1. home Home
  2. religion
  3. surya grahan 2021 amazing combination of shani amavasya and solar eclipse effect on different zodiac signs sry

Surya Grahan 2021: शनि अमावस्या पर लगेगा सूर्य ग्रहण, बन रहा है ये संयोग

4 दिसंबर 2021 को साल का आखिरी सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है। बता दें कि चंद्र ग्रहण के ठीक 15 दिन बाद मार्गशीर्ष अमावस्या के दिन सूर्य ग्रहण लग रहा है. यह सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा और इसलिए इस बार कोई सूतक काल भी मान्य नहीं होगा.

By Shaurya Punj
Updated Date
amazing combination of shani amavasya and solar eclipse
amazing combination of shani amavasya and solar eclipse
Prabhat Khabar Graphics

साल का आखिरी ग्रहण (Surya Grahan 2021) 04 दिसंबर 2021 को लगने जा रहा है. जब चन्द्रमा, पृथ्वी और सूर्य के मध्य से होकर गुजरता है और पृथ्वी से देखने पर सूर्य पूर्ण या आंशिक रूप से ढक जाता है, तब सूर्यग्रहण लगता है. इस बार सूर्य आंशिक रूप से ढका हुआ दिखाई देगा और आंशिक रूप से ग्रहण को 'खण्डग्रास ग्रहण' कहते हैं.

सूर्य ग्रहण का समय

सूर्य ग्रहण की तिथि: 4 दिसंबर, शनिवार.

सूर्य ग्रहण का आरंभ: प्रातः10:59 बजे से,

सूर्य ग्रहण समाप्त: दोपहर 03:07 मिनट पर.

कहां-कहां लगेगा सूर्य ग्रहण

भारत में इस सूर्यग्रहण (Surya Grahan 2021) को नहीं देखा जा सकेगा. साल 2021 का दूसरा और आखिरी सूर्य ग्रहण 04 दिसंबर को अंटार्कटिका, दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अमेरिका में देखा जा सकेगा.

क्यों खास है ये सूर्य ग्रहण?

इस ग्रहण में सूर्य (Surya Grahan 2021) का संयोग केतु से बनने जा रहा है. साथ ही इस ग्रहण में चन्द्रमा और बुध का योग भी होगा. सूर्य और केतु का प्रभाव होने से दुर्घटनाओं की संभावना बन सकती है. साथ ही राजनैतिक रूप से उथल-पुथल मच सकती है. वृश्चिक राशि विष की राशि है, इसलिए बीमारियां और स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याएं बढ़ सकती हैं. इसके अलावा, आकस्मिक दुर्घटना और त्रासदी जैसी स्थितियां बन सकती हैं.

सूर्य ग्रहण के दिन ही शनि अमावस्‍या का भी संयोग

ज्योतिष आचार्य की मानें तो चार दिसंबर को लगने वाला सूर्यग्रहण के दिन शनि अमावस्या (Shani Amavasya 2021) भी है. ज्योतिष की दृष्टि से सूर्यग्रहण और शनि अमावस्या का एक हीं दिन पड़ना अद्भुत संयोग है. धार्मिक ग्रंथों के अनुसार शनि देव को सूर्य का पुत्र कहा जाता है. यदि सूर्य और शनि दोनों ग्रह एक साथ प्रसन्न हो तो लोगों को उत्तम फल मिलता है. ग्रहण के समय जरूरतमंदों और ब्राह्मण को दान करने से पितरों को संतुष्टि मिलती है और सभी मनोकामना पूर्ण होती है.

शनि अमावस्या तिथि और समय

अमावस्या आरंभ: दोपहर 04:55 से (3 दिसंबर, शुक्रवार).

अमावस्या समाप्त : प्रातः 01: 12 मिनट तक (4 दिसंबर, शनिवार).

Posted By: Shaurya Punj

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें