1. home Hindi News
  2. religion
  3. hindus festival in february after jaya ekadashi 2021 two major fasts festivals at 24th 25th feb know guru pushya yoga importance pradosh vrat 2021 date time shubh muhurat puja vrat vidhi see complete details in hindi smt

Pradosh Vrat आज, Guru Pushya Yoga 2021 कल मनेगा इस मुहूर्त में, जानें दोनों व्रत का महत्व

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jaya Ekadashi 2021, Pradosh Vrat 2021, Guru Pushya Yoga 2021, Shubh Muhurat, Importance
Jaya Ekadashi 2021, Pradosh Vrat 2021, Guru Pushya Yoga 2021, Shubh Muhurat, Importance
Prabhat Khabar Graphics

Jaya Ekadashi 2021, Pradosh Vrat 2021, Guru Pushya Yoga 2021, Shubh Muhurat, Vrat Katha, Puja Vidhi, Importance: जया एकादशी के समाप्त होते ही प्रदोष व्रत (Pradosh Vrat) की शुरूआत हो जाएगी. आपको बता दें कि इस एकादशी की पारणा अवधि 2 घंटे 17 मिनट तक है जिसका समय 24 फरवरी की सुबह 06 बजकर 51 मिनट से लेकर सुबह 09 बजकर 09 मिनट तक होगा. इसके बाद एक और व्रत-त्योहार इसी सप्ताह पड़ रहा है जिसे गुरु पुष्प योग (Guru Pushya Yoga) कहा जा सकता है. जिसकी तिथि 25 फरवरी दिन गुरुवार को पड़ रही है. आइए जानते हैं दोनों व्रत का महत्व...

प्रदोष व्रत 2021 (Pradosh Vrat 2021)

ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक प्रदोष व्रत हर महीने में दो बार पड़ता है. आपको बता दें कि इस व्रत की खासियत यह है कि इसे महिलाएं एवं पुरुष भी रखते हैं. यह संतान के लिए तो होता ही है साथ ही साथ बच्चों के तेज दिमाग और महिलाओं के सौभाग्य बढ़ाने के नाम से भी पूजा जाता है. इस दिन भगवा शिव की पूजा की जाती है. यदि ये व्रत बुधवार को पड़े और उस दिन गणेश जी की पूजा का दिन हो तो उनके साथ-साथ शिव जी की भी पूजा करनी होगी.

प्रदोष व्रत का शुभ मुहूर्त (Pradosh Vrat Puja Ka Samay)

  • प्रदोष व्रत का रखने की तारीख: 24 फरवरी 2021, दिन बुधवार

  • माघ शुक्ल त्रयोदशी तिथि आरंभ तिथि: 24 फरवरी को शाम 06:05 मिनट पर

  • माघ शुक्ल त्रयोदशी तिथि समाप्ति तिथि: 25 फरवरी को शाम 05 बजकर 18 मिनट पर

गुरु पुष्य योग 2021 (Guru Pushya Yoga 2021)

यह योग 25 फरवरी दिन गुरुवार को पड़ रहा है. ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार कुल 27 प्रकार के नक्षत्र होते हैं. जिसमें पुष्य को नक्षत्रों का राजा भी माना जाता है. यदि इस नक्षत्र में गुरुवार का संयोग भी पड़ जाए तो इसे गुरु पुष्य नक्षत्र कहा जाएगा. ऐसी मान्यता है कि इस दिन आभूषण, नए-कीमती वस्तु, जमीन, गाड़ी, प्रॉपर्टी आदि खरीदने का शुभ दिन होता है. कहा जाता है कि इस दिन मां लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा करने से व्यापार में तो लाभ होता ही है साथ ही साथ धन अर्जन के नए श्रोत भी खुलते हैं.

25 फरवरी के शुभ मुहूर्त

  • गुरु पुष्य योग तिथि: 25 फरवरी

  • अमृतसिद्धि योग: 25 फरवरी, सुबह 06 बजकर 55 मिनट से 1 बजकर 17 मिनट तक

  • सर्वार्थसिद्धि योग: 25 फरवरी, सुबह 06 बजकर 55 मिनट से 1 बजकर 17 मिनट तक

  • गुरू पुष्य योग - 25 फरवरी, सुबह 06 बजकर 55 मिनट से 1 बजकर 17 मिनट तक

Posted By: Sumit Kumar Verma

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें