1. home Hindi News
  2. religion
  3. chandra grahan lunar eclipse june 2020 date and time sutak kal timings in india chandra grahan kab lagega padega samay or kab ka pad rha hai know about impact on 12 zodiac sign

Chandra Grahan 2020, Sutak kal in India: आज दिखेगा उपच्छाया चंद्रग्रहण, जानिए गर्भवती महिलाएं को किन बातों का रखना है ख्याल

By Shaurya Punj
Updated Date

Lunar Eclipse, Chandra Grahan June 2020 Date and Time, Sutak kal, Timings in India, Chandra Grahan Kab Lagega, Padega, Samay or Kab Ka Pad Raha Hai: आज यानी 5 जून 2020 को साल का दूसरा चंद्र ग्रहण लगने वाला है. साल के पहले चंद्र ग्रहण की तरह दूसरा चंद्र ग्रहण भी उपछाया चंद्र ग्रहण होगा यानी कि यह ग्रहण पूर्ण चंद्र ग्रहण के मुकाबले धुंधला होगा. यह चंद्रग्रहण 3 घंटे और 18 मिनट का होगा. 5 जून को इसकी शुरुआत रात 11.15 होगी और 6 जून को सुबह 12.54 बजे तक ये अपने अधिकतम चरण में होगा. 6 जून की सुबह 2.34 पर ये खत्म हो जाएगा.

email
TwitterFacebookemailemail

कहां-कहां दिखाई चंद्रग्रहण

भारत के साथ साथ चंद्रग्रहण एशिया,यूरोप, ऑस्ट्रेलिया और अफ्रीका में भी देखा जा सकेगा. लेकिन इसमें चांद के आकार में कोई भी बदलाव देखने को नहीं मिलेगा. सिर्फ चांद थोड़ा सा मटमैला रंग का दिखाई देगा.

email
TwitterFacebookemailemail

गर्भवती महिलाएं इन बातों का रखें ख्याल

गर्भवती महिलाओं को चंद्र ग्रहण के समय विशेष ध्यान रखने की जरूरत होती है. मान्यताओं के अनुसार, गर्भवती महिलाओं को चंद्र ग्रहण नहीं देखना चाहिए. चंद्र ग्रहण देखने से पेट में पल रहे शिशु पर उसका दुष्प्रभाव पड़ सकता हैं. गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के समय लोहे की नुकिली चीजों से दूर रहना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण के दौरान होता है व्यावहार परिवर्तन

चंद्र और सूर्य ग्रहण हमारे चारों ओर विद्युत चुम्बकीय क्षेत्र, गुरुत्वाकर्षण बल और प्रकाश ऊर्जा में विभिन्न परिवर्तनों का कारण बनते हैं. उन्होंने यह भी कहा कि व्यवहार परिर्वतन के अलावा इस दौरान कार्डिक, गैस्ट्रिक और हार्मोनल परिवर्तन भी शरीर में देखें गए हैं जिसकी वजह से इस तरह की एमरजेंसी में डॉक्टर से परामर्श की संख्या भी बढ़ जाती है.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्रग्रहण में खाने-पीने का रखें खास ख्याल

चंद्रग्रहण के दौरान ग्रहण से दो घंटे पहले हल्का और आसानी से पचने वाला भोजन खाने की सलाह दी जाती है. ग्रहण के दौरान कुछ भी न खाएं और न ही पीएं. ग्रहण से पहले करें उसमें आप हल्दी भी डाल सकते हैं. इस दौरान तुलसी की चाय भी पी सकते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

यहां देख सकते हैं लाइव चंद्र ग्रहण

वर्चुअल टेलिस्कोप के द्वारा आप www.virtualtelescope.eu पर लाइव चंद्रग्रहण देख सकते हैं. इसके अलावा आप इसे यूट्यूब चैनल CosmoSapiens, Slooh पर लाइव भी देख सकते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

साल 2020 में होने वाले हैं और दो चंद्रग्रहण

  • 05 जुलाई, रविवार को सुबह 08:38 बजे से 11:21 बजे तक.

  • 30 नवंबर, सोमवार को दोपहर 1:34 बजे से शाम 5:22 बजे तक.

email
TwitterFacebookemailemail

तीन प्रकार के होते हैं चंद्रग्रहण

चंद्र ग्रहण तीन प्रकार के होते हैं. पूर्ण चंद्रग्रहण, आंशिक चंद्रग्रहण, उपच्छाया चंद्रग्रहण

  • पूर्ण चंद्रग्रहण - जब पृथ्वी की छाया जब पूरी तरह से चंद्रमा पर पड़ती है तो पूर्ण चंद्रग्रहण लगता है. इसे नंगी आंखों से बेहद आसानी से देखा जा सकता है.

  • आंशिक चंद्रग्रहण - ऐसे में पृथ्वी की छाया आंशिक रूप से चंद्रमा पर पड़ती है तब आंशिक चंद्रग्रहण लगता है. इसे भी बिना दूरबीन के देखा जा सकता है.

  • उपच्छाया चंद्रग्रहण - उपछाया चंद्र ग्रहण तब लगता है जब पृथ्वी की परिक्रमा करने के दौरान चंद्रमा पेनुम्ब्रा से हो कर गुजरता है. ये पृथ्वी की छाया का बाहरी भाग होता है. इस दौरान, चंद्रमा सामान्य से थोड़ा गहरा दिखाई देता है.

email
TwitterFacebookemailemail

क्या है उपछाया चंद्र ग्रहण, आइए जानें

साल का दूसरा चंद्रग्रहण कल यानी 5 जून 2020 को लगने वाला है. यह चंद्र ग्रहण उपछाया चंद्र ग्रहण होगा यानी कि यह ग्रहण पूर्ण चंद्र ग्रहण के मुकाबले धुंधला होगा. ग्रहण में सूतक काल का काफी महत्व होता है.पर कल होने वाले चंद्रग्रहण सूतक काल मान्य नहीं होगा. चंद्रग्रहण में सूर्य और चंद्रमा के बीच पृथ्वी आ जाती है. उपच्छाया चंद्र ग्रहण में जब पृथ्वी की छाया वाले क्षेत्र में चंद्रमा आ जाता है और चंद्रमा पर पड़ने वाली सूर्य की रोशनी बहुत ही कम पड़ती प्रतीत होती है. इसे ही उपच्छाया चंद्रग्रहण कहते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

कैसे लगता है चंद्र ग्रहण

असल में यह एक खगोलीय घटना होती है. चंद्रग्रहण तब लगता है जब चंद्रमा का पृथ्वी की ओट में आ जाता है. उस स्थिति में सूर्य एक तरफ, चंद्रमा दूसरी तरफ और पृथ्वी बीच में होती है. जब चंद्रमा धरती की छाया से निकलता है तो चंद्र ग्रहण पड़ता है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें