1. home Hindi News
  2. religion
  3. do hawan at home in ram navami 2021 date 21 april know shree ram puja vidhi shubh muhurat havan samagri in hindi smt

इस Ram Navami 2021 घर में ऐसे करें हवन, जानिए किन पूजन सामग्रियों की पड़ेगी जरूरत, क्या है इस पर्व का शुभ का मुहूर्त

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Ram Navami 2021 Date, Puja Vidhi, Shubh Muhurat, Hawan, Samagri In Hindi
Ram Navami 2021 Date, Puja Vidhi, Shubh Muhurat, Hawan, Samagri In Hindi
Prabhat Khabar Graphics

Ram Navami 2021 Date, Puja Vidhi, Shubh Muhurat, Hawan, Samagri In Hindi: इस साल रामनवमी 21 अप्रैल 2021 को पड़ रही है. हर साल की तरह चैत्र शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को ये पावन पर्व पड़ता है. ऐसी मान्यता है कि भगवान राम इसी दिन जन्म लिए थे. हिंदू धर्म में इस पर्व का खासा महत्व है. चैत्र नवरात्र का यह अंतिम दिन भी होता है जिस दिन नौ कुंवारी कन्याओं के पूजा का विधान भी होता है. ऐसे में आइए जानते हैं रामनवमी के दिन हवन करने की क्या है विधि, शुभ मुहूर्त और इसके लिए किन पूजन सामग्रियों की पड़ेगी जरूरत...

राम नवमी 2021 का शुभ मुहूर्त

  • नवमी तिथि आरम्भ: 21 अप्रैल, 2021 को 12 बजकर 43 मिनट से

  • नवमी तिथि समाप्त: 22 अप्रैल, 2021 को 12 बजकर 35 मिनट तक

  • नवमी पूजा शुभ मुहूर्त: 21 अप्रैल की सुबह 11 बजकर 02 मिनट से दोपहर 01 बजकर 38 मिनट तक

  • कुल 02 घंटे 36 मिनट की अवधि

  • राम नवमी मध्याह्न समय: दोपहर 12 बजकर 20 मिनट पर

राम नवमी 2021 के दिन हवन की पूजन सामग्री

राम नवमी 2021 के दिन हवन के लिए आपको पूजन सामग्री के तौर पर आम की लकड़ी, पीपल का तना, आम के पत्ते, नवग्रह की लकड़ी, पंचमेवा, जटाधारी नारियल, कपूर, तिल, छाल, बेल, चंदन की लकड़ी, मुलैठी की जड़, अश्वगंधा, नीम, चावल, गाय की घी, इलायची, शक्कर, लौंग, गूलर की छाल, जौ, गोला आदि चीजों की जरूरत पड़ सकती है.

राम नवमी 2021 हवन विधि

  • 21 की सुबह जल्दी उठें,

  • स्नानादि करें,

  • स्वच्छ वस्त्र पहनें,

  • पति पत्नी साथ में पूजा के लिए बैठें,

  • हवन कुंड का निर्माण स्टील के बर्तन या ईंटे से करें,

  • आम की सूखी टहनियां, कपूर, घी आदि से अग्नि को प्रज्वलित करें.

  • बारी-बारी से सभी देवी देवताओं के नाम से आहुति दें.

  • आपको बता दें कि हवन कुंड में 108 बार आहुति देना शुभ माना जाता है.

  • हवन समाप्त होने के पश्चात भगवान राम की आरती उतारे, उन्हें भोग लगाएं.

Posted By: Sumit Kumar Verma

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें