1. home Hindi News
  2. photos
  3. ins virat leaves for the last journey the almighty naval ship had a long mighty feat during 30 years abk

तस्वीरों में कैद INS विराट का आखिरी सफर, 30 सालों तक रहा भारतीय नौसेना का हिस्सा

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
तस्वीर में कैद INS विराट का आखिरी सफर
तस्वीर में कैद INS विराट का आखिरी सफर
पीटीआई

भारतीय नौसेना में तीन दशक तक सेवा देने के बाद युद्धपोत आईएनएस विराट अपनी आखिरी यात्रा पर निकल गया. आखिरी सफर पर शनिवार को निकले आईएनएस विराट को साल 2017 में युद्धपोत से रिटायर किया गया था. मुंबई से गुजरात के अलंग स्थित स्क्रैपयार्ड के लिए शनिवार को विराट रवाना हो गया.

तस्वीर में कैद INS विराट का आखिरी सफर
तस्वीर में कैद INS विराट का आखिरी सफर
पीटीआई

विराट के रविवार की देर रात भावनगर पहुंचने की बात सामने आई है. विराट ने सर्विस के दौरान 10 लाख समुद्री किलोमीटर (7,00,000 मील) से अधिक की दूरी तय की. यह धरती के करीब 27 चक्कर लगाने के बराबर है. 2017 में रिटायर होने के बाद विराट को श्रीराम ग्रुप ने नीलामी में 38.54 करोड़ रुपये में खरीदा.

तस्वीर में कैद INS विराट का आखिरी सफर
तस्वीर में कैद INS विराट का आखिरी सफर
पीटीआई

मुंबई के नेवल डॉकयार्ड में लंगर डाले विराट को अंतिम यात्रा पर अलंग के लिए भेजा गया है. युद्धपोत विराट में उच्च गुणवत्ता की स्टील का इस्तेमाल किया गया है. इसमें बुलेटप्रूफ मटेरियल है. जबकि, लोहे का इस्तेमाल नहीं किया गया है. विराट भारत से पहले ब्रिटेन की रॉयल नेवी में एचएमएस र्हिमस के रूप में 25 साल सर्विस दे चुका है. इसी पर प्रिंस चार्ल्स ने नौसेना अधिकारी की ट्रेनिंग पूरी की थी.

तस्वीर में कैद INS विराट का आखिरी सफर
तस्वीर में कैद INS विराट का आखिरी सफर
पीटीआई

फॉकलैंड युद्ध में ब्रिटिश नेवी की तरफ से इसने अहम भूमिका निभाई थी. विराट ने श्रीलंका में शांति स्थापना के लिए जुलाई 1989 के ऑपरेशन ज्यूपिटर में हिस्सा लिया था. 2001 के संसद हमले के बाद ऑपरेशन पराक्रम में भी खास भूमिका निभाई थी. 23 जुलाई 2016 को विराट ने अपनी आखिरी यात्रा मुंबई से कोच्चि के बीच की थी. अपने पूरे कार्यकाल में विराट 2250 दिनों तक समुद्र की लहरों से खेलता रहा था.

तस्वीर में कैद INS विराट का आखिरी सफर
तस्वीर में कैद INS विराट का आखिरी सफर
पीटीआई

आईएनएस विराट की लंबाई 226 मीटर और चौड़ाई 49 मीटर है. युद्धपोत का वजन 28,700 टन है. विराट पर 150 अफसर और 1500 नाविकों की तैनाती की जा सकती थी. विराट समुद्र पर एक शहर की तरह था. इसमें एक लाइब्रेरी, जिम, एटीएम, टीवी के साथ ही वीडियो स्टूडियो, अस्पताल और मीठे पानी के प्लांट जैसी सुविधाएं थी.

तस्वीर में कैद INS विराट का आखिरी सफर
तस्वीर में कैद INS विराट का आखिरी सफर
पीटीआई

विराट के लोहे का उपयोग बाइक बनाने में किया जा सकता है. श्रीराम ग्रुप के मुताबिक विराट को पूरी तरह तोड़कर छोटे-छोटे टुकड़े करने में एक साल का वक्त लगेगा. श्रीराम ग्रुप के पास गुजरात के अलंग में एशिया का सबसे बड़ा स्क्रैपयार्ड है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें