1. home Hindi News
  2. religion
  3. chandra grahan 2022 this special yoga is being made on the first lunar eclipse of the year aries leo sagittarius can be lucky sry

Chandra Grahan 2022: चंद्र ग्रहण पर बन रहा है विशेष योग, इन राशियों की बदलेगी किस्मत

वैदिक पंचांग के मुताबिक, साल का पहला चंद्र ग्रहण 16 मई को लगेगा. इसी दिन सुबह 06 बजकर 16 मिनट तक वरियान योग भी रहेगा. ज्योतिष में इस योग का बहुत महत्व है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Chandra Grahan 2022
Chandra Grahan 2022
Prabhat Khabar Graphics

Chandra Grahan 2022: साल 2022 का पहला चंद्र ग्रहण 16 मई को लग रहा है. चंद्र ग्रहण के दिन ही बुद्ध पूर्णिमा भी पड़ रही है. इसके अलावा चंद्र ग्रहण के साथ दो शुभ संयोगों का भी निर्माण हो रहा है. इस दिन वैशाख मास की पूर्णिमा भी है. इस दिन पवित्र नदियों में स्नान व दान करने का विशेष महत्व होता है.

वरियान और परिघ योग में लगेगा साल का पहला चंद्रग्रहण

वैदिक पंचांग के मुताबिक, साल का पहला चंद्र ग्रहण 16 मई को लगेगा. इसी दिन सुबह 06 बजकर 16 मिनट तक वरियान योग भी रहेगा. ज्योतिष में इस योग का बहुत महत्व है. इस योग में किया गया कार्य सिद्ध हो जाता है. इसके बाद 16 मई की सुबह से अगले दिन देर रात करीब ढाई बजे तक परिघ योग भी रहेगा. परिघ योग में शत्रु के विरुद्ध अपनाई गई रणनीतियां बड़ी कारगर सिद्ध होती हैं.

मेष राशि

मेष राशि वालों को चंद्रग्रहण के दौरान आर्थिक लाभ हो सकता है. करियर में सफलता हासिल हो सकती है. नौकरी पेशा करने वाले जातकों के लिए समय अनुकूल है. जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा.

सिंह राशि

आगामी चंद्र ग्रहण पर बन रहे संयोग से सिंह राशि वालों को भी बड़ा फायदा होगा. नौकरी में प्रमोशन की संभावनाएं हैं. आय के नए साधन सामने आएंगे. कोई महत्वपूर्ण काम बनने की संभावना है. व्यक्तिगत रूप से आगे बढ़ने की बहुत संभावनाएं हैं. दांपत्य जीवन में सुधार आएगा. शादी-विवाह के प्रस्ताव भी मिल सकते हैं.

धनु राशि

यह चंद्र ग्रहण धनु राशि के जातकों के लिए भी बहुत शुभ माना जा रहा है. तरक्की के नए मार्ग खुलेंगे. साथ ही व्यापार में मुनाफा हो सकता है. नई नौकरी का प्रस्ताव आ सकता है. साथ ही कार्यक्षेत्र में स्थान परिवर्तन हो सकता है.

कहां- कहां नजर आएंगा साल का पहला चंद्र ग्रहण

इस साल का पहला चंद्र ग्रहण भारत में नजर नहीं आएगा, इसलिए यहां इसका सूतक काल प्रभावी नहीं होगा. लेकिन दक्षिणी-पश्चिमी यूरोप, अफ्रीका, दक्षिण अमेरिका, उत्तरी अमेरिका के कई हिस्सों, प्रशांत महासाकर अटलांटिक और अंटार्कटिका में दिखाई देगा.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें