1. home Home
  2. religion
  3. sawan 2021 dates shubh muhurat samagri list lord shiv puja vidhi pehla somwar kab hai panchang know full details here smt

Sawan 2021 Puja Vidhi: आज ही इकट्ठा कर लें ये सावन पूजन सामग्री, ऐसे होंगे भगवान शिव प्रसन्न

इस बार सावन माह की शुरूआत रविवार, 25 जुलाई से हो रही है. 26 को पहला सोमवार पड़ रहा है. यह पवित्र माह कुल 29 दिनों का होगा जिसमें 4 सोमवार पड़ेंगे. साथ ही साथ सावन शिवरात्रि भी पड़ रही है. ऐसे में आज ही खरीद लें पूजन सामग्री. जानें इस पर्व से जुड़ी सभी जानकारियां.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Sawan 2021 Start Date And End Date, Puja Vidhi, Samagri List
Sawan 2021 Start Date And End Date, Puja Vidhi, Samagri List
Prabhat Khabar Graphics

Sawan 2021 Puja Vidhi, Samagri List: इस बार सावन माह की शुरूआत रविवार, 25 जुलाई से हो रही है. 26 को पहला सोमवार पड़ रहा है. यह पवित्र माह कुल 29 दिनों का होगा जिसमें 4 सोमवार पड़ेंगे. साथ ही साथ सावन शिवरात्रि भी पड़ रही है. ऐसे में आज ही खरीद लें पूजन सामग्री. जानें इस पर्व से जुड़ी सभी जानकारियां.

email
TwitterFacebookemailemail

इस बार ऐसे करें घर पर ही पूजन

सावन मास में हरिद्वार, प्रयाग(संगम स्थल) या आस-पास जहां गंगा धारा हों, वहां से जलकर लाकर अभिषेक करने की परंपरा मान्यता है. इस बार कोरोना संकट के कारण यह अनुष्ठान संपन्न नहीं हो सकेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

सावन शिवरात्रि 2021 व्रत पारण का समय

सावन शिवरात्रि का व्रत 6 अगस्त को रखा जाएगा, जिसका पारण 7 अगस्त को होगा. व्रत पारण का शुभ समय 07 अगस्त को सुबह 05 बजकर 46 मिनट से लेकर दोपहर 03 बजकर 47 मिनट तक है.

email
TwitterFacebookemailemail

सावन शिवरात्रि 2021 शुभ मुहूर्त

सावन शिवरात्रि को निशिता काल पूजा का समय देर रात 12 बजकर 06 मिनट से देर रात 12 बजकर 48 मिनट तक रहेगी. इस साल सावन शिवरात्रि पूजा का कुल समय 43 मिनट है.

email
TwitterFacebookemailemail

सावन शिवरात्रि महत्व

सावन की शिवरात्रि का व्रत और इस दिन भगवान शिव की आराधना करने से अर्चक को शांति, रक्षा, सौभाग्य और आरोग्य की प्राप्ति होती है. मान्यता है कि सावन की शिवरात्रि व्रती के सभी पाप को नष्ट कर देती है. सावन की शिवरात्रि का व्रत रखने से कुवारें लोगों को मनचाहा वर या वधु मिलने की मान्यता है. वहीं, दांपत्य जीवन में प्रेम की प्रगाढ़ता बढ़ती है.

email
TwitterFacebookemailemail

26 जुलाई से शुरू होगा सावन

सावन का प्रथम शिव वास 25 जुलाई को प्रात: 6 बजे तक है. उसी दिन भगवान शिव को जलाभिषेक का सिलसिला शुरू हो जाएगा. पहला सोमवार 26 जुलाई को है. 22 अगस्त को रक्षाबंधन का मुहूर्त सुबह से लेकर शाम 5 बजे तक है.

email
TwitterFacebookemailemail

सोमवार के व्रत से शनि दोष होता है खत्म

सोमवार के व्रत का फल शीघ्र मिलता है.माना जाता है कि सावन मास में भगवान शंकर की पूजा से विवाह आदि में आ रही सभी प्रकार की समस्याएं दूर हो जाती है. जिन पर शनि का दोष हो इनका शनि दोष खत्म हो जाता है.

email
TwitterFacebookemailemail

मिलता है शिव का आर्शीवाद

सावन महीने में भगवान शिव की पूजा करने से वे जल्दी प्रसन्न होते हैंऔर भक्तों के मनोरथ पूरा करते हैं. उन्हें धन-दौलत, मान-सम्मान एवं पद-प्रतिष्ठा की प्राप्ति का आशीर्वाद देते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

सावन माह में भगवान शिव की पूजा विधि

सावन मास में सुबह जल्दी स्नान आदि से निवृत्त होकर घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें. उसके बाद शिव मंदिर में जाकर शिवलिंग पर गंगा जल और दूध के साथ धतूरा, बेलपत्र, पुष्प, गन्ना आदि अर्पित करें. ॐ नमः शिवाय मंत्र का जाप करें. अब धूप दीप से आरती करें.

email
TwitterFacebookemailemail

सावन मास का महत्व

धर्म शास्त्रों में भी सावन मास के महत्व का जिक्र मिलता है. पावन श्रावण मास में भगवान शिव और उनके परिवार की विधिपूर्वक पूजा करने का विधान है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, सावन माह में भगवान शिव का अभिषेक करना बहुत ही फलदायी होता है, इसलिए सावन में लोग रुद्राभिषेक कराते हैं. शिव की आराधना के लिए सावन का महीना सबसे उत्तम माह माना गया है.

email
TwitterFacebookemailemail

शिव होते हैं प्रसन्न

सावन मास के सोमवार को भगवान शिव का जलाभिषेक किया जाता है. मान्यता है कि सावन सोमवार को विधि-विधान पूर्वक पूजा करने से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

22 अगस्त को खत्म होगा सावन

देवाधिदेव महादेव भगवान शिव का प्रिय मास सावन का आरंभ आयुष्मान योग में 25 जुलाई रविवार से शुरू हो रहा है. सावन महीना शुभ और विशेष संयोग के साथ 25 जुलाई से शुरू होकर 22 अगस्त को खत्म होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

शिव भगवान को शंख नहीं अर्पित करना चाहिए

महादेव की पूजा में शंख वर्जित माना जाता है. इस लिए शिव भगवान की पूजा करते समय शंख नहीं अर्पित करना चाहिए

email
TwitterFacebookemailemail

भगवान शंकर को प्रिय है सफेद पुष्प

भगवान शंकर को आक का लाल और सफेद पुष्प बेहद प्रिय है. इस लिए इनकी पूजा करते समय ये फूल जरूर अर्पित करें.

email
TwitterFacebookemailemail

भगवान शंकर को प्रिय है दूध

भगवान शंकर को दूध बेहद प्रिय है. इसलिए उनकी पूजा में दूध का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए. सावन के महीने में शिवलिंग पर दूध चढ़ाया जाता है. मान्यता है कि भगवान शिव को दूध चढ़ाने से शुभ फल प्राप्त होता है. सावन में दूध से रुद्राभिषेक भी किया जाता है. इससे भक्त की मनोकामना पूरी होती है.

email
TwitterFacebookemailemail

सावन महीने के सोमवार

सावन महीने में सोमवार के दिन का खास महत्व होता है. इस बार सावन के चार सोमवार व्रत पड़ रहे हैं. सोमवार का पहला व्रत 26 जुलाई को है, जबकि इसका आखिरी सोमवार 16 अगस्त को है. सावन के हर सोमवार में बेल पत्र से भगवान भोलेनाथ की विशेष पूजा की जाती है.

email
TwitterFacebookemailemail

कल से शुरू होगा सावन महीना

कल 25 जुलाई से सावन महीना शुरू हो रहा है. सावन महीना भगवान शिव को समर्पित है. सावन का पहला सोमवार 26 जुलाई को है. सावन का पहला सोमवार होने के कारण इस दिन भगवान भोलेनाथ की विधि पूर्वक विशेष पूजा करने का विधान है. इस दिन व्रत रखकर भगवान शिव की पूजा की जाती है.

email
TwitterFacebookemailemail

सावन सोमवार 2021

सावन के सभी सोमवार महत्वपूर्ण होते हैं. लेकिन पहला और अंतिम सोमवार का विशेष महत्व होता है. सोमवार के व्रत में पूजन विधि और अनुशासन का विशेष ध्यान रखना चाहिए. तभी सावन सोमवार व्रत का पूरा लाभ प्राप्त होता है.

email
TwitterFacebookemailemail

भगवान शिव की पूजा में प्रयोग होने वाली सामग्री

पुष्प, पंच फल पंच मेवा, रत्न, सोना, चांदी, दक्षिणा, पूजा के बर्तन, कुशासन, दही, शुद्ध देशी घी, शहद, गंगा जल, पवित्र जल, पंच रस, इत्र, गंध रोली, मौली जनेऊ, पंच मिष्ठान्न, बिल्वपत्र, धतूरा, भांग, बेर, आम्र मंजरी, जौ की बालें,तुलसी दल, मंदार पुष्प, गाय का कच्चा दूध, ईख का रस, कपूर, धूप, दीप, रूई, मलयागिरी, चंदन, शिव व मां पार्वती की श्रृंगार की सामग्री आदि.

email
TwitterFacebookemailemail

सावन मास व्रत नियम

  • सावन महीने में मास-मंदिरा का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए.

  • इस महीने वाद-विवाद से भी बचना चाहिए. घर-परिवार में स्नेह बना रहना चाहिए.

  • सावन महीने में लहसुन और प्याज के सेवन करने की मनाही होती है.

  • इसके अलावा मसूर की दाल, मूली, बैंगन आदि के सेवन की भी मनाही होती है. शास्त्रों में बासी और जले हुए खाने को तामसिक भोजन की श्रेणी में रखा गया है.

  • शास्त्रों के अनुसार, सोमवार का व्रत बीच में नहीं छोड़ना चाहिए. अगर आप व्रत रखने में असमर्थ हैं तो भगवान शिव से माफी मांग कर ना करें.

email
TwitterFacebookemailemail

सावन माह की पूजा-विधि

  • सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि से निवृत्त होने के बाद साफ वस्त्र धारण करें.

  • इसके बाद घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें.

  • सभी देवी- देवताओं का गंगा जल से अभिषेक करें.

  • शिवलिंग पर गंगा जल और दूध चढ़ाएं.

  • भगवान शिव को बेल पत्र और पुष्प अर्पित करें.

  • इसके बाद भगवान शिव की आरती करें और भोग भी लगाएं.

  • इस बात का ध्यान रखें कि भगवान को सिर्फ सात्विक चीजों का भोग लगाया जाता है.

  • भगवान शिव का अधिक से अधिक ध्यान करें.

email
TwitterFacebookemailemail

भगवान शिव की पूजा सामग्री (Sawan Puja Samagri)

सावन में पुष्प, पांच प्रकार के फल, धूप, दीप, कपूर, रूई, बिल्वपत्र, धतूरा, भांग, पूजा के बर्तन, शुद्ध देशी घी, पंच मेवा, मौली, जनेऊ, दक्षिणा, दही, पवित्र गंगा जल, कुशासन, शहद, आम्र मंजरी, चंदन, पंच रस, गाय का कच्चा दूध, इत्र, गंध रोली, मंदार पुष्प, मिष्ठान, जौ की बालें, बेर, तुलसी दल, ईख का रस, रत्न, मलयागिरी, शिव व मां पार्वती की 16 श्रृंगार की सामग्री व अन्य चीजों की जरूरत पड़ सकती है.

email
TwitterFacebookemailemail

कितने दिन का होगा ये सावन माह (Sawan 2021 Start And End Date)

सावन माह की शुरुआत रविवार, 25 जुलाई 221 से हो रही है. पहला सोमवार 26 जुलाई को पड़ रहा है. इस बार सावन कुल 29 दिनों का है. जिसमें 4 सोमवार पड़ने वाले है. 22 अगस्त को सावन की अंतिम तिथि है. जिस दिन रक्षा बंधन भी पड़ रहा है.

email
TwitterFacebookemailemail

सावन का महत्व

आपको बता दें कि 25 जुलाई से 22 अगस्त तक सावन का महीना पड़ रहा है. इस दिन का हिंदू धर्म में विशेष महत्व होता है. इस दौरान भगवान शंकर की विशेष रूप से पूजा-अर्चना की जाती है. ऐसी मान्यता है कि इस दौरान वे अपने भक्तों की सुनते है. उनके दुख-दर्द को समाप्त करते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

Posted By: Sumit Kumar Verma

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें