1. home Hindi News
  2. religion
  3. chandra grahan 2020 time chandra grahan kitne baje se kitne baje tak rahega lagega padega live updates guru purnima ke din grahan padne ka mahatva bharat me sutak time 5 july 2020 penumbra lunar eclipse

Chandra Grahan 2020 LIVE Updates : आज ब्रम्हांड में लगा था इस साल का चौथा ग्रहण, जानिए इसका क्या होगा प्रभाव

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Chandra Grahan 2020 Time : साल का तीसरा चंद्र ग्रहण कल है, ऐसे में आइये इस ग्रहण पर क्या असर पड़ने वाला है और इस ग्रहण की क्या खासियत है
Chandra Grahan 2020 Time : साल का तीसरा चंद्र ग्रहण कल है, ऐसे में आइये इस ग्रहण पर क्या असर पड़ने वाला है और इस ग्रहण की क्या खासियत है
Prabhat Khabar

Chandra Grahan 2020 Time, chandra Grahan kitne baje se kitne baje tak rahega, lagega, Padega, Live Updates : इस साल का तीसरा चंद्र ग्रहण अब से थोड़ी देर बाद रविवार को 8 बजकर 37 मिनट में शुरू होगा. जो 11 बजकर 21 मिनट में खत्म हो जाएगा. जबकि 9 बजकर 59 मिनट पर यह अपने अधिकतम प्रभाव पर होगा. ज्योतिष शस्त्रों के अनुसार ये चंद्र ग्रहण 2 घंटे 43 मिनट और 24 सेकेंड तक रहेगा. इस बार चंद्र ग्रहण की खासियत ये है कि गुरु पूर्णिमा (Guru Purnima) के दिन चंद्र ग्रहण लग रहा है. ये ग्रहण भी उपछाया चंद्र ग्रहण (Penumbra Lunar Eclipse) है. इसका भी भारत में प्रभाव नहीं पड़ेगा और न ही इसके लिए सूतक काल की मान्यता है.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण काल के बाद मंदिर में दान करें

जिन राशियों पर चंद्रग्रहण का अशुभ प्रभाव पड़ेगा, उन्हें ग्रहण काल के बाद पानी में गंगाजल मिलाकर स्नान करना चाहिए. स्नान करने के बाद मंदिरों में दान करना चाहिए. गाय को भोजन कराएं और गरीबों की मदद करनी चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण के बाद ये काम जरूर करें

- ग्रहण समाप्त होने पर स्नान करके उचित व्यक्ति को दान करने का विधान है.

- ग्रहण के समय गुरुमंत्र, इष्टमंत्र अथवा भगवन्नाम जाप अवश्य करें, ग्रहण समाप्त होने के बाद पानी में गंगाजल मिलाकर स्नान करें.

- ग्रहण के बाद पुराना पानी और अन्न फेक देना चाहिए. नया भोजन पकाकर खाये और ताजा पानी भरकर पिए.

- सूर्य ग्रहण पूरा होने पर उसका शुद्ध बिम्ब देखकर ही भोजन करना चाहिए.

- ग्रहण के समय गायों को घास, पक्षियों को अन्न, जरूरत मंदों को वस्त्र दान देने से अनेक गुना पुण्य प्राप्त होता है.

email
TwitterFacebookemailemail

कई देशों में दिख रहा चंद्रग्रहण, आने लगी तस्वीरें

साल 2020 का तीसरा चंद्रग्रहण लग चुका है. यह ग्रहण यूरोप, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया में दिख रहा है. इसकी तस्वीरें अनेक माध्यमों से आनी शुरू हो गई है. भारतीय समय के अनुसार यह ग्रहण सुबह 8 बजकर 37 मिनट से शुरू हो गया है जो कि 11 बजकर 22 मिनट पर खत्म होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

लग चुका है चंद्र ग्रहण, इन कामों को करने से बचें

- ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के सीधे प्रभाव में नहीं आना चाहिए.

- ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को चाकू-छुरी या तेज धार वाले हथियार का प्रयोग भी नहीं करना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से गर्भ में पल रहे शिशु के शरीर पर नकारात्मक असर हो सकता है.

-ग्रहण की अवधि में सिलाई-कढ़ाई का कार्य भी न करें और न ही किसी प्रकार की चीज़ों का सेवन करें.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण के दौरान करें यह काम, मिलेगा लाभ

चंद्र ग्रहण लगने के पहले खाने पीने वाली चीजों में तुलसी दल या तुलसी के पत्ते डाल देना चाहिए. इससे खाना दूषित होने से बच जाता है और ग्रहण की समाप्ति पर इसका उपयोग किया जा सकता है. लेकिन याद रहे कि ग्रहण लगने के समय तुलसी का पौधा नहीं छूना चाहिए और नहीं तुलसी का पत्ता तोड़ना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

गर्भवती महिलाएं रखें विशेष सावधानी

ग्रहण काल में गर्भवती महिलाओं को विशेष ध्यान रखने की जरूरत होती है. ऐसी मान्यता है कि ग्रहण के हानिकारक प्रभाव से गर्भ में पल रहे शिशु के शरीर पर उसका नकारात्मक असर होता है. इस लिए गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दौरान बहुत जरूरी न हो तो घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण कुछ मिनटों के बाद हो जाएगा प्रारंभ

चंद्र ग्रहण अब कुछ ही मिनटों के बाद शुरू हो जाएगा. 08 बज कर 54 मिनट में शुरू होगा और 11 बजकर 21 मिनट में समाप्त हो जाएगा, चंद्र ग्रहण की कुल अवधि 2 घंटा 43 मिनट और 54 सेकेंड की होगी.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण के दौरान ये 5 कार्य भूलकर भी न करें.

- ग्रहण के दौरान भोजन न करें, भोजन पकाएं भी नहीं.

- गर्भवती महिला घर के अंदर ही रहें, बाहर न निकलें.

- चंद्र ग्रहण के दौरान मन में नकारात्मक विचार न लाएं.

- चंद्र ग्रहण के दौरान किसी की बुराई और बाणी को खराब न करें.

- चंद्र ग्रहण के दौरान किसी जानवर को चोट न पहुंचाएं.

email
TwitterFacebookemailemail

बना रहता है लक्ष्मी का वास

ग्रहण के बाद तुलसी रखे पानी में गंगाजल मिलाकर घर के सभी लोगों को नहाना चाहिए. इससे घर में लक्ष्मी का निवास होता है. परिवार में सुख-संपत्ति और शांति का वास होता है. ग्रहण के समय वातावरण में घातक कीटाणु तेजी से फैलते हैं और ये कीटाणु खाने-पीने की वस्तुओं और पानी आदि में इकट्ठा होकर उसे दूषित कर देते हैं, ऐसे में भोजन और जल के पात्रों में क़ुश अथवा तुलसी डालने से कीटाणु समाप्त हो जाते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

नहीं बंद रहेंगे मंदिरों के कपाट, जानिए क्यों

5 जुलाई 2020 को कुछ देर बाद उपछाया चंद्र ग्रहण शुरू होने वाला है. इस दौरान मंदिरों में पूजा पाठ और सभी धार्मिक अनुष्ठान वैसे तो बंद हो जाते हैं लेकिन इस ग्रहण में ऐसा कुछ नहीं होगा क्योंकि शास्त्रों में उपछाया चंद्र ग्रहण को ग्रहण नहीं माना गया है. इस उपछाया चंद्रग्रहण को धनुर्धारी चंद्रग्रहण भी कहा जा रहा है.

email
TwitterFacebookemailemail
email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण का पंचांग:

पूर्णिमा की तिथि 5 जुलाई को है. आज चंद्र ग्रहण, आषाण पूर्णिमा और गुरु पूर्णिमा का दिन है. इस दिन सूर्य का मिथुन राशि में गोचर हो रहा है. नक्षत्र पूर्वाषाढ़ा. आज एंद्र योग है. चंद्र ग्रहण सुबह 8 बजकर 37 मिनट से प्रारम्भ होगा और 11 बजकर 22 मिनट तक रहेगा. यह ग्रहण 2 घंटे 43 मिनट का है.

email
TwitterFacebookemailemail

महर्षि वेदव्यास ने बताया है ग्रहण के बाद दान का महत्व

आज गुरु पूर्णिमा के दिन ही चंद्र ग्रहण पड़ रहा है. महर्षि वेदव्यास जी ने अपनी रचनाओं के माध्यम से आज के दिन दान का विशेष महत्व बताया है. वेदव्यास जी के अनुसार चंद्र ग्रहण पर दान श्रेष्ठ फलदायी होता है. ग्रहण के पश्चात स्नान करें और दान दरिद्रनारायण और जरूरतमंदों को दें, इससे ग्रहण के कुप्रभाव कम होते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण के दिन कन्या राशि वाले तनाव में रह सकते हैं

ज्योतिष गणना के अनुसार, चंद्र ग्रहण के दिन कन्या राशि वाले तनाव में रह सकते हैं. वैसे धनु राशि के लिए इस ग्रहण को खराब बताया जा रहा है. कन्या राशि वाले कार्य की अधिकता के कारण तनाव में रहेंगे. गले की बीमारी से बचें. हालांकि नौकरी के क्षेत्र में आपको कोई शुभ समाचार मिल सकता है.

email
TwitterFacebookemailemail

आज उपछाया चंद्र ग्रहण : Grahan Time in India

आज उपछाया चंद्र ग्रहण पड़ रहा है. वैसे तो इसका भारत में महत्व नहीं है, इस कारण कोई सूतक काल भी नहीं होगा. लेकिन ग्रहण काल को संक्रमण काल के तौर पर मानने वालों के लिए बता दें कि ये भारतीय समयनुसार सुबह 8.38 बजे से शुरू हो जाएगा और 2 घंटे 25 मिनट तक रहेगा. इसके बाद 11.21 बजे खत्म हो जाएगा. इस ग्रहण को अमेरिका, यूरोप और ऑस्ट्रेलिया में देखा जा सकता है.

email
TwitterFacebookemailemail

बता दें कि आषाढ़ मास के पूर्णिमा को ही हम गुरु पूर्णिमा कहते हैं. इसी दिन चारों वेदों के रचीयता कृष्ण द्वैपायन व्यास का जन्म हुआ था. वेद व्यास के सम्मान में ही हम आषाढ़ पूर्णिका को गुरु पूर्णिमा कहते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

सूतक काल नहीं होगा प्रभावी

इस साल भारत में चंद्र ग्रहण दिखाई नहीं देगा इसका कारण है कि यह उपछाया चंद्र ग्रहण होगा. दिखाई नहीं देने के कारण ही चंद्र ग्रहण का सूतक काल प्रभावी नहीं होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

इस राशि के जातकों पर पड़ सकता है गहरा प्रभाव

ज्योतिष शस्त्र के अनुसार यह ग्रहण धनु राशि पर पड़ रहा है, ज्योतिषों का कहना है कि 30 जून को ही देव गुरु बृह‍स्‍पति धनु राशि में प्रवेश कर चुके हैं. और इस राशि में राहू पहले से ही मौजूद है. जिसके कारण धनु राशि के लोग इससे सीधे तौर पर प्रभावित होंगे. इसके कारण इन जातकों का मन थोड़ा अशांत रहेगा. नकरात्मक विचार आने की वजह से थोड़ा अव्‍यवस्थित भी रहेंगे. इसी वजह से इन जातकों के लोगों को थोड़ी सावधानी बरतनी पड़ेगी. अपने मन को एकाग्र करने के लिए इस राशि के जातक अपने अराध्‍य इष्‍टदेव का ध्‍यान लगाएं

email
TwitterFacebookemailemail

क्या होता है उपछाया चंद्र ग्रहण (Penumbra Lunar Eclipse)

इस तरह का चंद्र ग्रहण तब लगता है जब सूर्य और चांद के बीच पृथ्‍वी आती है, लेकिन तीनों एक सीध में नहीं होते. एक सीध में नहीं आने के कारण चांद के छोटी सी सतह पर छाया नहीं पड़ती है. जबकि चंद्रमा के बाकी हिस्‍सों पर पृथ्‍वी के बाहरी हिस्‍से की छाया अनवरत पड़ती रहती है. इसे ही उपछाया कहा जाता है.

email
TwitterFacebookemailemail

शुभ नहीं है एक महीने में तीन ग्रहण

ज्योतिष शस्त्रों के अनुसार एक महीने में 3 ग्रहण लगना शुभ नहीं माना जाता है. बता दें कि इस साल 5 जून से 5 जुलाई के बीच यह तीसरा ग्रहण है.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण में बरते ये सावधानियां

ग्रहण लगने से पहले ही सूतक काल शुरू हो जाता है, इसलिए सूतक काल लगने के बाद कुछ भी खाने से परहेज करना चाहिए.

पानी पीते वक्त पानी में तुलसी के पत्ते डालकर इसे उबाल कर पीना चाहिए.

माना जाता है कि ग्रहण पोषक तत्व को भी प्रभावित करता है, इसलिए इस दौरान खाना बनाने की भी मनाही है.

गर्भवती महिलाओं को इस दौरान सात्विक भोजन करने की सलाह दी जाती है

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें