Advertisement

ranchi

  • Sep 11 2019 7:05PM
Advertisement

Jharkhand : हजारीबाग में 18 बच्चों से भरे स्कूल वैन को ट्रक ने एक किलोमीटर तक घसीटा

Jharkhand : हजारीबाग में 18 बच्चों से भरे स्कूल वैन को ट्रक ने एक किलोमीटर तक घसीटा

रामशरण शर्मा

इचाक/हजारीबाग : झारखंड के हजारीबाग जिला में मासूम बच्चों से भरे स्कूल वैन को एक ट्रक ने एक किलोमीटर तक घसीटा. स्कूल वैन में ड्राइवर नहीं था. दिल दहलाने वाली यह घटना रांची-पटना मार्ग पर हजारीबाग जिला के इचाक थाना क्षेत्र के इचाक मोड़ के पास सड़क पर हुई.

इसे भी पढ़ें : खिजरी में बोले मुख्यमंत्री रघुवर दास : छह दशक तक देश पर राज करने वाली कांग्रेस ने किसानों को कर्जदार बना दिया

इचाक मोड़ के पास ऑक्सफोर्ड पब्लिक स्कूल का स्कूल वैन JH 01F 7370 सड़क के किनारे खड़ा था. वैन में 18 बच्चे बैठे थे. इसी बीच, बरही से हजारीबाग की ओर जा रहा ट्रक JH 02T 2637 के अगले हिस्से में वैन फंस गया.

स्कूल वैन में बैठे बच्चे चिल्लाते रहे और नशे में धुत ट्रक चालक बेफिक्र होकर ट्रक चलाता रहा. जिसने भी यह दृश्य देखा, अवाक रह गया. लोग गाड़ी रोकने का इशारा करते हुए ट्रक के पीछे-पीछे दौड़ते रहे, लेकिन ड्राइवर ने किसी की ओर ध्यान ही नहीं दिया. करीब एक किलोमीटर जाने के बाद बरियठ पेट्रोल पंप के सामने एक झटके से ट्रक में फंसा मारुति वैन अलग हो गया.

इसे भी पढ़ें :Video : PM Modi के आने से पहले रघुवर दास ने किया कार्यक्रम स्थल का दौरा, आवश्यक दिशा-निर्देश दिये

ट्रक से अलग होते ही वैन तीन बार पलटने के बाद सीधा खड़ा हो गया. दौड़कर ग्रामीणों ने बच्चों को वैन से सुरक्षित निकाला. वैन में सिझुआ गांव के 15 और डुमरौन गांव के 3 बच्चे बैठे थे. आक्रोशित ग्रामीण वैन के ड्राइवर दांगी गांव निवासी मुकेश मेहता को खोजने लगे. लेकिन, वह नहीं मिला.

दूसरी तरफ, बोंगा पेट्रोल पंप के पास लोगों ने ट्रक को जबरन रोका. इचाक थाना के एएसआइ जेके सिंह भी पुलिस बल के साथ वहां पहुंचे. पुलिस ने भीड़ से ड्राइवर को बचाया और उसे इचाक थाना ले गयी. ट्रक को भी पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया. इचाक थाना लाते ही नशे में धुत ड्राइवर ने थाना परिसर में उल्टी कर दी.

इसे भी पढ़ें : धनबाद के किसानों को फसल का मुआवजा शीघ्र देने का निर्देश, जनसंवाद में आज 21 शिकायतों की समीक्षा

ड्राइवर ने अपना नाम अरविंद कुमार उपाध्याय (पिता कामदेव उपाध्याय ग्राम मझियावां, बाराचट्टी, जिला : गया) बताया है. इधर, बच्चों के माता-पिता ने कहा कि उनके बच्चों को नयी जिंदगी मिली है. वहीं, बच्चे सदमे में हैं और कुछ भी बोलने से मना कर रहे हैं.

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement