1. home Home
  2. religion
  3. navratri 2021 puja vidhi in hindi kalash sthapna see the list of puja samagri worship method and mantra sry

Navratri 2021: इस दिन होगी कलश स्थापना, यहां देखें माता की पूजा में इस्तेमाल होने वाली सामग्री की लिस्ट

नवरात्रि पूजा में अलग-अलग तरह की पूजा सामग्री का विशेष महत्व है. नाै दिनों तक देवी दुर्गा के नाै रूपों की विधिवत पूजा की जाती हैं। ऐसे में नवरात्रि से पहले यहां देखें कलश स्थापना की सामग्री व नव दुर्गा पूजन की सामग्री...

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Navratri 2021 Puja Samagri List
Navratri 2021 Puja Samagri List
instagram

शारदीय नवरात्रि देवी दुर्गा को समर्पित है. यह देवी मां स्त्री शक्ति (शक्ति) का प्रतिनिधित्व करती है. इस साल शारदीय नवरात्रि की शुरुआत 07 अक्टूबर से होने जा रही है जो 15 अक्टूबर तक चलेगी. इन 9 दिनों में श्रद्धालु उपवास रखते हैं और माता के दर्शन के लिए मंदिरों में (Mata Temples) जाकर सुख-शांति और समृद्धि की कामना करते हैं. नवरात्रि में प्रतिपदा पर कलश स्थापना के बाद ही पूजा आरंभ होती है और कलश स्थापना के लिए पूजा सामग्री का होना जरूरी है. इसलिए कलश स्थापना से पहले पूजा सामग्री की लिस्ट बना लें. आइए जानते हैं शारदीय नवरात्रि में उपयोग होने की वाली पूजा सामग्री की लिस्ट.

नवरात्रि पूजा की सामग्री (Navratri Puja Samagri)

लाल कपड़ा, चौकी, कलश, कुमकुम, लाल झंडा, पान-सुपारी, कपूर, जौ, नारियल, जयफल, लौंग, बताशे, आम के पत्ते, कलावा, केले, घी, धूप, दीपक, अगरबत्ती, माचिस, मिश्री, ज्योत, मिट्टी, मिट्टी का बर्तन, एक छोटी चुनरी, एक बड़ी चुनरी, माता का श्रृंगार का सामान, देवी की प्रतिमा या फोटो, फूलों का हार, उपला, सूखे मेवे, मिठाई, लाल फूल, गंगाजल और दुर्गा सप्तशती या दुर्गा स्तुति आदि.

Shardiya Navratri 2021: शुभ समय

उत्सव की शुरुआत कलश स्थापना से होती है, जिसे घटस्थापना के नाम से भी जाना जाता है और नौ दिनों तक एक दिन का उपवास रखने का संकल्प लिया जाता है.

कलश स्थापना के लिए शुभ मुहूर्त

दोपहर 3:33 से शाम 5:05 बजे तक

पूजा के लिए शुभ मुहूर्त

सुबह 9:33 से 11:31 बजे तक

Shardiya Navratri 2021: कलश स्थापना कैसे करें?

  • 7 अक्टूबर को सुबह जल्दी उठकर नहाएं और साफ कपड़े पहनें.

  • कलश को अपने घर के पूजा घर में रखें और मिट्टी के घड़े के गले में एक पवित्र धागा बांध दें.

  • कलश को मिट्टी और अनाज के बीज की एक परत से भरें.

  • दूसरे कलश में पवित्र जल भरकर उसमें सुपारी, गंध, अक्षत, दूर्वा घास और सिक्के डालें.

  • अब कलश के मुख पर एक नारियल रखें और उसे पत्तों से सजाएं.

  • मंत्रों का जाप करें और माता दुर्गा से नौ दिनों तक कलश को स्वीकार करने और निवास करने का अनुरोध करें.

Shardiya Navratri 2021: कलश स्थापना की पूजा विधि

  • कलश को फूल, फल, धूप और दीया अर्पित करें.

  • देवी महात्म्यम का पाठ करें और पवित्र मंत्रों का जाप करें.

इस विधि से करें संध्या आरती

दीपक, धूप और अगरबत्ती जलाकर दुर्गा स्तुति, दुर्गा चालीसा, दुर्गा स्तोत्र और दुर्गा मंत्र पढें. फिर माता की आरती करें. आरती करने के बाद देवी दुर्गा को फल-मिठाई का भोग लगाएं.

इस मंत्र का जाप लाभदायक…

आवाहनं न जानामि न जानामि तवार्चनम्। पूजां श्चैव न जानामि क्षम्यतां परमेश्वर॥ मंत्रहीनं क्रियाहीनं भक्तिहीनं सुरेश्वरं। यत्पूजितं मया देव परिपूर्ण तदस्मतु॥

Posted By: Shaurya Punj

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें