Advertisement

ranchi

  • Nov 9 2019 3:45AM
Advertisement

रांची : महिला आयोग की टीम ने किया निरीक्षण, शिरडी साईं व हिल व्यू अस्पताल को नोटिस भेजेगा औषधि निदेशालय

रांची : महिला आयोग की टीम ने किया निरीक्षण, शिरडी साईं व हिल व्यू अस्पताल को नोटिस भेजेगा औषधि निदेशालय
बिल नहीं देने व उपकरणों की खरीद में अनियमितता का आरोप
अन्य अस्पतालों की भी की जा रही जांच, मांगा जायेगा स्पष्टीकरण 
 
रांची : राज्य औषधि निदेशालय शिरडी साईं व हिल व्यू अस्पताल को नोटिस जारी करेगा. सोमवार तक दोनों अस्पतालों काे नोटिस जारी किया जा सकता है. अस्पतालों को दवाओं के बिल नहीं देने व उपकरणों की खरीद में अनियमितता  बरतने के संबंध में अपना पक्ष रखने को कहा जायेगा. निदेशालय जांच टीम द्वारा भेजी गयी रिपोर्ट के आधार पर स्पष्टीकरण मांगेगा.  
 
बताया जाता है कि शिरडी साईं अस्पताल में देर शाम आनेवाले मरीजों को कंप्यूटराइज्ड बिल नहीं दिया जाता है. सादा कागज पर बिल जोड़ कर मरीजों से दवाओं का पैसा लिया जाता है. इसकी पुष्टि भी हुई है.  इससे यह स्पष्ट नहीं होता है कि मरीज को किस बैच  की दवा दी गयी, उसका एमआरपी क्या है व दवा का एक्सपायरी डेट कब तक है. वहीं हिल व्यू अस्पताल में उपकरणों की खरीद सीधे सप्लायर से करने व मरीज को वही बिल थमाने  की जानकारी मिली है. इसी आधार पर स्पष्टीकरण मांगा जायेगा. 
 
इधर, जांच टीम दो दिन से मेन रोड स्थित राज अस्पताल की जांच कर रही है. टीम द्वारा दवाओं के स्टॉक व सप्लायर के माध्यम से मंगायी गयी दवाओं के कागजात की जांच की जा रही है. इसके बाद भगवान महावीर मेडिका सुपर स्पेशियालिटी अस्पताल, रानी अस्पताल व मेदांता सहित कुछ अन्य अस्पतालों की दवा दुकानों की  भी जांच की जायेगी.  
 
जांच टीम ने रिपोर्ट सौंप दी है. इसकी समीक्षा की जा रही है. दोनों अस्पतालों को नोटिस जारी कर उनसे स्पष्टीकरण पूछा जायेगा. अन्य अस्पतालों की जांच चल रही है.  
 
सुरेंद्र प्रसाद, संयुक्त सचिव, राज्य औषधि निदेशालय     

वेतन नहीं मिलने की शिकायत पर महिला आयोग की टीम ने किया शिरडी साईं अस्पताल का निरीक्षण
 
रांची : शिरडी साईं अस्पताल एंड रिसर्च सेंटर, बूटी रोड में शुक्रवार को राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष कल्याणी शरण ने टीम के साथ निरीक्षण किया. ज्ञात हो अस्पताल की महिला कर्मचारियों ने राज्य महिला आयोग  में शिरडी साईं अस्पताल के विरुद्ध शिकायत दर्ज करायी थी. 
 
अस्पताल की महिला  कर्मचारियों की शिकायत थी कि उनको वेतन समय पर नहीं दिया जा रहा है. साथ ही उनसे 14 घंटे काम  लिया जा रहा है. आयोग की अध्यक्ष ने अस्पताल को  तीन शिफ्ट में चलाने की सलाह दी. उन्होंने अस्पताल संचालक विभा रंजन (पति स्व ज्ञान  रंजन) से फोन पर बात भी की. विभा रंजन ने कहा कि उन्हें इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है़  मुझे अस्पताल की गतिविधि के बारे में कोई जानकारी नहीं दी जा रही है़  मैं खुद प्रताड़ित हूं.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement