1. home Hindi News
  2. photos
  3. bihar lathicharge patna me kisanon par lathi charge photo and video farmers protest in patna in support of kisan andolan bihar news upl

पटना में पुलिस का लाठीचार्ज, तस्वीरों में देखें- सड़क पर भागते-गिरते और गिड़गिड़ाते किसान

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
नये कृषि कानून के खिलाफ पटना में मंगलवार को प्रदर्शन कर रहे किसान संगठन से जुड़े लोगों और पुलिस में जमकर भिड़ंत हो गयी. मामला इतना अधिक बढ़ गया कि पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा. इसमें तीन प्रदर्शनकारियों के सिर फट गये, वहीं कुछ लोग जख्मी हो गये. इसके बाद दोनों पक्षों में जमकर मारपीट व धक्का -मुक्की की गयी. लाठीचार्ज के बाद भगदड़ की स्थिति मच गई. जिसे जिधर रास्ता दिखा उधर दौड़ पड़ा. इस चक्कर में क्या महिलाएं और क्या पुरुष दोनों ही गिरते-भागते और पुलिस को करीब देख गिड़गिड़ाते नजर आए. आगे की स्लाइड्स में देखें तस्वीरें..
नये कृषि कानून के खिलाफ पटना में मंगलवार को प्रदर्शन कर रहे किसान संगठन से जुड़े लोगों और पुलिस में जमकर भिड़ंत हो गयी. मामला इतना अधिक बढ़ गया कि पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा. इसमें तीन प्रदर्शनकारियों के सिर फट गये, वहीं कुछ लोग जख्मी हो गये. इसके बाद दोनों पक्षों में जमकर मारपीट व धक्का -मुक्की की गयी. लाठीचार्ज के बाद भगदड़ की स्थिति मच गई. जिसे जिधर रास्ता दिखा उधर दौड़ पड़ा. इस चक्कर में क्या महिलाएं और क्या पुरुष दोनों ही गिरते-भागते और पुलिस को करीब देख गिड़गिड़ाते नजर आए. आगे की स्लाइड्स में देखें तस्वीरें..
Prabhat khabar
कृषि बिल के विरोध में प्रदेश के विभिन्न कोने से आये प्रदर्शनकारियों ने मंगलवार को राजभवन मार्च किया. मार्च गांधी मैदान से निकलकर राजभवन की ओर से बढ़ने लगा. मार्च अभी डाकबंगला चौराहा पर पहुंचा ही था कि पुलिस ने आंदोलनकारियों को आगे बढ़ने से रोक दिया. किसान आगे राजभवन की ओर जाना चाहते थे, लेकिन पुलिस ने किसी को आगे बढ़ने की इजाजत नहीं दी. कहासुनी के बीच धक्कामुक्की होने लगी. इसके विरोध में पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा.
कृषि बिल के विरोध में प्रदेश के विभिन्न कोने से आये प्रदर्शनकारियों ने मंगलवार को राजभवन मार्च किया. मार्च गांधी मैदान से निकलकर राजभवन की ओर से बढ़ने लगा. मार्च अभी डाकबंगला चौराहा पर पहुंचा ही था कि पुलिस ने आंदोलनकारियों को आगे बढ़ने से रोक दिया. किसान आगे राजभवन की ओर जाना चाहते थे, लेकिन पुलिस ने किसी को आगे बढ़ने की इजाजत नहीं दी. कहासुनी के बीच धक्कामुक्की होने लगी. इसके विरोध में पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा.
Prabhat khabar
गांधी मैदान से निकला जुलूस डाकबंगला चौराहे पर एकत्रित हो गया. प्रदर्शनकारियों के जबरन आगे बढ़ने की जिद को देखते हुए पहले तो पुलिस ने समझाने का प्रयास किया, फिर लाठीचार्ज करना पड़ा. करीब तीन घंटे तक डाकबंगला से लेकर इन्कम टैक्स चौराहा पुलिस की छावनी में तब्दील रहा. इसके चलते आसपास की सड़कों पर अफरा-तफरी मची रही और लंबा जाम लग गया.
गांधी मैदान से निकला जुलूस डाकबंगला चौराहे पर एकत्रित हो गया. प्रदर्शनकारियों के जबरन आगे बढ़ने की जिद को देखते हुए पहले तो पुलिस ने समझाने का प्रयास किया, फिर लाठीचार्ज करना पड़ा. करीब तीन घंटे तक डाकबंगला से लेकर इन्कम टैक्स चौराहा पुलिस की छावनी में तब्दील रहा. इसके चलते आसपास की सड़कों पर अफरा-तफरी मची रही और लंबा जाम लग गया.
Prabhat khabar
घटनास्थल पर मौजूद रहे सिटी मजिस्ट्रेट की मानें, तो प्रदर्शन कर रहे लोगों में कुछ ने जिला प्रशासन व पुलिसकर्मियों से धक्का-मुक्की की. बताया जा रहा है कि प्रदर्शनकारियों की ओर से पत्थरबाजी भी की गयी. प्रदर्शन के दौरान हजारों की भीड़ थी.
घटनास्थल पर मौजूद रहे सिटी मजिस्ट्रेट की मानें, तो प्रदर्शन कर रहे लोगों में कुछ ने जिला प्रशासन व पुलिसकर्मियों से धक्का-मुक्की की. बताया जा रहा है कि प्रदर्शनकारियों की ओर से पत्थरबाजी भी की गयी. प्रदर्शन के दौरान हजारों की भीड़ थी.
prabhat khabar
मारपीट व अफरा-तफरी की सूचना के बाद एसएसपी उपेंद्र शर्मा दल- बल के साथ डाकबंगला चौराहे पर पहुंचे. उन्होंने करीब 100 से अधिक जवानों के साथ डाकबंगला से इन्कम टैक्स तक पैदल मार्च किया. करीब एक घंटे तक एसएसपी खुद इन्कम टैक्स चौराहे पर फोर्स लेकर खड़े थे. पुलिस ने हल्का बल प्रयोग कर सभी किसानों को खदेड़ा, फिर मामला शांत हुआ.
मारपीट व अफरा-तफरी की सूचना के बाद एसएसपी उपेंद्र शर्मा दल- बल के साथ डाकबंगला चौराहे पर पहुंचे. उन्होंने करीब 100 से अधिक जवानों के साथ डाकबंगला से इन्कम टैक्स तक पैदल मार्च किया. करीब एक घंटे तक एसएसपी खुद इन्कम टैक्स चौराहे पर फोर्स लेकर खड़े थे. पुलिस ने हल्का बल प्रयोग कर सभी किसानों को खदेड़ा, फिर मामला शांत हुआ.
Prabhat khabar
लाठीचार्ज के दौरान एक बुजुर्ग समेत दो युवकों के सिर फट गये. इसके अलावा आधा दर्जन लोग जख्मी हो गये. जख्मी लोगों को पीएमसीएच अस्पताल में इलाज कराया गया. बताया जा रहा है कि लाठीचार्ज के दौरान 100 लोगों को चोटें आयी हैं. हालांकि ,प्रदर्शनकारियों ने पुलिस से धक्का-मुक्की व पत्थरबाजी करने से इन्कार दिया. प्रदर्शनकारियों का कहना है कि पुलिस ने उन्हें दौड़ा-दौड़कार पीटा है, जिसमें बुजुर्गों को अधिक चोटें आयी हैं.
लाठीचार्ज के दौरान एक बुजुर्ग समेत दो युवकों के सिर फट गये. इसके अलावा आधा दर्जन लोग जख्मी हो गये. जख्मी लोगों को पीएमसीएच अस्पताल में इलाज कराया गया. बताया जा रहा है कि लाठीचार्ज के दौरान 100 लोगों को चोटें आयी हैं. हालांकि ,प्रदर्शनकारियों ने पुलिस से धक्का-मुक्की व पत्थरबाजी करने से इन्कार दिया. प्रदर्शनकारियों का कहना है कि पुलिस ने उन्हें दौड़ा-दौड़कार पीटा है, जिसमें बुजुर्गों को अधिक चोटें आयी हैं.
prabhat khabar
नये कृषि कानून के खिलाफ पटना में मंगलवार को प्रदर्शन कर रहे किसान संगठन से जुड़े लोगों और पुलिस में जमकर भिड़ंत हो गयी. मामला इतना अधिक बढ़ गया कि पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा. इसमें तीन प्रदर्शनकारियों के सिर फट गये, वहीं कुछ लोग जख्मी हो गये. इसके बाद दोनों पक्षों में जमकर मारपीट व धक्का -मुक्की की गयी. लाठीचार्ज के बाद भगदड़ की स्थिति मच गई.
नये कृषि कानून के खिलाफ पटना में मंगलवार को प्रदर्शन कर रहे किसान संगठन से जुड़े लोगों और पुलिस में जमकर भिड़ंत हो गयी. मामला इतना अधिक बढ़ गया कि पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा. इसमें तीन प्रदर्शनकारियों के सिर फट गये, वहीं कुछ लोग जख्मी हो गये. इसके बाद दोनों पक्षों में जमकर मारपीट व धक्का -मुक्की की गयी. लाठीचार्ज के बाद भगदड़ की स्थिति मच गई.
prabhat khabar
अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति द्वारा किसानों के राजभवन मार्च पर हुये पुलिसिया लाठीचार्ज की एसयूसीआइ (कम्युनिस्ट) ने निंदा की है. संस्था के राज्य सचिव अरुण कुमार सिंह ने इस घटना की निंदा करते हुये कहा कि किसान विरोधी तीन कृषि कानूनों को अविलंब वापस लेने की मांग कर रहे किसानों के शांतिपूमर्ण मार्च पर पुलिस द्वारा लाठीचार्ज करना दमनात्मक कारवाई है.
अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति द्वारा किसानों के राजभवन मार्च पर हुये पुलिसिया लाठीचार्ज की एसयूसीआइ (कम्युनिस्ट) ने निंदा की है. संस्था के राज्य सचिव अरुण कुमार सिंह ने इस घटना की निंदा करते हुये कहा कि किसान विरोधी तीन कृषि कानूनों को अविलंब वापस लेने की मांग कर रहे किसानों के शांतिपूमर्ण मार्च पर पुलिस द्वारा लाठीचार्ज करना दमनात्मक कारवाई है.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें