1. home Hindi News
  2. religion
  3. surya grahan solar eclipse june 2020 date and time timings in india surya grahan kab lagega padega samay or kab ka pad rha hai sutak timing rashi impact and many more check here

Surya Grahan 2020: सूर्य ग्रहण हो गया खत्म, जानिए कहां और किस रंग में देखा गया ग्रहण

By SumitKumar Verma
Updated Date

Surya Grahan June 2020 Date and Time, Timings in India, Bihar, Jharkhand, Delhi, Uttar Pradesh, Surya Grahan Kab Lagega, Padega, Samay or Kab Ka Pad Raha Hai: भारत में आज का दिन 21 जून 2020 बेहद खास है. धरती से लेकर अंतरिक्ष तक में खास इंवेट होने वाला है. वर्ष का सबसे बड़ा दिन इसी दिन है. वहीं, विशेष आकार के साथ सूर्य ग्रहण (Surya Grahan 2020) भी इसी दिन दिखेगा. विज्ञान के साथ-साथ इसकी कई धार्मिक मान्यताएं है. ज्यादातर लोग राशियों पर इसके प्रभाव (surya grahan effect on rashi 2020) को जानना चाह रहे हैं. यही नहीं लोग यह भी जानना चाह रहे कि सोलर इक्लिपस (solar eclipse 2020) उनके लिए कितना हानिकारक (solar eclipse harmful effects) है, क्या है इसके पीछे खगोलीय रहस्य, इस दौरान क्या करना चाहिए और क्या नहीं (surya grahan me kya kare kya nahi). सूर्य ग्रहण हो चुका है. जानिए आपके शहर में सूर्य ग्रहण की समाप्ति कितने बजे हुई...

email
TwitterFacebookemailemail

जानिए कहां खत्म हो चुका है सूर्य ग्रहण

दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद, बंगलौर, चेन्नई, कोलकाता, अहमदाबाद, पुणे, सिरसा, टिहरी में सूर्य ग्रहण की समाप्ति हो चुकी है.

email
TwitterFacebookemailemail

सदी का दुर्लभ और साल का पहला सूर्य ग्रहण अब हो रहा समाप्त

सदी का दुर्लभ और साल का पहला सूर्य ग्रहण समाप्त होने जा रहा है. दोपहर 03 बजकर 15 मिनट पर खत्म हो जाएगा. इस ग्रहण का अद्भुत और अभूतपूर्व नजरा राजधानी दिल्ली समेत सभी महानगरों में देखने को मिला. ग्रहण का समय शुरू होते ही धीरे-धीरे आसमान का नजारा बदलने लगा.

email
TwitterFacebookemailemail

जानें- किस शहर में कितने बजे से सू्र्य ग्रहण

दिल्ली में सूर्यग्रहण की समाप्ति 01 बजकर 49 मिनट पर

मुंबई में सूर्यग्रहण की समाप्ति 01 बजकर 28 मिनट पर

चेन्नई में सूर्यग्रहण की समाप्ति 01 बजकर 42 मिनट पर

लखनऊ में सूर्यग्रहण की समाप्ति 01 बजकर 59 मिनट पर

पटना में सूर्यग्रहण की समाप्ति 02 बजकर 10 मिनट पर

अहमदाबाद में सूर्यग्रहण की समाप्ति 01 बजकर 31 मिनट पर

देहरादून में सूर्यग्रहण की समाप्ति 01 बजकर 51 मिनट पर

आगरा में सूर्यग्रहण की समाप्ति 01 बजकर 51 मिनट पर

शिमला में सूर्यग्रहण की समाप्ति 01 बजकर 48 मिनट पर

चेन्नई में सूर्यग्रहण की समाप्ति 01 बजकर 42 मिनट पर

कोलकाता में सूर्यग्रहण की समाप्ति 02 बजकर 17 मिनट पर

विशाखापट्टनम में सूर्यग्रहण समय सुबह 02 बजकर 00 मिनट पर

email
TwitterFacebookemailemail

बिहार में बादलों के बीच लुका-छिपी कर रहा सूर्य

बिहार में मानसून के बादलों के बीच सूर्य लुकाछिपी कर रहा है. पटना में यह बदलों के बाइच से दिख रहा है, फिर बादल इसे ढक जा रहे हैं

email
TwitterFacebookemailemail

पंजाब के आसमान में दिखा ऐसा नजारा

email
TwitterFacebookemailemail

पंजाब के आसमान में दिखा ऐसा नजारापंजाब के आसमान में दिखा ऐसा नजारा

email
TwitterFacebookemailemail

एथोपिया में दिखा सूर्य ग्रहण का अलग नजारा...

email
TwitterFacebookemailemail

देखिए अमृतसर में कैसा दिखा नजारा

सूर्य ग्रहण को नग्न आंखों से नहीं देखना चाहिए. कहा जाता है कि इससे हमारी आंखो को नुकसान पहुंच सकता है. इसलिए इसे देखने के लिए टेलीस्कोप या सोलर फिल्टर चश्में का उपयोग किया जाता है.

देश की राजधानी दिल्ली के आसमान में इस तरह दिखा सूर्य ग्रहण

email
TwitterFacebookemailemail

जानें पटना में कब दिखेगा रिंग ऑफ फायर

पटना में सूर्यग्रहण सुबह 10.37 बजे से शुरू हो चुका है. पटना में सूर्यग्रहण 12.25 बजे अपने चरम स्थिति में रहेगा. पटना में 12 बजकर 25 मिनट पर रिंग ऑफ फायर दिखेगा. वहीं, दोपहर 2.09 बजे (2.09 PM) में खत्‍म होगा. इस तरह, राजधानी पटना में सूर्यग्रहण तीन घंटा 33 मिनट तक दिखेगा. इस दौरान लोगों को नंगी आंखों से देखने की मनाही की गई है.

email
TwitterFacebookemailemail

पंजाब: अमृतसर के आसमान में देखा गया इस तरह का सूर्य ग्रहण

email
TwitterFacebookemailemail

सूर्यग्रहण पाकिस्तान के कराची में देखा गया. पाकिस्तान के मौसम विभाग के अनुसार, सूर्य ग्रहण, जो स्थानीय समयानुसार सुबह 8:46 बजे शुरू हुआ, 2:34 बजे सबसे बड़े ग्रहण के साथ 11:40 बजे समाप्त होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

लग चुका है इस साल का सबसे लंबा सूर्य ग्रहण

इस समय साल का सबसे लंबा सूर्य ग्रहण लग चुका है. इस सूर्य ग्रहण को लेकर सरकार ने भी लोगों को सावधानी बरतने की सलाह दी है. बता दें कि यह एक वलयाकार सूर्य ग्रहण है, जिसमें सूर्य किसी चमकीले छल्ले की तरह नजर आता है. इस दौरान सूर्य का करीब 99 प्रतिशत हिस्सा चंद्रमा की छाया में छिप जाता है.

email
TwitterFacebookemailemail

अब कुछ ही देर में देखने को मिलेगा ग्रहण का अनोखा नजारा

मुंबई, दिल्ली और नोएडा जैसे महानगरों में इस समय सूर्य ग्रहण लग चुका है. जैसे-जैसे समय आगे बढ़ रहा है वैसे ही देश के अन्य हिस्सों में भी ग्रहण का अनोखा नजारा देखने को मिल रहा है. यह ग्रहण दोपह के 3 बजे तक रहेगा. अब बस कुछ ही देर में रिंग ऑफ फायर का नजारा देखने को मिलेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

रिंग ऑफ फायर के लिए करना होगा थोड़ा और इंतजार

सूर्य ग्रहण कई जगहों पर देखा जा रहा है. अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलक प्रकार के देखने को मिल रहा है. सूर्य ग्रहण होने में कम से कम 1 घंटा बीत चुका है. अब से थोड़ी देर बाद आप रिंग ऑफ फायर का अनोखा नजारा देख सकेंगे. रिंग ऑफ फायर में चांद करीब 99 प्रतिशत सूर्य का भाग ढक जाता है. जिस कारण सूर्य के किनारे रिंग के आकार की आकृति दिखाई देने लगती है.

email
TwitterFacebookemailemail

महाराष्ट्र: मुंबई के आसमान में देखा गया इस तरह का सूर्य ग्रहण

email
TwitterFacebookemailemail

महाराष्ट्र: मुंबई के आसमान में देखा गया इस तरह का सूर्य ग्रहणलग चुका है सदी का सबसे बड़ा ग्रहण, भूलकर भी न करें ये गलती

पूरे देश में सूर्य ग्रहण लग चुका है. देश के अलग-अलग हिस्सों में सूर्य ग्रहण आप टीवी चैनलों पर देख सकते है. यूं तो चांद का ज्यादातर हिस्सा छिप जाएगा लेकिन फिर भी इसे नंगी आंखों से नहीं देखा जाना चाहिए. एक्सपर्ट्स का कहना है कि सोलर व्यूइंग ग्लासेज (Solar viewing glasses) या टेलिस्कोप-दूरबीन जैसे स्पेशल फिल्टर्स का इस्तेमाल करना चाहिए. सूरज को सीधे देखने से आंखों का पर्दा खराब हो सकता है और हमेशा के लिए आंखों की रोशनी जा सकती है.

email
TwitterFacebookemailemail

जानें- किस शहर में कितने बजे से सू्र्य ग्रहण

दिल्ली सूर्यग्रहण समय सुबह 10 बजकर 20 मिनट से

मुंबई सूर्यग्रहण समय सुबह 10 बजकर 43 सेकंड से

चेन्नई सूर्यग्रहण समय सुबह 10 बजकर 22 मिनट से

लखनऊ सूर्यग्रहण समय सुबह 10 बजकर 26 मिनट से

कानपुर सूर्यग्रहण समय सुबह 10 बजकर 24 मिनट से

कुरुक्षेत्र सूर्यग्रहण समय सुबह 10 बजकर 21 मिनट से

पटना सूर्यग्रहण समय सुबह 10 बजकर 37 मिनट से

आगरा सूर्यग्रहण समय सुबह 10 बजकर 20 मिनट से

देहरादून सूर्यग्रहण समय सुबह 10 बजकर 24 मिनट से

शिमला सूर्यग्रहण समय सुबह 10 बजकर 23 मिनट से

कोलकाता सूर्यग्रहण समय सुबह 10 बजकर 46 मिनट से

विशाखापट्टनम सूर्यग्रहण समय सुबह 10 बजकर 30 मिनट से

email
TwitterFacebookemailemail

यह ग्रहण शुभ नहीं है

कई ज्योतिषाचार्यों के अनुसार यह सूर्य ग्रहण अशुभ योग में घटित हो रहा है, जिस कारण से दुनिया में महामाही और तनाव के बढ़ने का अंदेशा है. ज्योतिषाचार्यों का मानना है कि इस सूर्य ग्रहण का प्रभाव लोगों के जीवन में पड़ेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

कुछ ही देर में ग्रहण होगा शुरू

सूर्य ग्रहण अब कुछ ही देर में दिखेगा, अब कुछ ही मिनट बाकी है. ग्रहण धीरे-धीरे आंशिक सूर्य ग्रहण के तौर लगना शुरू होगा. फिर जैसे जैसे समय बीतेगा तब ग्रहण अपने चरम की तरफ बढ़ना शुरू हो जाएगा. दोपहर के समय पर सूर्य अंगूठी की भांति चमकता हुआ दिखाई देगा.

email
TwitterFacebookemailemail

आंख के रोगी ग्रहण ना देखें

सूर्य ग्रहण की शुरुआत हो गई है. सूर्य ग्रहण को ना देखे तो ही अच्छा रहेगा. आंख क रोगी इस ग्रहण का बिलकुल ही ना देखें, नहीं तो आंख को नुकसान पहुंच सकती है.

email
TwitterFacebookemailemail

नग्न आंखों से ना देखें सूर्य ग्रहण

सूर्य ग्रहण को नग्न आंखों से नहीं देखना चाहिए. विज्ञान के अनुसार नग्न आंखों से सूर्य ग्रहण देखना आंखों के लिए हानिकारक हो सकता है. सोलर फिल्टर चश्मे या फिर टेलीस्कोप की मदद से सूर्य ग्रहण देख सकते हैं. इसके अलावा सूर्य ग्रहण देखने के लिए बाजार में कई सर्टिफाइड चश्में उपलब्ध हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

बस आप हो जाइए तैयार, अब शुरू होगा ग्रहण

अब चंद मिनटों में ग्रहण शुरू हो जाएगा. ग्रहण 09 बजकर 15 मिनट पर लगेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

विशेष टेलीस्कोप से सूर्यग्रहण को रिकॉर्ड किया जाएगा

लद्दाख में तनाव के बीच एलएसी से सटा हनले गांव में सूर्यग्रहण की खगोलीय घटना को अन्य क्षेत्रों की तुलना में ज्यादा साफ और करीब से दिखेगा. एलएसी से कुछ ही किलोमीटर की दूरी पर स्थित इंडियन एस्ट्रोनॉमिकल ऑब्जर्वेटरी हनले में विशेष टेलीस्कोप से सूर्यग्रहण को रिकॉर्ड किया जाएगा.

email
TwitterFacebookemailemail

बस कुछ ही देर में शुरू होगा ग्रहण

इस साल का पहला सूर्यग्रहण बस कुछ ही देर में लगने जा रहा है. ऐसा नजारा धरती पर कम ही देखने को मिलता है. आज सूर्य एक चमकती अंगूठी की तरह दिखेंगे. ये न तो आंशिक ग्रहण होगा और न ही पूर्ण. यह ग्रहण उत्तर भारत में दिखाई देगा. राजस्थान, हरियाणा, उत्तराखंड, कुरूक्षेत्र, चमौली, सिरसा, सूरतगढ़ में भी इसे देखा जा सकेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

दुर्लभ खगोलीय घटना

आज सूर्य ग्रहण लग रहा है. बस अब कुछ ही देर में शुरू हो जाएगा. इसे लेकर विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय का कहना है कि यह एक दुर्लभ खगोलीय घटना है. यह साल का पहला सूर्य ग्रहण होगा. इसे रिंग्स ऑफ फायर ग्रहण के नाम से भी जाना जाता है. साल का पहला सूर्य ग्रहण ग्रीष्म संक्रांति में लग रहा है.

email
TwitterFacebookemailemail

सूर्यग्रहण का केन्द्र होगा कुरुक्षेत्र

इस साल का पहला सूर्यग्रहण भारत के साथ दक्षिण पूर्व यूरोप और पूरे एशिया में दिखाई देगा. सूर्यग्रहण का केन्द्र हरियाणा राज्य के कुरुक्षेत्र में होगा. यह सूर्यग्रहण मिथुन राशि मंगल के मृगशिरा नक्षत्र में लगने जा रहा है जो कि 03 घंटे 25 मिनट और 17 सेकण्ड तक चलेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

जानें भारत में सबसे पहले कहा दिखेगा सूर्य ग्रहण

अब थोड़ी ही देर में सूर्य ग्रहण शुरू हो जाएगा. भारत में सबसे पहले मुंबई और पुणे में दिखेगा. मुंबई और पुणे में सुबह 10.01 बजे दिखेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

भारत के अलावा यहां देखने को मिलेगा ग्रहण का नजारा

भारत के अलावा यह ग्रहण एशिया के कई हिस्सों,अफ्रीका, यूरोप और ऑस्ट्रेलिया में भी देखा जा सकेगा. सूर्य ग्रहण आज कुछ ही देर में 10 बजकर 15 मिनट से शुरू हो जाएगा और दोपहर 12 बजकर 10 मिनट पर प्रभाव अधिक रहेगा और दोपहर 3 बजकर 4 मिनट पर सूर्य ग्रहण खत्म हो जाएगा.

email
TwitterFacebookemailemail

कुछ ही देर में शुरू होगा ग्रहण, घरों से न निकले बाहर

कुछ ही देर में सूर्य ग्रहण शुरू होगा. आप अपने घरों से बाहर न निकले. इस दौरान अपना ध्यान भगवान की भक्ति में लगाएं. सूर्य ग्रहण के दौरान सूर्य से निकलने वाली किरणे नुकसानदेह होती है.

email
TwitterFacebookemailemail

कुछ ही देर में शुरू होगा ग्रहण

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सूर्य ग्रहण के सूतक काल इस समय लगा हुआ है. कुछ ही देर में सूर्य ग्रहण लगेगा. इस दौरान आप भगवान की मूर्तियों को स्पर्श नहीं करें. 09 बजकर 15 मिनट पर ग्रहण प्रारंभ हो जाएगा.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण काल में निषेध कार्य करने से घर में होता है क्लेश

अशांति और अवनति का वातावरण बनता है, ग्रहण काल में निषेध कार्यों को करने से शारीरिक और मानसिक समस्याएं आती हैं. साथ ही घर में क्लेश, अशांति और अवनति का वातावरण बनता है. इससे बचने के लिए शास्त्रों में बताए गए नियमों का पालन करना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

इन राशि वालों को मिलेगा लाभ

आषाढ़ मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या आज लगने वाला सूर्य ग्रहण मृगशिरा नक्षत्र में पड़ेगा. कन्या, मिथुन व मीन राशि के लिए यह लाभप्रद होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण को देखने के लिए सोलर फिल्टर ग्लास वाले चश्में का करें इस्तेमाल

आज 09 बजकर 15 मिनट पर सूर्य ग्रहण लगेगा. इस समय अपको खास ध्यान देने की जरूरत होगी. बच्चों से लेकर बड़ों तक कोई भी इस ग्रहण को नंगी आंख से न देखें. नासा के अनुसार, सूर्य ग्रहण को देखने के लिए सोलर फिल्टर ग्लास वाले चश्में का इस्तेमाल करें.

email
TwitterFacebookemailemail

भूलकर भी न करें ये गलती

नग्न आंखों से ग्रहण देखने पर आंखों को नुकसान पहुंच सकता है, इसलिए दूरबीन, टेलीस्कोप, ऑप्टिकल कैमरा व्यूफाइंडर से सूर्य ग्रहण को देखना सुरक्षित है.

email
TwitterFacebookemailemail

21 जून को सूर्य ग्रहण का समय

  • 9:15 पूर्वाह्न आंशिक ग्रहण शुरू

  • 10:17 पूर्वाह्न पूर्ण ग्रहण शुरू

  • 12:10 अपराह्न अधिकतम ग्रहण

  • 2:02 बजे पूर्ण ग्रहण समाप्त

  • 3:04 बजे आंशिक ग्रहण समाप्त

email
TwitterFacebookemailemail

आज रात में लगेगा ग्रहण सूतक काल

कल लगने वाले ग्रहण का सूतक काल आज रात 09:15 बजे लगेगा. सूतक काल सूर्य ग्रहण के 12 घंटे पहले ही लग जाएगा. प्रमुख मंदिर और धार्मिक स्थल सूतक काल के दौरान बंद रहेंगे. सूतक लगने से पहले खाने-पीने के समानों में तुलसी पत्ती डाल देनी चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

विज्ञान के अनुसार कैसे लगता है सूर्य और चंद्र ग्रहण

विज्ञान के अनुसार पृथ्वी सूर्य की परिक्रमा करती है, जबकि चंद्रमा पृथ्वी के चारों ओर घूमता है. पृथ्वी और चंद्रमा घूमते-घूमते एक समय पर ऐसे स्थान पर आ जाते हैं जब सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा तीनों एक सीध में हो जाते हैं, जब पृथ्वी घूमते-घूमते सूर्य व चंद्रमा के बीच में आ जाती है. चंद्रमा की इस स्थिति में पृथ्वी की ओट में पूरी तरह छिप जाता है और उस पर सूर्य की रोशनी नहीं पड़ पाती है इसे चंद्र ग्रहण कहते है. वहीं, जब चंद्रमा सूर्य और पृथ्वी के बीच में आ जाती है और वह सूर्य को ढक लेता है तो इसे सूर्य ग्रहण कहते है.

email
TwitterFacebookemailemail

एक के बाद एक लग रहे हैं तीन ग्रहण

  • 05 जून 2020, चंद्र ग्रहण : 05 जून की रात्रि को 11 बजकर 16 मिनट से 6 जून को 2 बजकर 34 मिनट तक रहा, ये उपच्छाया ग्रहण था. ये ग्रहण भारत, यूरोप, अफ्रीक, एशिया और ऑस्ट्रेलिया में दिखाई दिया, उपच्छाया चंद्र ग्रहण होने के कारण सूतक काल का प्रभाव कम रहा.

  • 21 जून 2020, सूर्य ग्रहण : 21 जून की सुबह 9 बजकर 15 मिनट से दोपहर 15 बजकर 04 मिनट तक रहेगा, यह वलयाकार सूर्य ग्रहण रहेगा. दोपहर 12 बजकर 10 मिनट पर इस ग्रहण का सबसे ज्यादा प्रभाव रहेगा. इसे भारत समेतदक्षिण पूर्व यूरोप, हिंद महासागर, प्रशांत महासागर, अफ्रीका और उत्तरी अमेरिका और दक्षिण अमेरिका के प्रमुख हिस्सों में देखा जा सकेगा.

  • 05 जुलाई 2020, चंद्र ग्रहण : सुबह 08 बजकर 38 मिनट से 11 बजकर 21 मिनट तक रहेगा, ये उपच्छाया ग्रहण होगा. जिसके कारण इसका प्रभाव भारत में बहुत कम रहेगा. इस दिन लगने वाला ग्रहण अमेरिका, दक्षिण-पश्चिम यूरोप और अफ्रीका के कुछ हिस्से में दिखाई देगा.

email
TwitterFacebookemailemail

30 दिन के अंदर ही लगे रहे हैं 3 ग्रहण

30 दिनों के अंतराल में तीन ग्रहण देखने को मिलेंगे. 5 जून की चंद्रग्रहण लगा, फिर 21 जून को सूर्य ग्रहण और 5 जुलाई को चंद्रग्रहण लगेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण के दौरान अनजानी शक्तियां होती है प्रभावी

ग्रहण के दौरान अनजानी शक्तियां प्रभावी हो जाती हैं. बेहतर होगा कि ग्रहण के दौरान किसी भी सुनसान या श्मशान जैसी जगहों से जाने से बचें. यह शक्तियां किसी को भी नुकसान पहुंचा सकती हैं. ग्रहण के दौरान घर पर ही पूजा करें. वहीं, इस दौरान अपने घरों में ही रहना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण का क्या है वैज्ञानिक पहलू

ग्रहण का वैज्ञानिक पहलू भी है. माना जाता है कि ग्रहण के दौरान नकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है. इस दौरान अल्ट्रावॉयलेट किरणें निकलती हैं जो एंजाइम सिस्टम को प्रभावित करती हैं, इसलिए ग्रहण के दौरान सावधानी बरतने की जरूरत होती है.

email
TwitterFacebookemailemail

इस मंत्र के जाप से होगी पुण्य की प्राप्ति

"गंगे च यमुने चैव गोदावरी सरस्वती नर्मदा सिंधु कावेरी जलेस्मिन सन्निधिम कुरु...।"

हाथ में जल लेकर मंत्रोच्चार करें और जल को संपूर्ण जल पात्र में मिला दें. इससे समस्त नदियों में स्नान का पुण्य प्राप्त होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

योगा दिवस मनाने के दौरान नजर आएगा सूर्य ग्रहण

जब भारत में 21 जून को छठा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाएगा उसी दौरान सूर्य ग्रहण नजर आएगा.

email
TwitterFacebookemailemail

अमेरिकी संस्था ने कहा है ग्रहण के दौराम कार या वाहन न चलाएं

एक अमेरिकी संस्था के अनुसार, ग्रहण के वक्त कार/अन्य वाहन न चलाएं. लेकिन यदि कोई ग्रहण के वक्त रास्ते में ही है तो वह अपने वाहन की हेडलाइट जलाकर और अन्य वाहनों से कुछ दूरी बनाकर ही वाहन चलाए. ड्राइविंग में विशेष सावधानी बरतने की हिदायत है.

email
TwitterFacebookemailemail

सूर्य ग्रहण का है पाचन शक्ति से संबंध

सूर्य ग्रहण का हमारी पाचन शक्ति से भी संबंध बताया जाता है. कहते हैं कि सूर्य ग्रहण के दौरान खाया गए खाद्य पदार्थ को पचाने में काफी दिक्कत होती है. इसलिए सूतक और ग्रहण के दौरान खाने-पीने की मनाही की गई है. इस दौरान सूर्य से निकलने वाली दूषित किरणों से खाद्य सामग्री भी दूषित हो जाती है.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण को देखने के लिए सोलर फिल्टर ग्लास वाले चश्में का करें इस्तेमाल

बच्चों से लेकर बड़ों तक कोई भी इस ग्रहण को नंगी आंख से न देखें. नासा के अनुसार, सूर्य ग्रहण को देखने के लिए सोलर फिल्टर ग्लास वाले चश्में का इस्तेमाल करें.

email
TwitterFacebookemailemail

कहां कहां दिखाई देगा सूर्यग्रहण

यह सूर्य ग्रहण भारत, नेपाल, पाकिस्तान, सऊदी अरब, यूऐई, एथोपिया तथा कोंगों में दिखाई देगा. देहरादून, सिरसा तथा टिहरी कुछ प्रसिद्ध शहर हैं जहाँ पर वलयाकार सूर्यग्रहण दिखाई देगा.

email
TwitterFacebookemailemail

एक साथ छह ग्रह होंगे वक्री

मेष, सिंह, कन्या, मकर राशि पर शुभ, वृषभ, तुला, धनु, कुंभ राशि पर मध्यम और मिथुन, कर्क, वृश्चिक, मीन राशि पर उसके अशुभ प्रभाव रहेंगे. इस ग्रहण के अवधि काल में एक साथ छह ग्रह वक्री रहेंगे. इसमें बुध, बृहस्पति, शुक्र, शनि, राहु, केतु हैं. ये ग्रह 21 जून को वक्री रहेंगे.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण के दौरान महामृत्युंजय मंत्र का करें जाप

ग्रहण के दौरान आप दीपक जलाकर गायत्री मंत्र या महामृत्युंजय मंत्र का जाप करते रहें. ये जाप आपके संकटों को दूर कर देगा.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण के दौरान बीज मंत्र का जाप करें

सूर्य ग्रहण के समय किसी भी ईश्वर के बीज मंत्र का जाप करें. इसके साथ चालीसा पढ़ना और भजन कीर्तन करना चाहिए. इस दौरान ध्यान रखें कि भगवान की प्रतिमा को न छूएं.

email
TwitterFacebookemailemail

सूर्यग्रहण के दौरान इन मंत्रों का करें जाप

सूर्य ग्रहण के समय “ऊँ ह्रां ह्रीं ह्रौं स: सूर्याय: नम:” और “ऊँ घृणि: सूर्याय नम:” मंत्र का जाप करते रहें.

email
TwitterFacebookemailemail

लाल वस्तुएं दान करने से बचें

याद रखें जिस जातक की कुंडली में सूर्य उच्च हो तो उससे लाल वस्तुओं का दान नही करना चाहिए. ऐसे जातक अन्न, वस्त्र, फल, पीली मिठाई आदि का दान कर सकते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

सूर्यग्रहण के पहले और बाद में करें ये काम

सूर्य ग्रहण काल के दौरान तुलसी के पौधे को न छूएं, बल्कि ग्रहण शुरू होने से पहले तुलसी के पत्तों का बचे हुए खाने में डाल दें. इससे ग्रहण का प्रभाव बचे भोजन पर नहीं पड़ता. वहीं जब ग्रहण खत्म हो जाए तो तुलसी पर भी गंगाजल छिड़ककर शुद्ध कर दें.

email
TwitterFacebookemailemail

इस साल लग रहे हैं कुल पांच ग्रहण

आज रात में चंद्र ग्रहण लगेगा. इस साल कुल पांच ग्रहण लग रहे हैं. इनमें से दो ग्रहण जून महीने में पड़ रहे हैं. वहीं, एक ग्रहण जनवरी में लग चुका है, और दूसरा चंद्रग्रहण 5 जून को लगा था. इस बार लगातार तीन ग्रहण लग रहे है. एक ग्रहण 5 जून को लग चुका है, वहीं दूसरा ग्रहण कल यानी 21 जून को लग रहा है. इसके बाद फिर एक ग्रहण 05 जुलाई को लगेगा. इसलिए ज्योतिषियों के लिए यह थोड़ा चिंता का विषय बना हुआ है. वहीं, 21 जून को लगने वाला सूर्य ग्रहण बड़ा सूर्य ग्रहण होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण काल में रखें ये सावधानियां

ग्रहणकाल में प्रकृति में कई तरह की अशुद्ध और हानिकारक किरणों का प्रभाव पड़ता है. इसलिए कई ऐसे कार्य हैं, जिन्हें ग्रहण काल के दौरान नहीं किया जाता है.

- ग्रहणकाल में गर्भवती महिलाओं को कैंची, सूई, चाकू या धारदार चीजों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.

- ग्रहणकाल में स्नान न करें. ग्रहण समाप्ति के बाद स्नान करें.

email
TwitterFacebookemailemail

सूर्यग्रहण का प्रभाव

इस बार सूर्यग्रहण रविवार को पड़ रहा है, इसलिए यह अंदेशा लगाया जा रहा है कि इससे गेहूं के उत्पाद में कमी के अलावा धान एवं अन्य अनाजों की उपज पर असर होगा. इसके अलावा गाय के दूध का उत्पाद भी कम हो सकता है.

email
TwitterFacebookemailemail

सूर्य ग्रहण क्या है (Surya Grahan kya hai) ?

जिस तरह चंद्र ग्रहण के दौरान चांद और सूर्य के बीच जब पृथ्वी आ जाता है ठीक उसी तरह जब सूर्य व पृथ्वी के बीच में चन्द्रमा आ जाता है तो यह सूर्य ग्रहण (Surya Grahan) पड़ता है. इस दौरान चन्द्रमा के पीछे सूर्य का बिम्ब कुछ समय के लिए नहीं पहुंच पाता. जिसके कारण यह घटना घटती है. आपको बता दें कि पृथ्वी सूर्य तो चांद पृथ्वी की परिक्रमा करते हुए इस स्थिति में आ जाता है. कुछ समय चांद, सूरज और धरती के बीच आ जाता है और सूरज की किरणों को पूरी तरह से रोक लेता है जिसके कारण धरती पर रोशनी नहीं पड़ पाती और अंधेरा छा जाता है. इस घटना को भी सूर्य ग्रहण कहा जाता है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार यह हर अमावस्या को होता है.

email
TwitterFacebookemailemail

इस बार कैसा रहेगा सूर्य ग्रहण (Surya Grahan)

21 जून को पड़ने वाला ग्रहण एक वलयाकार सूर्य ग्रहण है अर्थात इस दौरान चंद्रमा की छाया सूर्य के 99 प्रतिशत हिस्से को ढक लेगी. और अपने छाया से सूर्य के केन्द्र के साथ मिलकर एक वलयाकार आकृति बनायेगी. जिसके कारण धरती से सूर्य का शेष भाग सोने के कंगन की तरह चमकता दिखेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

क्या है सूतक ग्रहण (sutak kal surya grahan) और कब लगेगा (surya grahan sutak kaal kab hoga)

21 जून को पड़ने वाले सूर्य ग्रहण के दिन भी सूतक काल पड़ने वाला है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार यह अशुभ माना जाता है. पंडित सुनिल सिंह की मानें तो ग्रहण से 12 घंटे पूर्व सूतक काल चालू हो जायेगा. हालांकि, यह बच्चों, बृद्धों और बीमार लोगों के लिए सूतक 21 जून की सुबह 05 बजकर 08 मीनट से शुरू होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

सूर्य ग्रहण का सही समय (Surya grahan timing)

21 जून का सूर्य ग्रहण सुबह 10:31 बजे शुरू होगा, जो दोपहर 02:04 बजे तक रहेगा. कुल 03 घंटे 33 मिनट के इस ग्रहण में यह 12:18 PM में सर्वाधिक प्रभाव में रहेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

रशियों पर इसका प्रभाव (surya grahan effect on rashi 2020)

- ज्योतिष विशेषज्ञों के अनुसार मिथुन राशि वालों पर इसका प्रभाव पड़ने वाला है.

- सूर्य ग्रहण के दौरान मंगल ग्रह मीन में स्थित होकर सूर्य, चंद्रमा, बुध और राहू को देखेगा. यही कारण है कि इससे अशुभ स्थिति उत्पन्न होगी.

- धर्म गुरूओं की मानें तो इस अवधि में कुल 6 ग्रह वक्री अवस्था में रहेंगे जो बेहद अशुभ है.

- पंडित सुनिल सिंह की मानें तो इससे प्राकृतिक आपदाओं का खतरा हो सकता है. इसका प्रभाव पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका समेत भारत में पड़ सकता है. कोरोना महासंकट के बीच लोगों को जन-धन की हानि हो सकती है. यही नहीं जून के अंतिम सप्ताह में प्रलयकारी तूफान व भयंकर वर्षा और बाढ़ जैसी आपदाएं भी आने की संभावना है.

- मेष, सिंह, कन्या, मकर और मीन राशि वालों के लिए यह ग्रहण मंगलकारी और फलदायी बताया जा रहा है.

- वहीं, वृष, तुला, धनु राशि वालों को इससे थोड़ा प्रभाव पड़ने की उम्मीद है.

email
TwitterFacebookemailemail

कैसे देखें सूर्य ग्रहण (surya grahan ko kaise dekhe)

- सूर्य ग्रहण के दौरान सीधे सूर्य को कभी नहीं देखना चाहिए. यह आपके आंखों को नुकसान पहुंचा सकता है. अगर ग्रहण के बाद आपको कोई ऐसे लक्षण दिखे तो फौरन डॉक्टर को अपना आंख दिखवाना चाहिए.

- नंगी आंखों से देखने से आप अंधापन या रेटिनल जलन के शिकार हो सकते हैं. इसके संपर्क में आने से रेटिना (आंख के पिछले हिस्से) में क्षति हो सकती है या आंखों से संबंधी कोशिकाएं नष्ट हो सकती हैं.

- कोशिश करें की सुरक्षा उपकरण या तकनीकों का उपयोग करके ही ग्रहण देखें.

- इसके लिए सन ग्लास ऑनलाइन वीडियो स्ट्रीमिंग आदि का सहाया ले करते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

सूर्य ग्रहण के दौरान क्या करें क्या नहीं (surya grahan me kya kare kya nahi)

- ग्रहण का सूतक काल 20 जून रात 9 बजकर 25 मिनट से शुरू हो जाएगा. ऐसे में पंडित सुनिल सिंह बताते हैं कि इस दौरान घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए. विशेष जरूरत पड़ने पर ही जाएं.

- सुनसान जगहों पर न जाएं. और कोशिश करें कि ग्रहण से 12 घंटे पूर्व भोजन कर लें.

- बच्चे, बूढ़े, बीमार लोग व गर्भवती महिलाएं ग्रहण से चार घंटे पूर्व भी खा सकते हैं.

- याद रहे कि ग्रहण से पूर्व खाने में तुलसी की पत्तियां डाल दें और नहीं तो इसे समाप्त कर जाएं.

- ग्रहण के बाद स्नान करना न भूलें.

- कोशिश करें कि ग्रहण के बाद पूरे घर की शुद्धि गंगा जल से कर दें.

- इस दौरान दान करने से भी लाभ होता है.

- संभव हो तो घर में पीने का पानी भी बदल दें. हालांकि, इसकी बर्बादी न करें बल्कि दूसरे कामों में प्रयोग में लाएं

email
TwitterFacebookemailemail

Posted By : Sumit Kumar Verma

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें