Advertisement

Technology

  • Nov 6 2019 6:23AM
Advertisement

फोन इस्तेमाल में अंगुलियों का रखें ख्याल

फोन इस्तेमाल में अंगुलियों का रखें ख्याल
आपका स्मार्ट फोन जानकारियों और मनोरंजन के साथ हाथों और अंगुलियों में दर्द की वजह भी बन सकता है. कुछ साल पहले शुरू हुआ बड़े आकार के मॉडलों का सिलसिला एक ऐसे मोड़ पर आ गया है, जहां फोन का वजन दो सौ ग्राम से अधिक हो चुका है. एप्पल के नये मॉडल आइफोन 11 का वजन 194 ग्राम, वन प्लस 7टी प्रो का 206 ग्राम और आसुस रॉग फोन 2 का 240 ग्राम है. वन प्लस 7टी 190 ग्राम और रेडमी के 20 प्रो 191 ग्राम के हैं. बड़े डिस्प्ले, बड़ी बैटरी की मांग और ज्यादा कैमरों की मांग के चलते छह इंच डिस्प्ले वाले फोन सामान्य हो गये हैं. 
 
ऐसे में उनका वजन बढ़ना स्वाभाविक ही है. 'द ऑर्थोपेडिक इंस्टीट्यूट' को दिये एक इंटरव्यू में डॉ रोजर पॉवेल ने बताया है कि उनके पास ऐसे मरीज आने लगे हैं, जिन्हें स्मार्टफोन के ज्यादा इस्तेमाल से अंगुलियों व हथेलियों में दर्द और उनके सुन्न होने की शिकायत है. कोहनियों और जोड़ों में भी दर्द हो सकता है. मांसपेशियोंं में तनाव की समस्या बढ़ रही है. इस डॉक्टर का कहना है कि स्मार्टफोन के वजन बढ़ने से ऐसे मरीजों की संख्या बढ़ने का अंदेशा है. 
 
आम तौर पर यूजर फोन की सुरक्षा के लिए उसे कवर में रखने के साथ मजबूत पारदर्शी प्लास्टिक भी चिपका देते हैं, जिससे उसका वजन बढ़ जाता है. ऐसे में यह सवाल भी जायज है कि इन फोनों को तो करोड़ों लोग इस्तेमाल करते हैं, तो दर्द होने या सुन्न पड़ने की शिकायतें सभी के साथ क्यों नहीं हो रही हैं. इसका जवाब देते हुए डॉ पॉवेल कहते हैं कि लोगों के हाथों की बनावट में भिन्नता है. 
 
इसके साथ कुछ के साथ कमजोर ऊतकों की समस्या है. लेकिन कंप्यूटर और स्मार्टफोन पर काम करने के कारण हर किसी को सावधान रहने की जरूरत है. कंपनियों को हल्के और छोटे स्मार्टफोन भी मुहैया कराना चाहिए, ताकि लोगों के पास विकल्प हो और वे स्मार्टफोन की खूबियों से भी वंचित न हों. दर्द और अन्य संबंधित परेशानियों से बचने के लिए फोन के बहुत ज्यादा इस्तेमाल से भी परहेज करना फायदेमंद हो सकता है.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement