1. home Home
  2. religion
  3. court marriage court marriage is very different from traditional marriages these important documents should be there rdy

Court Marriage: परंपरागत शादियों से बहुत अलग होती है कोर्ट मैरेज, होने चाहिए ये जरूरी दस्तावेज

Court Marriage विवाह का निबंधन अवर निबंधन कार्यालय (रजिस्ट्री ऑफिस कार्यालय) में होता है. यहां कार्यदिवस में अपने विवाह का रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं, लेकिन रजिस्ट्रेशन के समय युगल जोड़ी को उपस्थित रहना अनिवार्य है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Court Marriage
Court Marriage
Prabhat Khabar

Court Marriage: अभी शादियों का सीजन चल रहा है. इधर, निबंधन कार्यालय में भी कोर्ट मैरेज को लेकर युवक-युवती रजिस्ट्रेशन करा रहे है. जिला अवर निबंधक का कहना है कि कोर्ट मैरेज परंपरागत शादियों से बहुत अलग होती है. यहां शादियां निबंधक ऑफिसर के सामने विशेष विवाह अधिनियम के तहत संपन्न होती हैं. कोर्ट मैरेज किसी भी धर्म, संप्रदाय अथवा जाति के बालिग युवक-युवती के बीच हो सकती है. किसी विदेशी व भारतीय की भी कोर्ट मैरेज हो सकती है. कोर्ट मैरेज में किसी तरह की कोई धार्मिक प्रक्रिया नहीं अपनायी जाती है. इसके लिए दोनों पक्षों को सीधे ही मैरेज रजिस्ट्रार के समक्ष आवेदन करना होता है.

मसौढ़ी निबंधन कार्यालय में इस वर्ष जनवरी से लेकर नवम्बर तक मात्र 23 विवाह का निबंधन हुआ है. कार्यालय के अनुसार जनवरी में-04 , फरवरी में- 01, मार्च में 02, अप्रैल में- 02, मई में - 01, जून में- 01, जुलाई में- 04, अगस्त में - शून्य, सितम्बर में- 02, अक्टूबर में- 02, एवं 25 नवंबर तक 04 निबंधन शादी का हो पाया है. जबकि एक भी कोर्ट मैरेज निबंधन कार्यालय से नहीं हुआ है. वहीं, दानापुर में एक जनवरी से 23 नवंबर 2021 तक 307 कपल ने विवाह के लिए रजिस्ट्रेशन कराया है.

इसमें शादी के पहले 228 जोड़ियों ने निबंधन कराया है और शादी के बाद लगभग 79 कपल ने रजिस्ट्रेशन कराया है. विवाह का रजिस्ट्रेशन (निबंधन) कराने के लिए कोई समय सीमा निर्धारित नहीं है. विवाह का निबंधन अवर निबंधन कार्यालय (रजिस्ट्री ऑफिस कार्यालय) में होता है. यहां कार्यदिवस में अपने विवाह का रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं, लेकिन रजिस्ट्रेशन के समय युगल जोड़ी को उपस्थित रहना अनिवार्य है.

होने चाहिए ये जरूरी दस्तावेज

  • आपको आवेदन पत्र को शुल्क सहित नियमनुसार भरकर जमा करना होगा.

  • वर-वधू के अलग-अलग दो-दो रंगीन फोटो या फिर शादी के बाद के रजिस्ट्रेशन के लिए दो संयुक्त फोटो जरूरी है.

  • निवास का प्रमाण/पहचान पत्र / आधार कार्डया ड्राइविंग लाइसेंस की फोटोकॉपी जमा करनी होगी.

  • कोर्ट मैरेज की फीस सभी राज्यों में अपनी सेवा अनुसार अलग होती है. यह फीस 500 रूपए से लेकर 1000 तक हो सकती है.

  • हाइ स्कूल / इंटर की मार्कशीट की फोटोकॉपी या आप जन्म प्रमाण पत्र भी जमा कर सकते हैं.

  • धारा 5 और धारा 15 के तहत एक शपथ पत्र देना होता है.

  • दूल्हा-दुल्हन के गवाहों की फोटो और पैन कार्डजमा होता है.

Posted by: Radheshyam Kushwaha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें