Advertisement

ranchi

  • Jun 13 2019 7:23AM
Advertisement

रांची : महिला डॉक्टर की गिरफ्तारी का विरोध जारी, सदर अस्पताल में भी नहीं की गयी अल्ट्रासाउंड जांच

रांची : महिला डॉक्टर की गिरफ्तारी का विरोध जारी, सदर अस्पताल में भी नहीं की गयी अल्ट्रासाउंड जांच
रांची : पीसीपीएनडीटी एक्ट के उल्लंघन के आरोप में कोडरमा की डॉ सीमा मोदी की गिरफ्तारी का विरोध दूसरे दिन बुधवार को भी जारी रहा. इस दौरान राज्य के किसी भी निजी अल्ट्रासाउंड क्लिनिक या निजी अस्पताल में गर्भवती महिलाओं की अल्ट्रासाउंड  जांच नहीं की गयी. 
 
खास बात यह रही कि दूसरे दिन इस विरोध में सरकारी अल्ट्रासाउंड सेंटर में सेवा देनेवाले डॉक्टर भी  शामिल हो गये. उन्होंने गर्भवती महिलाओं की जांच करने से मना कर दिया. इससे सदर अस्पताल सहित अन्य सरकारी  अस्पतालों (जहां अल्ट्रासाउंड की सुविधा है) में गर्भवती महिलाओं को परेशानी का सामना करना पड़ा.
 
राजधानी के रांची सदर अस्पताल में अल्ट्रासाउंड सेंटर पर नोटिस चस्पां कर दिया गया था कि गर्भवती महिलाओं को अल्ट्रासाउंड जांच नहीं की जा रही है. जांच अब सीधे शुक्रवार से की जायेगी. असुविधा के लिए हमें खेद है. 
 
वहीं, कर्मचारियों द्वारा यह बताया जा रहा था कि अगर ज्यादा जरूरी है तो रिम्स में जांच कराया जा सकता है. इसके बाद करीब आधा दर्जन गर्भवती महिलाएं अल्ट्रासाउंड कराने के लिए रिम्स पहुंचीं. आइएमए के सचिव डॉ प्रदीप सिंह ने बताया कि राज्य में दूसरे दिन भी गर्भवती महिलाओं का अल्ट्रासाउंड जांच नहीं की गयी. विरोध  पूरे राज्य में सफल रहा है. सरकारी अस्पताल के अल्ट्रासाउंड करने वाले डॉक्टर शामिल हो गये हैं. 
 
तीनों मेडिकल कॉलेज में हुई अल्ट्रासाउंड जांच : राज्य के तीनों सरकारी मेडिकल कॉलेजों को आंदोलन से छूट दिये जाने से गर्भवती महिलाओं को राहत मिली. रांची सदर अस्तपाल दिखाने आये गर्भवती महिलाओं को अल्ट्रासाउंड जांच के लिए रिम्स भेज दिया गया. वहीं, पाटलिपुत्रा मेडिकल कॉलेेज, एमजीएम मेडिकल कॉलेज जमशेदपुर में अल्ट्रासाउंड जांच की गयी.  
 
क्या हैं मांगें 
 
मामले की उच्चस्तीय जांच करायी जाये
स्वास्थ्य मंत्री के निर्देश पर शीघ्र जांच कमेटी बने
मामले की जांच तक डॉ सीमा को जेल से बाहर किया जाये
 

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement