1. home Home
  2. religion
  3. kartik purnima 2021 time puja vidhi and importance dev deepwali 2021 why dev deepwali celebrated guru nanak birthday guruparv sry

Kartik Purnima 2021: इस दिन है कार्तिक पूर्णिमा, यहां देखें पर्व का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व

दिवाली से ठीक 15 दिन बाद ही कार्तिक पूर्णिमा का त्योहार मनाया जाता है. इस बार कार्तिक पूर्णिमा का उत्सव 19 नवंबर (शुक्रवार) को मनाया जाएगा. इस दिन पवित्र नदियों में स्नान और दीपदान करने की परंपरा है. साथ ही हवन, दान, जप, तप आदि धार्मिक कार्यों का विशेष महत्व बताया गया है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Kartik Purnima 2021 date time and significance
Kartik Purnima 2021 date time and significance
Prabhat Khabar Graphics

Kartik Purnima 2021: इन दिन मनाई जाएगा कार्तिक पूर्णिमा, ये हैं पर्व की शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व

Kartik Purnima 2021 : कार्तिक पूर्णिमा का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है. इस दिन स्नान और दान आदि का विशेष महत्व है. पूर्णिमा का दिन भगवान विष्णु को समर्पित है. इस दिन पवित्र नदियों में स्नान और दीपदान करने की परंपरा है. साथ ही हवन, दान, जप, तप आदि धार्मिक कार्यों का विशेष महत्व बताया गया है. इस बार कार्तिक पूर्णिमा का उत्सव 19 नवंबर (शुक्रवार) को मनाया जाएगा.

Kartik Purnima 2021: कार्तिक पूर्णिमा पर शुरू मुहूर्त

  • कार्तिक पूर्णिमा तिथि आरंभ- 18 नवंबर 2021 दोपहर 12:00 बजे से

  • कार्तिक पूर्णिमा तिथि समाप्त- 19 नवंबर 2021 दोपहर 02:26 पर

  • कार्तिक पूर्णिमा पर चंद्रोदय का समय- 17:28:24

Kartik Purnima 2021: कार्तिक पूर्णिमा पूजन विधि

कार्तिक पूर्णिमा को देव दीपावली के नाम से भी जाना जाता है. इसलिए इस दिन किसी भी सरोवर या धर्म स्थान पर दीपक का दान करना चाहिए. कहा जाता है कि इस दिन ब्रह्ममुहूर्त में पवित्र स्नान करना चाहिए या घर में गंगा जल डालकर स्नान करना चाहिए. इस दिन व्रत रखकर भगवान विष्णु के सम्मुख शुद्ध देसी घी का दीपक जलाना चाहिए.

श्री हरि का तिलक करने के बाद धूप, दीपक, फल, फूल और नैवेद्य आदि से पूजा करें. शाम को फिर से भगवान विष्णु की पूजा करें. भगवान को देसी घी में भूनकर सूखे आटे का कसार और पंचामृत चढ़ाएं. इसमें तुलसी जरूर शामिल करें. इसके बाद विष्णु सहित मां लक्ष्मी की पूजा और आरती करें. रात को चांद निकलने के बाद अर्घ्य दें और फिर व्रत खोलें.

Kartik Purnima 2021: क्यों हैं देव दीपावली खास

इस दिन भगवान भोलेनाथ ने त्रिपुरासुर राक्षस का अंत किया था. इसी खुशी में देवताओं ने दीप जलाकर खुशियां मनाई थी. तब से ये परंपरा आज भी देव दीपावली के रूप में मनाई जाती है.

Kartik Purnima 2021: मंत्रों का जाप करें

ॐ नम: शिवाय’, ॐ हौं जूं सः, ॐ भूर्भुवः स्वः, ॐ त्र्यम्बेकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्धूनान् मृत्योवर्मुक्षीय मामृतात्, ॐ स्वः भुवः भूः, ॐ सः जूं हौं ॐ.

Posted by: Shaurya Punj

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें