Advertisement

siliguri

  • Aug 25 2019 3:40AM
Advertisement

मालदा जिले में मिले डेंगू के सात मरीज

मालदा मेडिकल कॉलेज-अस्पताल और ब्लॉक अस्पतालों में हर रोज भर्ती हो रहे अज्ञात ज्वर के मरीज 

 
मालदा : बरसात के आखिर में जिले में अज्ञात ज्वर के साथ डेंगू ने भी अपने पैर पसारना शुरु कर दिया है. हालांकि जिला स्वास्थ्य विभाग ने इसे नियंत्रण के भीतर बताया है वहीं, मरीजों के परिवारवालों के माथे पर चिंता की लकीरें साफ पढ़ी जा सकती हैं. मेडिकल कॉलेज-अस्पताल के उपाधीखक अमित दां के अनुसार जिले में सात मरीजों के रक्त में डेंगू के विषाणु मिले हैं. वहीं, जिले के ब्लॉक अस्पतालों में कई सौ अज्ञात ज्वार के मरीज भर्ती किये गये हैं. वहीं, जिला स्वास्थ्य विभाग के अनुसार हालात नियंत्रण के भीतर है. अनावश्यक भय का कोई कारण नहीं है. मरीजों की पूरी तरह देखभाल की जा रही है. 
 
मरीजों के परिजनों का कहना है कि जब तक रोग ज्यादा जटिल नहीं हो रहा है तब तक प्रखंड अस्पतालों से मरीजों को मेडिकल कॉलेज नहीं भेजा जा रहा है. मेडिकल कॉलेज में भर्ती एक मरीज के परिवार की शुभ्रा मंडल ने बताया कि मेडिकल कॉलेज में अज्ञात ज्वर और डेंगू के मरीजों को एक ही वार्ड में रखा जा रहा है. इससे अन्य मरीजों में भी डेंगू के विषाणु के संक्रमण का खतरा बढ़ गया है. मरीजों को हर समय मच्छरदानी के भीतर नहीं रखा जा रहा है. ऐसा अगर रहा तो उन्हें बाध्य होकर मरीज को घर ले जाना पड़ेगा. ऐसी अवस्था में लोगों में भय समा रहा है. 
 
मालदा जिला परिषद की जनस्वास्थ्य विभागाध्यक्ष पायल खातून ने बताया कि जिले भर में ज्वर का प्रकोप बढ़ रहा है. हालात पर नजर रखी जा रही है. किसी भी परिस्थिति के लिये ब्लॉक अस्पतालों में बुनियादी सुविधायें तैयार रखी जा रही है. ग्रामीण अंचलों में लोगों को सचेत किया जा रहा है. नियमित स्वास्थ्य जांच की जा रही है.
 
मालदा मेडिकल कॉलेज-अस्पताल के उपाधीक्षक अमित दां ने बताया कि हालात नियंत्रण में है. मेडिकल कॉलेज के सात मरीजों के रक्त में डेंगू के विषाणु मिले हैं. डेंगू के मरीजों के लिये अलग से व्यवस्था की गयी है. मच्छरदानी में मरीजों को रखा गया है. वहीं, अज्ञात ज्वर के मरीजों पर नजर रखी जा रही है. ग्रामीण इलाकों में जागरुकता पर जोर दिया जा रहा है. 
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement