1. home Hindi News
  2. religion
  3. mokshada ekadashi 2020 date time katha aarti puja vidhi shubh muhurt vishnu ji ki aarti the last ekadashi fast of this year know the method of worship auspicious time and complete information related to it rdy

Mokshada Ekadashi 2020: कल है इस साल की आखिरी एकादशी व्रत, जानिए पूजा विधि, शुभ मुहूर्त और इससे जुड़ी पूरी जानकारी...

By Prabhat khabar Digital
Updated Date

Mokshada Ekadashi 2020: कल 25 दिसंबर दिन शुक्रवार को साल 2020 का आखिरी एकादशी व्रत है. हिंदू पंचाग की मानें तो हर साल मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को मोक्षदा एकादशी व्रत किया जाता है. इस दिन गीता जयंती भी मनाई जाती हैं. साल की आखिरी एकादशी के तौर पर सफला एकादशी व्रत किया जाता था, लेकिन इस साल तिथियों में अंतर आने की वजह से मोक्षदा एकादशी को ही साल की अंतिम एकादशी बताया जा रहा है. साल की 24 एकादशियों की तरह मोक्षदा एकादशी व्रत भी भगवान विष्णु को समर्पित हैं. आइए जानते है इस एकादशी से जुड़ी पूरी जानकारी...

email
TwitterFacebookemailemail

मोक्षदा एकादशी व्रत की पूजा विधि

- मोक्षदा एकादशी के लिए दशमी की रात्रि के प्रारंभ से द्वादशी की सुबह तक व्रत रखें.

- सुबह स्नान के बाद धूप, दीप और तुलसी से भगवान विष्णु के साथ कृष्ण जी की भी पूजा करें.

- व्रत का संकप्ल लें और व्रत कथा पढ़ें. फिर आरती कर प्रसाद बांटें.

- पूजा के दौरान भगवान को फलाहार चढ़ाएं.

- पूजा करने से पहले और स्नान करने के बाद स्वच्छ वस्त्र धारण कर पूरे घर में गंगाजल छिड़कें.

email
TwitterFacebookemailemail

मोक्षदा एकादशी, तिथि और शुभ मुहूर्त

पंचांग के अनुसार मार्गशीर्ष मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी का 24 दिसंबर की रात 11 बजकर 17 मिनट से शुरू होगा और अगले दिन 25 दिसंबर की देर रात 1 बजकर 54 मिनट पर एकादशी की तिथि का समापन होगा. 25 दिसंबर को एकादशी का व्रत रखा जाएगा और इस व्रत का पारण 26 दिसंबर को द्वादशी की तिथि को किया जाएगा. इस दिन शिव योग का निर्माण हो रहा है, वहीं अभिजीत भी रहेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

मोक्षदा एकादशी पूजा विधि

कल 25 दिसंबर को स्नान करने के बाद व्रत का संकल्प लें. इस दिन सुबह और शाम, भगवान विष्णु पूजा करें. सुबह पूजा के दौरान भगवान विष्णु को पीले वस्त्र और पीले रंग की मिठाई अर्पित करें. इस व्रत में अन्न ग्रहण नहीं किया जाता है.

email
TwitterFacebookemailemail

मोक्षदा एकादशी का महत्व

हिंदू धर्म के अनुसार मोक्षदा एकादशी का व्रत रखने पर मोक्ष की प्राप्ति होती है, इसलिए इस एकादशी का नाम मोक्षदा अथार्त मोक्ष देने वाली रखा गया है. वैष्णव इस व्रत को बहुत खास मानते हैं. मान्यता है कि भगवान विष्णु की कृपा प्राप्त करने के लिए भी इस व्रत को किया जा सकता है. कई भक्त भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए भी मोक्षदा एकादशी का व्रत रखते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मोक्षदा एकादशी व्रत रखने से व्यक्ति को मानसिक शांति और सुकून की प्राप्ति होती है.वहीं, विद्वानों का कहना है कि अगर कोई व्यक्ति बहुत अधिक शारीरिक कष्ट सहता हुआ मृत्यु के लिए तड़प रहा हो तो उसके निमित्त मोक्षदा एकादशी का व्रत रखने से उसे सद्गति प्राप्त हो सकती है.

email
TwitterFacebookemailemail

मोक्षदा एकादशी शुभ मुहूर्त

एकादशी तिथि आरंभ – 24 दिसंबर दिन बृहस्पतिवार की रात 11 बजकर 17 मिनट से

एकादशी तिथि समाप्त – 25 दिसंबर दिन शुक्रवार की रात 1 बजकर 54 मिनट पर

email
TwitterFacebookemailemail

News Posted by: Radheshyam kushwaha

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें