Advertisement

sitamarhi

  • Aug 28 2018 3:50AM

तिलका मांझी पुरस्कार से सम्मानित हुईं परिहार की प्रीति

 सीतामढ़ी : समाज सेवा, गीतकार, कवयित्री, नायिका, लोक गायिका और सहायक निर्देशक के रूप में राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बना चुकी युवा कलाकार प्रीति सुमन को 26 अगस्त को भागलपुर में तिलका मांझी पुरस्कार से सम्मानित किया गया.

 जिले के परिहार प्रखंड अंतर्गत गजेंद्र मोहन व मंजू रानी की बेटी प्रीति को यह पुरस्कार युवा समाजसेवी के रूप में दिया गया है. सामाजिक कार्यों के लिए वह नव भारती सेवा न्यास से जुड़ कर अपनी प्रभावकारी पहचान बना रही है. प्रीति के सम्मानित होने से जिले के साहित्य प्रेमियों में खुशी की लहर है. 
 
पहले गुरु के रूप में प्रीति को मिले पिता: प्रीति के पिता रंगमंच से जुड़े होने के कारण प्रीति के पहले गुरु है. पिता के उत्साहित करने पर प्रीति बाल्यकाल से ही रंगमंच से जुड़ गयी. प्रीति ने कला व समाजसेवा के क्षेत्र में अपना नाम स्थापित करने का मन बना लिया. फिर क्या था वह मेहनत के बल पर वह लगातार सफलता की सीढ़ी चढ़ती गयी. गांव-देहात में सफलतापूर्वक नाटक का मंचन करने के बाद वह बड़े मंच की तलाश में प्रीति दिल्ली पहुंची. वहां से मुंबई का रूख़ किया. जहां उसकी कला को सराहना हुए विभिन्न क्षेत्रों में प्रीति को अवसर मिला. अभी तक भोजपुरी, मैथिली व हिंदी में प्रीति के 50 से अधिक गाने रिलीज हो कर लोकप्रिय हो चुके हैं. 
 
गायन, नायिका व निर्देशन के क्षेत्र में मिली सफलता:  2014 में दिल्ली इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल के बुक  में भी प्रीति की कविता को प्रमुखता से प्रकाशित किया गया था. पत्र-पत्रिकाओं में प्रीति की कविताएं लगातार छपती रहती हैं.
 
 प्रीति को संस्कार चैनल के लिए भी कई गाना लिखने का मौका मिला. बिहार के शताब्दी महोत्सव के लिए स्वर्णिम बिहार और आई लव यू बिहार नामक गीत लिख चुकी है. 2016 में टीवी चैनल इंडिया न्यूज पर कवि सम्मेलन कर चुकी है. आकाशवाणी में भी काव्यपाठ कर चुकी है. सोनी टीवी पर महावीर हनुमान, जी टीवी पर अम्मा सीरियल, सब टीवी पर  सब ठीक छई व डीडी बिहार पर एसएन झा की गजब दुनिया में वह नायिका के रूप में काम कर चुकी है. इसके अलावा प्रीति, मेक इन इंडिया फिल्म में भी काम कर चुकी है. लोक गायिका के रूप में  सिया के बारात, जय जय मइया अंबे भवानी व उगह हो सुरुज देव में गा चुकी है. इसी प्रकार सहायक निर्देशक के रूप में एक था राजा एक थी रानी, पेशवा बाजीराव, संतोषी मां, सावधान इंडिया, क्राइम पेट्रोल व मशाल सीरियल फिल्मों में काम कर चुकी है. वह नाटक के माध्यम से सामाजिक कुरीतियों को दूर करना चाहती है.
उपलब्धि
राष्ट्रीय स्तर पर बनती जा रही 
प्रीति की पहचान
सामाजिक कुरीतियों को दूर करना चाहती हैं प्रीति
प्रीति के सम्मान से साहित्य प्रेमियों में खुशी की लहर
 
 
 
Advertisement

Comments

Advertisement