Advertisement

siliguri

  • Oct 13 2019 1:42AM
Advertisement

जलपाईगुड़ी का जयपुर चाय बागान बंद, 1500 श्रमिक हुए बेरोजगार

 जलपाईगुड़ी : चाय श्रमिकों के वेतन भुगतान संबंधित समस्या को लेकर बागान प्रबंधन से विवाद होने के बाद जलपाईगुड़ी का जयपुर चाय बागान बंद हो गया. शनिवार सुबह जयपुर चाय बागान प्रबंधन ने सस्पेंशन ऑफ वर्क का नोटिस चस्पा कर दिया. इससे बागान के स्थायी और अस्थायी 1500 श्रमिक बेरोजगार हो गये.

 
प्राप्त जानकारी के मुताबिक बागान में 11 अक्तूबर को पाक्षिक वेतन देने की बात कही गयी थी, लेकिन बागान प्रबंधन इस पर राजी नहीं हुआ. शुक्रवार को जब वेतन नहीं मिला तो नाराज श्रमिकों ने ऑफिस मैनेजर सहित अन्य कर्मियों को दिन के 1 बजे से लेकर शाम 7 बजे तक घेरकर रखा.
 
 हालांकि इस दौरान कोई विवाद नहीं हुआ. शनिवार सुबह जब श्रमिक काम पर पहुंचे तो बागान के ऑफिस व फैक्टरी के मुख्य द्वार पर ताला लटक रहा था. इस दौरान प्रबंधन का कोई अधिकारी वहां मौजूद नहीं था. इस संबंध में बागान के एक श्रमिक राममोहन झा ने बताया कि 11 अक्तूबर को घेराव कर प्रबंधन से 2 पाक्षिक बकाया वेतन की मांग की गयी थी.
 
 लेकिन प्रबंधन सिर्फ 400 रुपये देने को राजी हुआ. जिसे श्रमिकों ने लेने से इंकार कर दिया.  वहीं दूसरी ओर कांग्रेस के एनयूपीडब्लू केंद्रीय कमेटी के नेता देवब्रत नाग ने बताया कि कुछ दिनों पहले बोनस की समस्या को बातचीत से हल किया गया था. लेकिन मालिक पक्ष श्रमिकों का बकाया पाक्षिक वेतन काली पूजा से पहले भुगतान करने को राजी नहीं हुआ.
 
 इसपर श्रमिकों ने मैनेजर का घेराव किया था, जबकि जयपुर चाय बागान के सीनियर मैनेजर डीआर चौधरी ने कहा कि 11 अक्तूबर के बदले 15 एवं अगला पाक्षिक वेतन  22 अक्तूबर को देने को राजी थे. 11 अक्तूबर को श्रमिकों को 400 रुपये तक देने की बात कही गयी. लेकिन श्रमिक नहीं माने. वे 11 अक्तूबर को ही दोनों पाक्षिक वेतन मांगने लगे. उन्होंने कहा कि आर्थिक स्थिति खराब रहने के कारण कुछ समय मांगा गया था. 
 
लेकिन श्रमिकों ने दबाव डालकर 14 व 15 अक्तूबर को दो पाक्षिक वेतन देने की बात लिखवा ली. शुक्रवार को श्रमिकों ने कोई काम नहीं किया. उत्तेजित श्रमिकों ने प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी भी की. उन्होंने कहा कि सुरक्षा कारणों को देखते हुए बागान में सस्पेंशन ऑफ वर्क का नोटिस लगाया गया है.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement