1. home Home
  2. religion
  3. rahu astrology remedies rahu dosha and how its effects on you know symptoms and remedies of bad rahu sry

Rahu Remedies: राहु के कारण जीवन में आती हैं बड़ी परेशानियां, जानिए सुधार के उपाय

किसी भी कुंडली में राहू जिस घर में बैठता है 19 वे वर्ष में उसका फल दे कर 20 वे वर्ष में नष्ट कर देता है राहू की महादशा 18 वर्ष की होती है. राहू चन्द्र जब भी एक साथ किसी भी भाव में बैठे हुए हो तो चिंता का योग बनाते है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Rahu Remedies
Rahu Remedies
Prabhat khabar Graphics

राहू कूटनीति का सबसे बड़ा ग्रह है राहू संघर्ष के बाद सफलता दिलाता है यह कई महापुरुषों की कुंडलियो से स्पष्ट है राहू का 12 वे घर में बैठना बड़ा अशुभ होता है क्योकि यह जेल और बंधन का मालिक है 12 वे घर में बैठकर अपनी दशा, अंतरदशा में या तो पागलखाने में या अस्पताल और जेल में जरूर भेजता है. किसी भी कुंडली में राहू जिस घर में बैठता है 19 वे वर्ष में उसका फल दे कर 20 वे वर्ष में नष्ट कर देता है राहू की महादशा 18 वर्ष की होती है. राहू चन्द्र जब भी एक साथ किसी भी भाव में बैठे हुए हो तो चिंता का योग बनाते है.

राहू की अपनी कोई राशी नहीं है वह जिस ग्रह के साथ बैठता है वहा तीन कार्य करता है.

1 उस ग्रह की सारी शक्ति समाप्त कर देता है.

2 उसकी शक्ति स्वयं ले लेता है.

3 उस भाव में अत्यधिक संघर्ष के बाद सफलता देता है.

कुंडली मे राहु के अशुभ होने के कुछ योग

1 प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, सप्तम, नवम, दशम तथा एकादश भाव में राहु की स्थिति शुभ नहीं मानी जाती हैं. परन्तु कुछ विद्वान तीसरे, छठे तथा ग्यारहवें भाव राहु की स्थिति को शुभ भी मानते हैं.

2 नीच अथवा धनु राशि का राहु, अशुभ फल देता हैं.

3 यदि राहु शुभ भाव का स्वामी होकर अपने भाव से छठे अथवा आठवें स्थान पर बैठा हो तो अशुभ फल देता हैं.

4 यदि राहु श्रेष्ट भाव का स्वामी होकर सूर्य के साथ बैठा हो अथवा शुक्र व बुध के साथ बैठा हो तो अशुभ फल देता हैं.

5 सिंह राशिस्थ अथवा सूर्य से दृष्ट राहु अशुभ होता हैं.

6 जन्म कुण्डली में राहु की अशुभ स्थिति हो तो राहु कृत पीड़ा के निवारणार्थ राहु-शांति के उपाय अवश्य कराने चाहिए.

राहु के कारण व्यक्ति को निम्नांकित परेशानियों का सामना करना पड़ता हैं.

1 नौकरी व व्यवसाय में बाधा.

2 मानसिक तनाव व अशांति.

3 रात को नींद न आना.

4 परीक्षा में असफलता प्राप्त होना.

5 कार्य में मन न लगना.

6 बेबुनियाद ख्यालों में उलझे रहना.

7 अचानक धन का अधिक खर्च. होना या धन रूक-रूक कर प्राप्त होना.

8 बिना सोचे समझे कार्य करना.

9 दुर्जनों व दुष्टों से मित्रता.

10 पति-पत्नी में तनाव व नीच स्त्रियों से सम्बन्ध होना.

11 पेट व आंतडि़यों के रोग होना.

12 बनते कार्यो में रूकावट होना.

13 पुलिस व कानूनी परेशानियां तथा सरकार की तरफ से दण्ड.

14 घर व भौतिक सुखों की कमी.

15 धन, चरित्र, स्वास्थ्य की तरफ से लापरवाही.

16 ब्लैक मैजिक टोना टोटका के प्रभाव में आना.

17 बनावटी बातों वाले धोखेबाज लाईफ पार्टनर देना.

18 गुप्त विद्याओं में रूची दिखाकर गल्त राह पर चलाना.

19 पीठ पीछे जड़े काटने वाले मित्र देना.

20 पति पत्नी में संदेहास्पद स्थिती बनाकर तलाक जैसे योग बनाना.

21 छोटी उम्र में वीर्य को समाप्त कर यौन रोग देना.

किन कारणों से राहु अशुभ फल देता है

1 यदि कोई व्यक्ति अपने गुरु या फिर अपने धर्म का अपमान करता है, तो उस व्यक्ति का राहू ग्रह अवश्य बुरा फल देता है.

2 यदि कोई व्यक्ति शराब का सेवन नियमित करता है, या फिर पराई स्त्री के साथ सम्बन्ध बनाने की इच्छा रखता है, तो उसका राहू ग्रह अवश्य बुरा फल देता है.

3 यदि कोई व्यक्ति ब्याज वाले पैसों का प्रयोग घर में करता है तो, उस व्यक्ति का राहू ग्रह अवश्य बुरा फल देता है.

4 यदि कोई व्यक्ति चतुराई से किसी को धोखा देता है, और झूठ बोलने की आदत को नहीं छोड़ता तो उस व्यक्ति का राहू ग्रह बुरा फल देता है.

5 यदि कोई व्यक्ति हमेशा तामसिक भोजन करता है तो, उस व्यक्ति का राहू ग्रह बुरा फल देता है.

6 यदि कोई व्यक्ति खाना हमेशा घर से बाहर खाता है, या बाहर का खाना हमेशा खाता है तो, उस व्यक्ति का राहू ग्रह बुरा फल देने लगता है.

खराब राहु को कैसे पहचानेगे

1 किसी भी व्यक्ति का अगर राहू ग्रह खराब है तो उसके ससुर, साले या साली से झगडा बढ़ने लगेगा.

2 किसी भी व्यक्ति का अगर राहू ग्रह खराब है तो उसके जीवन में शत्रु बढ़ जायेंगे, और सोचने की क्षमता कम होने लगती है.

3 किसी भी व्यक्ति का अगर राहू ग्रह खराब है तो उसके साथ दुर्घटना, पुलिस केस, या पत्नी के साथ लड़ाई झगडे में बढ़ोत्तरी हो जायेगी.

4 किसी भी व्यक्ति का अगर राहू ग्रह खराब है तो वो व्यक्ति छोटी छोटी बातों पर गुस्सा होने लगता है, और लोगों के साथ सही तालमेल नहीं बिठा पाता है.

5 किसी भी व्यक्ति का अगर राहू ग्रह खराब है तो उस व्यक्ति का एक तरह से दिमाग खराब होने लगता है, और उस व्यक्ति के सर में फालतू में छोटी छोटी चोट लगने लगती है या चक्कर आते हैं.

6 किसी भी व्यक्ति का अगर राहू ग्रह खराब है तो वह व्यक्ति अधिक मदिरापान या फिर सम्भोग/हस्तमैथुन की तरफ भागने लगता है.

7 किसी भी व्यक्ति का अगर राहू ग्रह खराब है तो व्यक्ति नीच हरकते करने लगता है, और निर्दयी हो जाता है.

राहु ग्रह खराब होने से होने वाले रोग

1 किसी भी व्यक्ति का अगर राहू ग्रह खराब है तो सबसे पहले उसको गैस से सम्बन्धित शिकायत बढ़ने लगती है.

2 किसी भी व्यक्ति का अगर राहू ग्रह खराब है तो उसके बाल झड़ने लगते हैं, तथा बवासीर से सम्बन्धित भी समस्या होने लगती है.

3 किसी भी व्यक्ति का अगर राहू ग्रह खराब है तो वो जातक पागलों की तरह व्यवहार करेगा और लगातार मानसिक तनाव में रहेगा.

4 किसी भी व्यक्ति का अगर राहू ग्रह खराब है तो उसके नाखून अपने आप ही टूटने लगते हैं और व्यक्ति के सर में पीड़ा या दर्द बनी रहती है.

5 किसी भी व्यक्ति का अगर राहू ग्रह खराब है तो उस व्यक्ति को अचानक पता चलेगा की मुझे कोई बीमारी है और उस पर पैसा भी खूब खर्चा होगा तथा व्यक्ति की मृत्यु भी हो सकती है.

राहु के शुभ होने पर

राहु के शुभ होने पर व्यक्ति को कीर्ति, सम्मान, राज वैभव व बौद्धिक उपलब्धता प्राप्त होती हैं. व्यक्ति दौलतमंद होगा. कल्पना शक्ति तेज होगी. रहस्यमय या धार्मिक बातों में रुचि लेगा. राहु के अच्छा होने से व्यक्ति में श्रेष्ठ साहित्यकार, दार्शनिक, वैज्ञानिक या फिर रहस्यमय विद्याओं के गुणों का विकास होता है. इसका दूसरा पक्ष यह कि इसके अच्छा होने से राजयोग भी फलित हो सकता है. आमतौर पर पुलिस या प्रशासन में इसके लोग ज्यादा होते हैं.

मिथुन, कन्या, तुला, मकर और मीन राशियाँ राहु की मित्र राशि है तथा कर्क और सिंह शत्रु राशिया है. यह ग्रह शुक्र के साथ राजस तथा सूर्य एवं चन्द्र के साथ शत्रुता का व्यवहार करता है. बुध, शुक्र, गुरू को न तो अपना मित्र समझता है और नहीं उससे किसी प्रकार की शत्रुता ही रखता है यह अपने स्थान से पाँचवे, सातवे, नवे स्थान को पूर्ण दृष्टि से देखता हैं.

राहु को शुभ बनाने के उपाय

• अपनी शक्ति के अनुसार संध्या को काले-नीले फूल, गोमेद, नारियल, मूली, सरसों, नीलम, कोयले, खोटे सिक्के, नीला वस्त्र किसी कोढ़ी को दान में देना चाहिए.

• राहु की शांति के लिए लोहे के हथियार, नीला वस्त्र, कम्बल, लोहे की चादर, तिल, सरसों तेल, विद्युत उपकरण, नारियल एवं मूली दान करना चाहिए. सफाई कर्मियों को लाल अनाज देने से भी राहु की शांति होती है.

• राहु से पीड़ित व्यक्ति को शनिवार का व्रत करना चाहिए इससे राहु ग्रह का दुष्प्रभाव कम होता है.

• मीठी रोटी कौए को दें और ब्राह्मणों अथवा गरीबों को चावल और मांसहार करायें.

• राहु की दशा होने पर कुष्ट से पीड़ित व्यक्ति की सहायता करनी चाहिए.

• गरीब व्यक्ति की कन्या की शादी करनी चाहिए.

• राहु की दशा से आप पीड़ित हैं तो अपने सिरहाने जौ रखकर सोयें और सुबह उनका दान कर दें इससे राहु की दशा शांत होगी.

• ऐसे व्यक्ति को चांदी का कड़ा दाहिने हाथ में धारण करना चाहिए.

• हाथी दाँत का लाकेट गले में धारण करना चाहिए.

• अपने पास सफेद चन्दन अवश्य रखना चाहिए. सफेद चन्दन की माला भी धारण की जा सकती है.

• जमादार को तम्बाकू का दान करना चाहिए.

• चांदी की चेन गले में पहने .

• दिन के संधिकाल में अर्थात् सूर्योदय या सूर्यास्त के समय कोई महत्त्वपूर्ण कार्य नही करना चाहिए.

• यदि किसी अन्य व्यक्ति के पास रुपया अटक गया हो, तो प्रातःकाल पक्षियों को दाना चुगाना चाहिए.

• झुठी कसम नही खानी चाहिए.

राहु के दुष्प्रभाव निवारण के लिए किए जा रहे टोटकों हेतु शनिवार का दिन, राहु के नक्षत्र (आर्द्रा, स्वाती, शतभिषा) तथा शनि की होरा में अधिक शुभ होते हैं.

क्या न करें

मदिरा और तम्बाकू के सेवन से राहु की दशा में विपरीत परिणाम मिलता है अत: इनसे दूरी बनाये रखना चाहिए. आप राहु की दशा से परेशान हैं तो संयुक्त परिवार से अलग होकर अपना जीवन यापन करें.

संजीत कुमार मिश्रा

ज्योतिष एवं रत्न विशेषज्ञ

8080426594 /9545290847

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें