1. home Hindi News
  2. sports
  3. indian hockey team next target after olympic bronze medal eyes on asian champions trophy aml

ओलंपिक कांस्य पदक के बाद भारतीय हॉकी टीम अगले लक्ष्य की ओर, एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी पर नजर

टीम से गायब प्रमुख नाम डिफेंडर रूपिंदर पाल सिंह और बीरेंद्र लाकड़ा हैं, जो ओलंपिक के बाद सेवानिवृत्त हुए. गोलकीपर पीआर श्रीजेश, जिन्हें कई अन्य सीनियर्स के साथ आराम दिया गया है. अनुभवी फॉरवर्ड आकाशदीप सिंह, जो टोक्यो टीम का हिस्सा नहीं थे, वापसी करेंगे.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Indian hockey team
Indian hockey team
PTI

हाल ही में हुए जूनियर हॉकी विश्व कप में भारतीय हॉकी टीम के सदस्य रोल मॉडल और मेंटर्स की भूमिका निभा रहे थे. भुवनेश्वर में 12 दिवसीय टूर्नामेंट के दौरान कलिंग स्टेडियम में बैठे उनका काम युवाओं को देखना, उनका विश्लेषण करना और उन्हें सलाह देना था. 41 वर्षों में भारत का पहला पोडियम फिनिश टोक्यो ओलंपिक में एक शानदार कांस्य पदक था. सीनियर खिलाड़ी अब भी आनंदित हो रहे होंगे.

अब प्रतियोगिता समाप्त होने के साथ- भारत फ्रांस से कांस्य प्लेऑफ हारने के बाद 16 टीमों में चौथे स्थान पर रहा. मनप्रीत सिंह की अगुवाई वाली वरिष्ठ टीम ने फॉर्म में लौटने पर ध्यान केंद्रित किया है. अपने टोक्यो उच्च के चार महीने बाद, भारतीय हॉकी टीम 14-22 दिसंबर तक ढाका में खेली जाने वाली छह-टीम एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी में प्रतियोगिता में वापसी करेगा. टूर्नामेंट उन्हें 2022 तक एक्शन से भरपूर लय हासिल करने में मदद करेगा.

कप्तान मनप्रीत ने कहा कि टूर्नामेंट बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह ओलंपिक के बाद और नये (ओलंपिक) चक्र में पहली प्रतियोगिता है. अगर हम यहां अच्छा करते हैं, तो आत्मविश्वास का स्तर बढ़ जायेगा. हम इस टूर्नामेंट को हल्के में नहीं ले सकते हैं और सोचते हैं कि हम अगले साल बेहतर प्रदर्शन करेंगे. हमें यहां से शुरुआत करनी होगी क्योंकि इसके बाद प्रो लीग, कॉमनवेल्थ गेम्स और एशियन गेम्स होंगे. इसलिए हमारे शरीर और दिमाग को उसी के अनुसार सेट करने की जरूरत है.

टोक्यो से लौटने के बाद से दस्ते ने दो महीने तक चलने वाले शिविरों में भाग लिया है, पहले बेंगलुरु में और उसके बाद भुवनेश्वर में. शिविरों के दौरान, कई युवाओं ने टीम प्रबंधन को प्रभावित किया, जिसने अगले साल होने वाले दो खेलों से पहले नये चेहरों को परखने का फैसला किया है. इसलिए, टोक्यो में खेलने वाले केवल आठ खिलाड़ी ही ढाका के लिए 20 सदस्यीय टीम का हिस्सा होंगे.

कप्तान ने कहा कि इस टीम का चयन करते समय हमारी नजर भविष्य पर होनी चाहिए. भारत के मुख्य कोच ग्राहम रीड, जो जूनियर विश्व कप टीम के प्रभारी भी थे ने कहा कि निरंतर सफलता बनाने के लिए एक गहरी और मजबूत टीम की आवश्यकता होती है. इसलिए खिलाड़ियों को प्रदर्शन करने के अवसर दिए जाने चाहिए. हमने एक ऐसी टीम चुनी है जिसके पास अनुभव और युवा लोगों का अच्छा मिश्रण है. जिनके पास यह दिखाने का मौका होगा कि वे क्या कर सकते हैं.

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें