siliguri

  • Dec 14 2019 6:17AM
Advertisement

बांग्लादेश से पूर्व परीक्षण के तौर पर बस सेवा शुरू

बांग्लादेश से पूर्व परीक्षण के तौर पर बस सेवा शुरू

बीएसएफ की ओर से किया गया यात्रियों का स्वागत

16 को यात्री लौटेंगे बांग्लादेश
 
सिलीगुड़ी : भारत-बांग्लादेश के बीच संबंध को अधिक मजबूत बनाने के लिए ढाका से सिलीगुड़ी होते हुए सिक्किम तक बस सेवा शुरू की गयी है. इसका पहला ट्रायल रन शुक्रवार को सफल रहा. शुक्रवार सुबह श्यामली ट्रेवल्स की दो बसें भारत-बांग्लादेश सीमा के फुलबाड़ी पहुंचते ही बीएसफ की ओर से यात्रियों का स्वागत किया गया. इसके बाद बस 41 यात्रियों को लेकर अपने गंतव्य स्थल के लिए रवाना हो गयी.
 
पर्यटकों के रूझान को देखते हुए बांग्लादेश सड़क परिवहन कॉरपोरेशन (बीआरटीसी) की ओर से यह सेवा शुरू की गयी है. गुरुवार की रात आठ बजे 28 लोगों की क्षमता वाली दो बसें बांग्लादेश की राजधानी ढाका से सिक्किम के लिए रवाना हुयीं, जो शुक्रवार की सुबह भारत-बांगलादेश सीमा स्थित फुलबाड़ी पहुंचीं.
 
फुलबाड़ी में बीएसएफ की ओर से यात्रियों का स्वागत किया गया. सीमांत इलाके में कागजी कार्यवाही पूरी करने के बाद बस को सिक्किम के लिए रवाना कर दिया गया. मिली जानकारी के अनुसार यह बस पांच दिनों के सफर पर पर्यटकों लेकर निकली है. पर्यटक 16 दिसंबर को वापस बांग्लादेश लौट जायेंगे. इसके लिए बांग्लादेश के अनुभवी चालकों को नियुक्त किया गया है. 
 
इस संबंध में बीआरटीसी के संयुक्त सचिव मोहम्मद साफिकुल करीम ने बताया कि दो बसों को लेकर वे ट्रयल रन पर आये हैं. गुरुवार को बसें ढाका से निकलीं और शुक्रवार को सिलीगुड़ी होते हुए दार्जिलिंग जायेंगी.
 
वहां से गंगतोक के लिए रवाना होंगी. परिस्थितियों की बारिकी से जांच के बाद बीबीआईएम समझौता के तहत इसके क्रियान्वयन पर विचार किया जायेगा. उन्होंने बताया कि ढाका से सिलीगुड़ी होते हुए सिक्किम तक बस सेवा चालू करने को वे भी इच्छुक हैं. इससे बांग्लादेश के पर्यटकों को काफी लाभ मिलेगा.   
  
बीआरटीसी के जीएम फाइनेंस अमजह हुसैन ने बताया कि उनका उद्देश्य दोनों देशों के बीच दोस्ती के संबंध को और ज्यादा प्रगाढ़ करना है. इससे दोनों देश के लोगों के बीच संपर्क भी बढ़ेगा. बस सेवा में बांग्लादेश के पर्यटकों को भी काफी लाभ मिलेगा. उन्होंने बताया कि पहाड़ी, रोड इत्यादि को देखकर एक रिपोर्ट तैयार करेंगे. बीबीआईएम समझौता लागू होने में अगर विलंब होता है तो दोनों देशों के बीच अंडरस्टैंडिंग समझौते के तहत बस चलायी जायेगी.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement