ranchi

  • Dec 8 2019 7:59AM
Advertisement

पाटलिपुत्रा एक्सप्रेस में एसी-टू बोगी की जगह एसी-थ्री कोच लगाया, यात्रियों ने किया हंगामा

 रांची   : हटिया-पटना पाटलिपुत्रा एक्सप्रेस से यात्रा करने वाले लोग शनिवार को परेशान रहे. यात्री जब स्टेशन पहुंचे, तो उन्हें ट्रेन में एसी-टू की बोगी दिखाई नहीं दी. यात्री आनन-फानन में दूसरी बोगी में सवार हो गये. जब यात्रियों ने एसी-टू बोगी के बारे में टीटी से जानकारी मांगी, तो उन्होंने बताया कि ट्रेन में आज एसी-टू बोगी की जगह एसी-थ्री बोगी लगायी गयी है. इसके बाद यात्रियों ने ट्रेन में हंगामा करना शुरू कर दिया.

 
 यात्रियों का कहना था कि जब एसी-टू का टिकट लिया है, तो एसी-थ्री में सफर क्यों करें. इस पर टीटी ने कहा कि तकनीकी खराबी के कारण एसी-थ्री बोगी लगायी गयी है. वहीं इस बाबत रेलवे के अधिकारी ने बताया कि यार्ड में एसी-टू बोगी की जांच में तकनीकी खराबी आ गयी थी. ऑपरेशन विभाग की लापरवाही के कारण समय पर एसी-टू बोगी में आयी खराबी को दूर नहीं किया जा सका व दूसरा एसी-टू बोगी उपलब्ध नहीं करायी गयी. 
 
इधर, इस संबंध में पूछे जाने पर सीपीआरओ नीरज कुमार ने कहा कि तकनीकी खराबी के कारण एसी-थ्री की बोगी लगायी गयी. यात्रियों से एसी-थ्री का ही पैसा लिया जायेगा.  टिकट दिखा कर यात्री पैसा वापस ले सकते हैं.
 
दक्षिण-पूर्व रेलवे ने लक्ष्य से अधिक माल ढुलाई की
रांची. दक्षिण-पूर्व रेलवे ने चालू वित्तीय वर्ष में माल ढुलाई, लोडिंग और कमाई में वृद्धि की है. चालू वित्तीय वर्ष (2019-20) में अप्रैल से नवंबर तक 110.71 मिलियन टन माल ढुलाई की है, जो पिछले वित्तीय वर्ष की तुलना में इस अवधि में 9.49 प्रतिशत अधिक है. पिछले वित्तीय वर्ष 2018-19 में अप्रैल से नवंबर माह में 101.11 मिलियन टन माल की ढुलाई की गयी थी. 
 
दक्षिण-पूर्व रेलवे ने रेलवे बोर्ड द्वारा दिये गये लक्ष्य से 5.18 मिलियन टन अधिक माल की ढुलाई की है. माल ढुलाई से 9330.02 करोड़ रुपये अर्जित किया, जो पिछले वित्तीय वर्ष (इस अवधि में) की तुलना में 1174.58 करोड़ रुपये अधिक है. चालू वित्तीय वर्ष में दक्षिण-पूर्व रेलवे ने लौह अयस्क 63.12 मिलियन टन, कोयला 22.71 मिलियन टन, पिग आयरन और तैयार स्टील 10.69 मिलियन टन और सीमेंट की ढुलाई 7.29 मिलियन टन की है.  
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement