Advertisement

ranchi

  • Sep 19 2019 9:12AM
Advertisement

रांची : आंतरिक मूल्यांकन के मार्क्स की जांच कर सकता है जैक : अध्यक्ष

रांची : माध्यमिक शिक्षा की स्थिति में व्यापक सुधार हुआ है, पर अभी भी काफी सुधार होना बाकी है. स्कूल के स्तर पर दिये जाने वाले मार्क्स में गड़बड़ी की जा रही है.  आंतरिक मूल्यांकन (इंटर्नल असेसमेंट) के तहत दिये जाने वाले नंबर के  लिए ठोस आधार जरूरी है. उक्त बातें जैक अध्यक्ष डॉ अरविंद प्रसाद सिंह ने कही. श्री सिंह माध्यमिक शिक्षा और मूल्यांकन में गुणवत्ता सुधार विषय पर ठाकुर विश्वनाथ शाहदेव विद्यालय में आयोजित कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे.
 
 कार्यशाला में रांची जिले के राजकीय, राजकीयकृत, प्रोजेक्ट,अल्पसंख्यक, उत्क्रमित, मॉडल, कस्तूरबा सहित आवासीय उच्च विद्यालयों के डेढ़ सौ से ज्यादा प्रधानाध्यापकों ने भाग लिया. जैक अध्यक्ष ने कहा कि असेसमेंट की गड़बड़ी रोकने के लिए कभी भी स्कूल स्तर पर दिये जाने वाले नंबर की जांच की जा सकती है.  
 
उन्होंने कहा कि दूसरे राज्यों की तुलना में झारखंड एकेडमिक काउंसिल  का दायरा बड़ा है. हमारा काम महज परीक्षा आयोजित करने का नहीं, बल्कि शिक्षा  की गुणवत्ता में सुधार लाना भी है. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के सहयोग  से स्कूलों में शिक्षा के पैटर्न को बदला जा रहा है. 
इसमें क्लास, विषय और मूल्यांकन स्तर पर कई बदलाव शामिल  हैं. रांची आरडीडीइ अशोक कुमार शर्मा ने पाठ्यक्रम में गणित, विज्ञान, अंग्रेजी  और प्रैक्टिकल क्लासेज को प्राथमिकता में शामिल करते हुए सौ  फीसदी रिजल्ट देने की बात कही. मौके पर जैक सचिव महिप कुमार सिंह, अशोक  कुमार वर्मा, डीइओ आदि मौजूद थे. 
 
स्कूल में गणित की होगी पहली घंटी : स्कूलों में नौवीं और 10वीं कक्षा के लिए फोकस सब्जेक्ट के तौर पर क्रमवार विषय तय किये गये हैं. प्रत्येक दिन पहली कक्षा गणित की होगी. इसके बाद क्रमश: विज्ञान, अंग्रेजी, सामाजिक विज्ञान व अन्य विषयों की कक्षा होगी. पाठ्यक्रम को 12 महीने में विभाजित करके पढ़ाई की जानी है. प्रत्येक महीने 45 मिनट की जांच परीक्षा लेनी है. 
 
इंटर्नल असेसमेंट में उपस्थिति पर तय अंक
 
उपस्थिति  अंक
80 से 100  05अंक
60 से 80  04अंक
50 से 60  03अंक
40 से 50  02अंक
30 से 40  01अंक   
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement