Advertisement

ranchi

  • Feb 12 2019 7:38AM

रांची : ....जब बाबूलाल को ट्रेन पकड़ने के लिए साढ़े चार घंटे करना पड़ा इंतजार

रांची : ....जब बाबूलाल को ट्रेन पकड़ने के लिए साढ़े चार घंटे करना पड़ा इंतजार
रांची : हटिया-पटना पाटलिपुत्रा एक्सप्रेस (18622) पिछले एक महीने से लगातार विलंब से खुल रही है. इस कारण यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा रहा है. रविवार को इस ट्रेन से राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी को जाना था. वह रात 9.30 बजे रांची रेलवे स्टेशन पहुंच गये थे. ट्रेन अपने निर्धारित समय से विलंब थी. जब उन्होंने ट्रेन के बारे में जानना चाहा, तो उन्हें सही-सही जानकारी नहीं मिली. 
 
 ट्रेन रात 10.00 बजे के बजाय रात 2.30 बजे खुली. इस कारण श्री मरांडी को स्टेशन पर 4.30 घंटा इंतजार करना पड़ा. इस बाबत श्री मरांडी ने कहा कि स्टेशन मास्टर से पूछने पर गोल-मटोल जवाब दिया गया. काफी संख्या में लोग ठंड के कारण परेशान रहे. उन्होंने कहा कि एक ओर हम बुलेट ट्रेन का सपना देख रहे हैं और दूसरी तरफ यह है कि ट्रेन घंटों विलंब से चल रही है. 
 
केंद्र और राज्य में भाजपा की सरकार है, लेकिन ट्रेन की लेट-लतीफी जारी है. उन्होंने कहा कि राज्य में उनकी सरकार बनती है, तो सबसे पहले जोनल कार्यालय कोलकाता से रांची शिफ्ट करायेंगे. वहीं इस संबंध में पूछे जाने पर सीपीआरओ नीरज कुमार ने कहा कि कोच की कमी और पटना से ट्रेन विलंब से आने के कारण रांची से ट्रेन विलंब से खुल रही है. ट्रेन को समय पर चलाने का प्रयास किया जा रह है.
 

Advertisement

Comments

Advertisement