने अभियान की शानदार शुरुआत की. गोलकीपर पी आर श्रीजेश ने फिर से बेहतरीन खेल दिखाकर भारत की जीत में अहम भूमिका निभायी. न्यूजीलैंड के लिये पहला गोल छठे ही मिनट में पेनल्टी कॉर्नर विशेषज्ञ केन रसेल ने दागा. रूपिंदर पाल सिंह ने दसवें मिनट में पेनल्टी स्ट्रोक पर गोल करके भारत को बराबरी दिलायी.

हरमनप्रीत सिंह ने 26वें और 33वें मिनट में पेनल्टी कॉर्नर पर गोल किये जबकि न्यूजीलैंड के लिये 43वें मिनट में स्टीफन जेनिस ने दूसरा गोल दागा. भारतीय महिला हॉकी टीम का आगाज हालांकि बेहद निराशाजनक रहा. उसे पहले मैच में ही नीदरलैंड से 5-1 से करारी हार का सामना करना पड़ा.

टेनिस कोर्ट पर सुमित नागल ने जीत के साथ शुरुआत की

टेनिस कोर्ट पर सुमित नागल ओलंपिक में पुरुष एकल स्पर्धा में जीत दर्ज करने वाले तीसरे भारतीय खिलाड़ी बने. उन्होंने डेनिस इस्तोमिन को दो घंटे 34 मिनट तक चले मैच में 6-4, 6-7, 6-4 से हराया. दूसरे दौर में उनका सामना दुनिया के दूसरे नंबर के खिलाड़ी दानिल मेदवेदेव से होगा.

निशानेबाजी में भारत को सबसे अधिक निराशा

भारत को सबसे अधिक निराशा निशानेबाजी में लगी. सौरभ चौधरी पुरुषों की 10 मीटर एयर पिस्टल के क्वालीफिकेशन में शीर्ष पर रहने के बावजूद पदक नहीं जीत पाये. वह फाइनल में सातवें स्थान पर रहे. इस स्पर्धा में एक अन्य भारतीय अभिषेक वर्मा तो आठ खिलाड़ियों के फाइनल में भी जगह नहीं बना पाए और 575 अंक के साथ 17वें स्थान पर रहे. महिलाओं की 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा में ओलंपिक में पदार्पण कर रही इलावेनिल वालारिवन और अपूर्वी चंदेला फाइनल्स में भी जगह नहीं बना सकी.

बॉक्सिंग में विकास कृष्ण ने किया निराश

मुक्केबाजी में शनिवार को भारत के एकमात्र मुक्केबाज विकास कृष्ण (69 किग्रा) रिंग पर उतरे लेकिन उन्हें जापान के सेवोनरेट्स क्विन्सी मेनसाह ओकाजावा के खिलाफ 0-5 की एकतरफा हार का सामना करना पड़ा.

तीरंदाजी में मिश्रित युगल में दीपिका और प्रवीण की जोड़ी ओलंपिक से बाहर

तीरंदाजी में मिश्रित युगल में दीपिका कुमारी और प्रवीण जाधव की जोड़ी ने चीनी ताइपै को हराया, लेकिन दक्षिण कोरिया के खिलाफ 2-6 की हार के साथ ओलंपिक सफर से बाहर हो गयीं.

टेबल टेनिस और बैडमिंटन में भारत के लिये आज का दिन मिश्रित सफलता वाला रहा. अचंत शरत कमल और मनिका बत्रा के मिश्रित युगल वर्ग के अंतिम 16 में हारने से भारत का टेबल टेनिस अभियान निराशाजनक तरीके से शुरू हुआ. मनिका और सुतिर्था बनर्जी ने हालांकि एकल मुकाबले जीतकर भारतीय खेमे में खुशी लौटायी. शरत कमल और मनिका की भारतीय जोड़ी को तीसरी वरीयता प्राप्त चीनी ताइपै के लिन युन जू और चेंग आई चिंग से 0-4 से हार का सामना करना पड़ा.

बैडमिंटन में सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी की पुरुष युगल जोड़ी ने ग्रुप ए में दुनिया की तीसरे नंबर की जोड़ी चीनी ताइपै के यांग ली और ची लिन वैंग को कड़े मुकाबले में 21-16, 16-21, 27- 25 से हराया. पुरुष एकल में हालांकि बी साई प्रणीत को इस्राइल के निचली रैंकिंग वाले मीशा जिल्बरमैन से 17-21 15-21 से हार झेलनी पड़ी.

जूडो में भारत की एकमात्र जुडोका सुशीला देवी (48 किग्रा) अपने पहले मुकाबले में ही हंगरी की इवा सेरनोविज्की से हार गई. नौकायन में अरविंद सिंह और अर्जुन लाल जाट तोक्यो ओलंपिक में पुरूषों की लाइटवेट डबलस्कल्स स्पर्धा में अपनी हीट में पांचवें स्थान पर रहकर रेपेशाज दौर में पहुंच गये. दूसरी हीट में उतरी भारतीय जोड़ी ने छह टीमों की स्पर्धा में 6 : 40 . 33 का समय निकाला और सेमीफाइनल में जगह नहीं बना सकी.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें