Advertisement

ranchi

  • Aug 25 2019 7:06AM
Advertisement

विकास में सीएसआर की अहम भूमिका

 रांची : जेवियर इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल सर्विस में शनिवार को  'सीएसआर कॉन्क्लेव : सीएसआर एंड रूरल बिजनेस डेवलपमेंट फॉर रूरल सेक्टर' का आयोजन हुआ़    इसमें मुख्य अतिथि टाटा स्टील के चीफ सीएसआर  सौरव रॉय ने कहा कि   समाज के सतत विकास में सीएसआर की भूमिका अहम है़  

 
  एक्सआइएसएस के पूर्व छात्र सह 'इरमा' के सदस्य  प्रोफेसर सुधीर कुमार सिन्हा ने कहा कि  सीएसआर  चयन के बजाय स्वैच्छिक और अनिवार्य विषय  है़  इससे पूर्व एक्सआइएसएस के रूरल मैनेजमेंट के एचओडी डॉ हिमाद्री सिन्हा ने सीएसआर के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्र में उद्यम के  विकास और इसकी रणनीतियों की संभावनाएं, अवसर व गतिशीलता पर केंद्रित कॉन्क्लेव का एजेंडा सामने रखा़  
 
  दूसरे सत्र में  इरमा के  प्रोफेसर सुधीर कुमार सिन्हा व जेसीबी फरीदाबाद की एसोसिएट वाइस प्रेसिडेंट सह सीएसआर हेड मालिनी गुप्ता ने सीएसआर के समक्ष ग्रामीण क्षेत्र के लिए लघु व्यवसाय विकास की चुनौतियों से निपटने के बारे में अपने विचार साझा किये.  लोगों के सवालों के जवाब भी दिये और उनकी िजज्ञासाओं का समाधान किया.
 
सीएसआर की सक्सेस स्टोरीज बतायी
तीसरे सत्र में एक्सआइएसएस प्रो केके भगत ने विभिन्न कंपनियों के सीएसआर और इससे संबंधित प्रतिनिधियों की सफलता की कहानियां प्रस्तुत की़  इस क्रम में जीएम-ईआर, टाटा मोटर्स दीपक कुमार, अडाणी इंटरप्राइजेज के  सीएसआर हेड राजेश रंजन  व सीएसआर एक्जीक्यूटिव देवदर्शी  मालाकार,  सीसीएल सीएसआर के मुख्य प्रबंधक ए सुंदर और एएम श्वेता शालिनी हांसदा, सीएसआर प्रबंधक टाटा मोटर्स के सीएसआर हेड  अचिंत्य के सिंह व   गुरु दत्ता दीवेदी और लीड्स के संस्थापक निदेशक अवध किशोर सिंह की उपलब्धियां बतायी गयी़ं  
 
 डॉ राजश्री वर्मा ने  रूरल  मैनेजमेंट क्लब 'प्रकृति' का  शुभारंभ भी किया़ कार्यक्रम को  एक्सआइएसएस के कार्यवाहक निदेशक डॉ अमर  एरोन तिग्गा,    डॉ संत कुमार प्रसाद,  फादर प्रदीप केरकेट्टा, एसोसिएट प्रोफेसर डॉ अनंत कुमार और  डॉ निरंजन साहू ने भी संबोधित किया़
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement