Advertisement

ranchi

  • Feb 25 2019 8:00AM

रांची : मुख्यमंत्री रघुवर दास ने की घोषणा, पांचवीं कक्षा तक ओलचिकी में होगी पढ़ाई, संविदा पर बहाल होंगे शिक्षक

रांची : मुख्यमंत्री रघुवर दास ने की घोषणा, पांचवीं कक्षा तक ओलचिकी में होगी पढ़ाई, संविदा पर बहाल होंगे शिक्षक
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने दुमका में आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि बच्चों को उनकी मातृभाषा में शिक्षा मिलनी चाहिए.
न केवल प्रारंभिक शिक्षा, बल्कि उच्च शिक्षा भी. सिदो कान्हू इंडोर स्टेडियम में आदिवासी संताली भाषा ओलचिकी लिपि शिक्षा अभियान सेवा ट्रस्ट द्वारा आयोजित इस सम्मेलन में उन्होंने कहा कि संताल भाषी-भाषी इलाके के स्कूलों में पहली से पांचवीं तक के बच्चों को ऑलचिकी लिपि में शिक्षा दिलाने का काम उनकी सरकार करेगी. इसके लिए स्थायी नियुक्ति होने तक संविदा पर घंटी आधारित शिक्षक बहाल किये जायेंगे. 
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि पंचायत के शिक्षित युवक-युवतियों को ही इसमें नियुक्त किया जायेगा. प्रत्येक घंटी के लिए उन्हें 150 रुपये की दर से अधिकतम एक कार्यदिवस में पांच घंटी के लिए भुगतान किया जायेगा. सीएम ने कहा कि पंद्रह दिनों के अंदर ही यह बहाली का काम पूरा करा लिया जायेगा. उन्होंने कहा कि पहली और दूसरी कक्षा के पुस्तकों की छपाई के लिए भी सरकार ने पहल शुरू कर दी है. जल्द ही तीसरी, चौथी और पांचवी कक्षा के लिए भी पुस्तकों की छपाई का कार्य करवाया जायेगा.
 
संताली में भी होना चाहिए स्टेशनों में एनाउंसमेंट
 
सीएम ने आदिवासी संताली भाषा ओलचिकी लिपि शिक्षा अभियान सेवा ट्रस्ट की मांग पर कहा कि वे सोमवार को ही नयी दिल्ली जा रहे हैं, जहां केंद्रीय रेल मंत्री के साथ एक बैठक में वे शिरकत करेंगे. वहां वे उनसे संताल परगना के तमाम रेलवे स्टेशनों में संताली से उद‍्घोषणा कराने की मांग को रखेंगे. मौके पर ट्रस्ट की ओर से मुख्यमंत्री को ऑलचिकी में उनके नाम लिखी पट्टिका भी भेंट की गयी.
 
जमीन लूटकर जमीनदार बन गये हैं हेमंत
 
मुख्यमंत्री ने जेएमएम के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन की संघर्ष यात्रा को लेकर भी जमकर हमला बोला. कहा कि संघर्ष भले ही झारखंड के लिए गुरुजी ने किया, पर हेमंत तो सोने के चम्मच लेकर पैदा हुए हैं. 
 
कहा कि गोला के रहनेवाले जेएमएम के नेता आज आदिवासियों की जमीन लूटकर जमीनदार बन गये हैं. साहिबगंज के पतना, धनबाद, बोकारो और रांची में बड़े-बड़े प्लॉट खरीदने का काम किया है. उलटे चार-साढ़े चार साल से भोले-भाले लोगों को भड़का रहे हैं कि भाजपा वाले आदिवासियों की जमीन लूट लेंगे. सीएम ने कहा कि हेमंत सोरेन को उनकी चुनौती है कि वे साबित करते दिखायें कि किसकी जमीन आज तक लूटी गयी है. 
 
लांच की गयी सुजलाम-सुफलाम योजना
 
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने इससे पहले बिरसा मुंडा आउटडोर स्टेडियम में सुजलाम-सुफलाम योजना को लांच किया. यह योजना पाइलट प्रोजेक्ट के तहत दुमका और खूंटी में क्रियान्वित होगी. इसके तहत टाटा ट्रस्ट एवं एक अन्य संस्था के सहयोग से 5000 जर्जर तालाबों का जीर्णोद्धार किया जायेगा.
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना के तहत 22 लाख किसानों को प्रति एकड़ पांच एकड़ तक के लिए पांच-पांच हजार रुपये प्रदान किये जायेंगे. केंद्र सरकार 2000 रुपये के तीन किस्तों में पैसे दे रही है, जबकि झारखंड सरकार एकमुश्त यह पैसा किसानों को प्रदान करेगी.  

Advertisement

Comments

Advertisement