ranchi

  • Dec 8 2019 8:00AM
Advertisement

मरीजों की नहीं हो रही सोडियम पोटैशियम व कैल्शियम की जांच

रांची   : रिम्स में आनेवाले  गंभीर मरीजों की आवश्यक जांच (सोडियम, पोटैशियम व कैल्शियम) पूरी तरह बंद है. यह जांच रिम्स में मुफ्त है, लेकिन इकोलाइट मशीन खराब होने कारण इस जांच के लिए मरीजों को निजी लैब का सहारा लेना पड़ रहा है.  बायोकेमेस्ट्री विभाग में विगत पांच दिनों से इकोलाइट मशीन खराब है. इस कारण उक्त जांच नहीं हो पा रही है. 

 
 ज्ञात हो कि इमरजेंसी में आनेवाले गंभीर मरीजों को डॉक्टर सोडियम, पोटैशियम व कैल्शियम की जांच लिखते हैं,  लेकिन रिम्स में जांच नहीं होने के कारण उन्हें निजी लैब में जांच के लिए जाना पड़ता है. इसके लिए मरीज को 450 रुपये तक खर्च करने पड़ते हैं. वहीं रिम्स में (एपीएल-बीपीएल दोनों) मुफ्त में इस जांच की सुविधा है. जांच बंद होने के कारण सबसे ज्यादा परेशानी दूर-दराज से आये मरीजों को होती है. 
 
उन्हें यह पता नहीं होता है कि जांच किस लैब में करायें. हालांकि बीपीएल मरीज के लिए सरकार की अधिकृत जांच एजेंसी मेडॉल में यह जांच मुफ्त में होती है, लेकिन एपीएल मरीजों को इस जांच के लिए निजी लैब का सहारा लेना पड़ता है.  कई बार मरीज के परिजन दलाल के चक्कर में पड़ जाते हैं. इससे उन्हें अधिक पैसा चुकाना पड़ता है.  
 
रिम्स में यह जांच मुफ्त है, पर मरीजों को निजी लैब का लेना पड़ रहा सहारा
राज अस्पताल को शो-कॉज एक सप्ताह में मांगा जवाब
अस्पताल प्रबंधन से तीन बिंदुओं पर मांगा गया जवाब
भर्ती मरीजों को डॉक्टर द्वारा लिखी गयी दवा व फार्मेसी से जारी दवा में अंतर क्यों है
मरीज के परिजनों से अधिक दवाएं क्याें खरीदवायी गयी, जबकि कम दवा लिखी गयी
दवाओं की खरीद मूल्य बहुत कम है, लेकिन मरीजों से एमआरपी पर पैसा लिया गया है
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement