Advertisement

ranchi

  • Aug 22 2019 8:35AM
Advertisement

धर्मगुरुओं की प्रार्थना पर बिफरी भाजपा, कहा- सत्ता के बिना छटपटा रही कांग्रेस, करा रही झाड़-फूंक

धर्मगुरुओं की प्रार्थना पर बिफरी भाजपा, कहा- सत्ता के बिना छटपटा रही कांग्रेस, करा रही झाड़-फूंक
राजीव गांधी की जयंती पर राजधानी में आयोजित सेमिनार में धर्मगुरुओं के इस्तेमाल पर भाजपा ने एतराज जताया है़  सेमिनार में धर्मगुरुओं ने  देश को भाजपा के गलत हाथों से निकालने और कांग्रेस-गांधी परिवार को संभालने की  प्रार्थना करायी थी़   भाजपा इस मुद्दे पर बिफरी हुई है़ भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष, पार्टी प्रवक्ता ने हमला बोला है़  वहीं पार्टी ने प्रेस कांफ्रेंस कर भी अपनी बात रखी़ 
 
रांची : भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा ने कहा है कि कांग्रेस के पास नैतिकता नहीं है़ वह सत्ता के बिना वैसे ही छटपटा रही है, जैसे बिना पानी के मछली़ 70 वर्षों तक सत्ता सुख भोगने की बेचैनी में यह सब करा रही है़ किसी  से भी झाड़-फूंक करा ले कांग्रेस, लेकिन सत्ता में लौटने वाली नहीं है़ 
 
राजीव गांधी की जयंती के मौके पर इस तरह प्रार्थना करना कहीं से शोभनीय नहीं है़  देश की जनता ने आज राष्ट्र भक्त के हाथों सत्ता दी है़  नरेंद्र मोदी ने देश का मान-सम्मान विश्व में बढ़ाया है़  भारत आज राष्ट्रीय सुरक्षा और संप्रभुता से समझौता नहीं कर रहा है़  श्री गिलुवा ने कहा कि मुझे दूर-दूर तक नहीं दिख रहा है कि कांग्रेस कहीं से सत्ता में आने वाली है़  
 
धर्मगुरुओं ने धर्म-संस्कृति का माखौल उड़ाया : पार्टी प्रवक्ता प्रवीण प्रभाकर ने कहा कि श्रद्धांजलि में भी राजनीति करना कांग्रेस की परंपरा रही है़ भगवान तथाकथित धर्मगुरुओं और कांग्रेस से देश को बचाये़  कांग्रेस सत्ता के लिए यह सब कर रही है़  जनता की चुनी हुई सरकार के खिलाफ ऐसा कर इन तथाकथित धर्मगुरुओं ने भी धर्म और संस्कृति का माखौल उड़ाया है़ 
 
खुद को कांग्रेस का राजनीतिक हथियार बना डाला है़ श्री प्रभाकर ने कहा कि कांग्रेस को इसके लिए देश से माफी मांगनी चाहिए़  नरेंद्र मोदी और रघुवर दास की लोकप्रियता से कांग्रेस इतनी ज्यादा हताश हो गयी है कि अब श्रद्धांजलि कार्यक्रमों में भी भाजपा सरकार गिराने का सपना देख रही है़  कांग्रेस सत्ता पाने की बैचेनी में भारत की संस्कृति और परंपरा को भूल गयी है़  उसे सिर्फ कुर्सी और गांधी परिवार की चिंता है़
 
शासन के खिलाफ भड़काने का काम किया : इधर पार्टी प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने टि्वटर पर पार्टी का पक्ष रखते हुए  लिखा है कि सद्भावना दिवस पर धर्मगुरुओं के जरिए राजनीति कराना दुर्भाग्यपूर्ण है़ स्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को श्रद्धांजलि कम दी गयी और कांग्रेस को वोट देने की बात ज्यादा कही गयी़  
 
धर्मगुरुओं ने शांति की बात छोड़ शासन के खिलाफ भड़काने का काम किया है़  राजनीति में धर्म का इस्तेमाल करना कांग्रेस का चरित्र रहा है़  खूंटी में एक धर्म विशेष के धर्मगुरुओं ने कांग्रेस प्रत्याशी के लिए चुनाव एजेंट की तरह काम किया था़  कांग्रेस वोट के लिए धार्मिक उन्माद फैलाती रही है़  सद्भावना दिवस पर ऐसे निम्न स्तर की राजनीति करने के लिए कांग्रेसी नेताओं को सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी चाहिए़
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement