1. home Hindi News
  2. religion
  3. grahan 2020 everyone will have to be cautious from the bad effects of the eclipse know that these 07 zodiac signs will increase tension

Chandra Grahan 2020: ग्रहण के बुरे प्रभाव से सभी को रहना होगा सतर्क, जानिए इन 07 राशि वालों की बढ़ेगी टेंशन

By Radheshyam Kushwaha
Updated Date
चंद्र ग्रहण
चंद्र ग्रहण

Chandra Grahan 2020 in India: चंद्र ग्रहण कब लग रहा है और किस समय यह सभी लोगों की जानने की इच्छा रहती है. सभी लोग एक दूसरे से पूछते है कि ग्रहण कब लग रहा है. बता दें कि कल शुक्रवार की रात चंद्र ग्रहण लग रहा है. यह ग्रहण इस बार भारत में दिखाई नहीं देगा. क्योंकि जो ग्रहण शुक्रवार की रात में लगेगा उपच्छाया ग्रहण होगा. इसका सूतक भी मान्य नहीं होगा. यह ग्रहण 5 जून को रात 11 बजकर 15 मिनट पर लगेगा जो 6 जून की सुबह 2 बजकर 34 मिनट पर खत्म होगा. ज्योतिष के अनुसार, ग्रहण का प्रभाव राशि पर पड़ता है. जून और जुलाई महीना मानव जीवन के लिए बड़ी कष्टकारी होगा. इस समय 6 ग्रह वक्री चल रहे हैं. राहु- केतु के अलावा इस समय शनि, बृहस्पति, शुक्र और प्लूटो ये चारों ग्रह भी उल्टी चाल चल रहे हैं. ये चंद्र ग्रहण वृश्चिक राशि पर पड़ने वाला है. जानिए इस चंद्र ग्रहण का प्रभाव सबसे अधिक किन राशियों पर पड़ेगा.

मेष- परिवार के सदस्यों के स्वास्थ्य पर ध्यान दें. मन में कई तरह के तनाव आ सकते हैं, लेकिन आपको वाद-विवाद से दूर रहना है. मकान और घर को लेकर समस्याएं आ सकती हैं और निर्णय लेने में कुछ कठिनाई आ सकती है. इस दौरान आपको खुद को संभाल कर रखना है. ग्रहण काल में मंत्र का जाप कर अपने राशि के स्वामी मंगल को प्रबल करें. ग्रहण काल खत्म होने के बाद किसी गरीब व्यक्ति को गुड़ और चावल का दान करें.

वृषभ- इस ग्रहण का असर आपके रिश्तों पर पड़ने वाला है और आपका कोई संबंध अचानक खत्म हो सकता है. किसी के साथ व्यापार में साझेदारी खत्म हो सकती है. इसकी वजह से आप थोड़े तनाव में आ सकते हैं. अपने और अपनी पत्नी के सेहत का विशेष ध्यान रखें. पति-पत्नी के बीच मनमुटाव भी हो सकता है. ग्रहणकाल में शुक्र के मंत्रों का जाप करें. ग्रहणकाल के बाद किसी गरीब व्यक्ति को दूध का दान करें.

मिथुन- आपको इस दौरान किसी महिला के आरोप से बचकर रहना है. किसी महिला से इस कदर अनबन हो सकती है कि मामला कोर्ट कचहरी तक पहुंच सकता है. इसलिए आपको बहुत सावधान रहने की जरूरत है. मानसिक तनाव से गुजर सकते हैं और थोड़ी सेहत भी खराब हो सकती है. इस राशि की महिलाओं को भी अपनी सेहत पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है. कर्ज का कोई मामला परेशान कर सकता है. धन के मामले में भी संभल कर रहने की जरूरत है. बुध के मंत्रों का जाप करें. ग्रहणकाल खत्म होने पर किसी निर्धन को मीठी खीर दान में दें.

कर्क- चंद्र ग्रहण लगने पर कर्क राशि वालों पर इसका सीधा प्रभाव पड़ता है, क्योंकि इस राशि के स्वामी चंद्रमा ही हैं. ये ग्रहण आपके लिए थोड़ी परेशानी ला सकता है. रिश्ते, शिक्षा और संतान इन तीनों तरफ आपको सावधान रहने की जरूरत है. गर्भवती महिलाओं को अपना खास ख्याल रखे. आपके लिए इंद्र गायत्री मंत्र बहुत लाभकारी रहेगा. ग्रहण के 15 दिन के आस-पास अपनी माता को चांदी का ग्लास दें.

सिंह- इस ग्रहणकाल के दौरान आपकी माता को तनाव हो सकता है, उनकी सेहत पर ध्यान दें. घर से जुड़ी कोई समस्या हो सकती है. माता के साथ कोई वाद-विवाद करने से बचें. छोटी-छोटी बातों को लेकर भी घर में तनाव हो सकता है लेकिन आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है. ग्रहणकाल में सूर्य और चंद्रमा के मंत्रों का जाप करना है. ग्रहण के बाद गुड़ और चीनी दोनों का दान करें.

कन्या- इस दौरान आत्मविश्वास में कमी आएगी और आपकी किसी के साथ दोस्ती खत्म हो सकती है. भाई-बहनों के साथ भी संबंध बिगड़ सकते हैं. किसी के स्वास्थ को लेकर चिंता ज्यादा हो सकती है. पार्टनशिप में लाभ की स्थिति भी बिगड़ सकती है. घर में बड़े और छोटे दोनों के सेहत का ध्यान रखें. ग्रहणकाल में बुध के मंत्रों का जाप करें. ग्रहण खत्म होने के बाद किसी गरीब व्यक्ति को हरी सब्जी का दान करें.

तुला- इस ग्रहणकाल के दौरान आपको अपनी वाणी पर बहुत ध्यान देना पड़ेगा. वरना आपके कार्यक्षेत्र में परेशानी आ सकती है. इसलिए बोलने से पहले सोचें. मुंह, दांत और आंखों से जुड़ी कोई समस्या हो सकती है. तनाव भी बढ़ सकता है. ग्रहणकाल में शुक्र के मंत्रों का जाप करें. ग्रहणकाल खत्म होने के बाद किसी निर्धन व्यक्ति को घी का दान करें.

वृश्चिक- चंद्र ग्रहण आपकी ही राशि में पड़ रहा है. इसकी वजह से मानसिक तनाव हो सकता है. इस दौरान आपका आध्यात्म की तरफ झुकाव होगा और आपको इससे काफी मदद मिलेगी. आपको ऐसा लगेगा कि पूजा-पाठ के अलावा आपके पास कोई चारा नहीं है. स्थिति इतनी खराब नहीं होगी जितनी आपको महसूस होगी. जब मन विचलित हो तो इंद्र गायत्री मंत्र का जाप करें. ग्रहणकाल खत्म होने के बाद एक तांबे के लोटे में दूध भरकर शिव मंदिर के सामने रख आएं.

धनु- इस दौरान आपके निर्णय लेने की क्षमता बहुत खराब हो सकती है. किसी भी तरह का नकारात्मक विचार ना लाएं. आपका झुकाव आध्यात्म की तरफ होगा. आपको बृहस्पति मंत्र का जाप करने की जरूरत है. किसी निर्धन व्यक्ति को एक पैकेट हल्दी का दान करें.

मकर- आपके धन लाभ में कमी होगी. कहीं से पैसा आना होगा तो अचानक रुक जाएगा. जीवनसाथी से तकरार और सहयोग में कमी आ सकती है. परिवार में किसी तीसरे व्यक्ति के कारण आप दोनों के संबंध खराब होंगे. शनि के मंत्रों का जाप करें. ग्रहण खत्म होने पर एक पैकेट दूध और सरसों का तेल गरीब व्यक्ति को दान करें. किसी एक रिश्ते पर ध्यान देने की बजाय सारे रिश्तों को प्राथमिकता दें.

कुंभ- पिता के सेहत को लेकर सावधान रहने की जरूरत है. आपके शत्रु प्रभावी हो सकते हैं. कार्यक्षेत्र में कोई महिला आरोप लगा सकती है और वो आपकी परेशानी का कारण बन सकती है. अपनी सेहत पर भी ध्यान दें. शनि के मंत्रों का जाप करें. ग्रहणकाल खत्म होने के बाद सरसों के तेल या पांच सफेद मिठाई का दान करें.

मीन- धर्म को लेकर किसी बात पर संदेह कर सकते हैं. वाहन और यात्राओं से जुड़ी समस्या आ सकती है. बच्चों के सेहत पर विशेष रूप से ध्यान दें. शिक्षा के क्षेत्र में भी ध्यान देने की जरूरत है और संबंधों में गलतफहमी ना आने दें. ग्रहणकाल के दौरान बृहस्पति मंत्र का जाप करें. ग्रहणकाल के बाद चने की दाल का दान करें.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें