Advertisement

ranchi

  • Jul 13 2019 1:20AM
Advertisement

रिम्स में 15 करोड़ की लागत से बनेगा 205 कमरों का विश्रामगृह

रिम्स में 15 करोड़ की लागत से बनेगा 205 कमरों का विश्रामगृह

 रांची  : पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड रिम्स परिसर में विश्रामगृह बनाने जा रहा है. शनिवार को मुख्यमंत्री रघुवर दास इसकी आधारशिला रखेंगे. 15 करोड़ रुपये की लागत से बननेवाला यह विश्रामगृह 18 माह में (जनवरी 2021 तक) तैयार हो जायेगा, जिसके बाद इसे रिम्स प्रबंधन को हैंडओवर कर दिया जायेगा.

 
 यानी उसके बाद दूर-दराज से रिम्स में इलाज के लिए आनेवाले मरीजों और उनके परिजन को किराये का कमरे, होटल या लॉज में नहीं रुकना पड़ेगा.  कॉरपोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी  (सीएसआर) के तहत रिम्स परिसर में विश्रामगृह का निर्माण सरकारी एजेंसी एचएचसीसी द्वारा कराया जायेगा. पावर ग्रिड के अधिकारियों ने बताया कि इस भवन में कुल 205 कमरे बनाये जायेंगे. 
 
भवन में पांच फ्लोर होंगे, जिसमें डॉरमेट्री के अलावा सिंगल कमरे, स्नानागार और शौचालय की भी व्यवस्था होगी. मरीज के परिजन को खाने  के लिए अस्पताल परिसर से बाहर न जाना पड़े, इसके लिए ग्राउंड फ्लोर पर किचन भी बनेगा.
 
भवन की आंतरिक सज्जा भी करेगा पावर ग्रिड 
पावर ग्रिड भवन की आंतरिक साज-सज्जा भी करेगा. कमरे में बेड के अलावा किचेन में टेबल-कुर्सी की भी व्यवस्था की जायेगी. भवन को हैंडओवर लेने से पूर्व रिम्स की कमेटी भवन का निरीक्षण भी करेगी. 
 
भवन को हैंडओवर लेने के बाद रिम्स प्रबंधन ही यह तय करेगा कि इसका संचालन वह खुद करेगा या फिर इसे किसी एजेंसी को सौंपा जायेगा. किचेन का संचालन कैसे होगा, मरीजों से सिंगल कमरे और डॉरमेट्री के लिए किराया लेना है या नहीं, इस पर भी निर्णय रिम्स प्रबंधन ही करेगा.
 
पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड सीएसआर के तहत बनवा रहा पांच तलों वाला भवन 
ग्राउंड फ्लोर पर होगा किचेन, कॉमन रूम के अलावा सिंगल कमरे और डॉरमेट्री भी होगा भवन में 
रिम्स प्रबंधन को 18 महीने में यह भवन हैंडओवर करने का लक्ष्य रखा है पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ने
 
किस फ्लोर पर क्या व्यवस्था
 ग्राउंड फ्लाेर: रिसेप्शन, वेटिंग हॉल, लाउंड्री, फार्मेसी, किचेन व वॉश रूम  फर्स्ट फ्लोर: सात सिंगल रूम, सात डाॅरमेट्री, गर्ल्स वॉश रूम  सेकेंड फ्लोर से फिफ्थ फ्लोर : सात-सात सिंगल रूम व सात-सात डॉरमेट्री.
 
पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड द्वारा रिम्स परिसर में विश्रामगृह बनाये जाने के बाद यहां आनेवाले मरीजों और उनके परिजन को सहूलित होगी. मरीजों को अस्पताल परिसर से ज्यादा दूर नहीं जाना पड़ेगा. परिजनों से सुविधाओं के एवज में किराया लेना है या नहीं इस पर सरकार  से  मंतव्य मांगा जायेगा.  
डाॅ दिनेश कुमार सिंह, निदेशक, रिम्स
 
रिम्स के बेसमेंट में ही जमा है गंदा पानी, पल रहे मलेरिया के मच्छर
रांची :  रिम्स के बेसमेंट में बारिश का गंदा पानी जमा हो गया है, जिसमें मलेरिया के मच्छर पल रहे हैं. गंदे पानी से बदबू भी उठ रही है. हड्डी विभाग के पाराप्लिजिया वार्ड मेें गंदा पानी जमा होने और मच्छरों के पनपने से वार्ड में भर्ती मरीजों को मलेरिया का खतरा हो गया है. वार्ड में करीब दो दर्जन मरीज भर्ती हैं. इधर, रिम्स प्रबंधन ने पानी की निकालने का निर्देश दिया है, लेकिन पानी अब भी जमा हुआ है. 
 
इधर सफाईकर्मियाें का कहना है कि पानी निकाल दिया जाता है, लेकिन बरसात होने के बाद दोबारा पानी जमा हो जाता है. वहीं, निदेशक डॉ दिनेश कुमार सिंह ने कहा है कि बेसमेंट में पानी जमा होने से बिल्डिंग भी कमजोर हो रही है. बेसमेेंट में पानी जमा न हो इसके लिए योजना बनायी जा रही है.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement