Advertisement

siliguri

  • Jan 12 2019 5:13AM
Advertisement

मुख्यमंत्री के दौरे के बाद चढ़ेगा पहाड़ का राजनीतिक तापमान

मुख्यमंत्री के दौरे के बाद चढ़ेगा पहाड़ का राजनीतिक तापमान
दार्जिलिंग :  जनवरी माह के तीसरे सप्ताह मुख्यमंत्री दार्जिलिंग पहुंच रही हैं. दौरे के बाद इस ठंड में भी पहाड़ की चुनावी सरगर्मी तेज होने की उम्मीद है. आसन्न लोकसभा चुनाव को देखते हुये दार्जिलिंग लोकसभा क्षेत्र से क्रामाकपा की ओर से संयुक्त उम्मीदवार की वकालत की जा रही है. क्रामाकपा का स्थानीय भूमिपुत्र उम्मीदवार पर भी जोर है. इसके लिये क्रामाकपा ने चुनावी कमेटी का भी गठन किया है.
 
 कुछ दिनों पहले आगामी लोकसभा चुनाव को देखते हुये क्रामाकपा केंद्रीय कमेटी की सभा स्थानीय पार्टी कार्यालय में आयोजित की गयी थी. उक्त सभा में दार्जिलिंग लोकसभा सीट की जमीन सच्चाई जानने के लिये क्रामाकपा चुनावी कमिटी ने सर्वे करके रिपोर्ट पेश करने का निर्देश जारी किया है. जिसके तहत क्रामाकपा चुनावी कमिटी ने सर्वे का काम भी शुरू कर दिया है. 
 
आगामी 15 जनवरी के भीतर सभी क्षेत्र का रिपोर्ट केन्द्रीय कमिटी के समक्ष सौंपा जा रही है. इसके बाद क्रामाकपा केन्द्रीय चुनाव कमिटी की सभा का आयोजना किया जायेगा. पहाड़ के जितने भी राजनैतिक दलों के साथ सर्वदलीय बैठक करने का घोषणा कर चुकी है. 
 
 इसी तरह से अखिल भारतीय गोर्खालीग पार्टी ने भी दार्जिलिंग लोकसभा सीट से सर्वोच्च न्यायालय के अधिवक्ता वंदना राई को संयुक्त उम्मीदवार के रूप में पेश करने की घोषणा कर चुकी है. पिछले कुछ दिनों पहले शहर के लाडेनला रोड स्थित गोर्खालीग केन्द्रीय कार्यालय में केन्द्रीय कमिटी की बैठक सम्पन्न हुयी थी.
 
 जिसमें दार्जिलिंग लोकसभा सीट से वंदना राई को संयुक्त उम्मीदवार का नाम लिया. इस संदर्भ में पहाड़ के जितने भी राजनैतिक दल हैं, उन सभी की ऑल पार्टी मीटिंग करके संयुक्त उम्मीदवार के रूप में गोर्खालीग पार्टी की ओर से वंदना राई का नाम पेश करने की घोषणा कर चुकी है. 
 
इसी तरह से माकपा ने दार्जिलिंग लोकसभा सीट से माकपा के वरिष्ठ श्रमिक नेता समन पाठक को पार्टी उम्मीदवार के रूप में खड़ा करने की चर्चा हो रही है. लेकिन इस संदर्भ में अधिकारिक रूप से कोई सूचना नहीं है. 
 
कांग्रेस की ओर से दार्जिलिंग लोकसभा सीट से शंकर मालंकर का नाम सामने आ रहा है. लेकिन इस बारे में भी अधिकारिक रूप से पुष्टि नहीं की गयी है. भाजपा दार्जिलिंग जिला कमिटी ने भूमिपुत्र उम्मीदवार की मांग की है. 
 
लेकिन इस संदर्भ में भाजपा आलाकमान की ओर से ऐसा कोई खबर नहीं मिला है. इसी तरह से आगमी 21 जनवरी को राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सरकारी कार्यक्रम में भाग लेने के लिये दार्जिलिंग आ रही हैं.
 
 उस दौरान दार्जिलिंग लोकसभा सीट से पार्टी ने क्या सोच बनाया है. इस संदर्भ में कुछ संकेत दे सकती हैं. दूसरी ओर गोजमुमो विनय गुट और गोरामुमो ने लोकसभा चुनाव के संदर्भ में खामोश है. लेकिन चल रहे जनवरी माह के तीसरे सप्ताह से दार्जिलिंग पर्वतीय क्षेत्र की राजनीतिक सरगर्मी तेज होने का संकेत मिल रहा है.
 

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement