Advertisement

ranchi

  • Jul 11 2019 1:23PM
Advertisement

रांची की राय : पांड्या सातवें और धौनी पांचवें पर उतरते तो हम फाइनल में होते...

रांची की राय : पांड्या सातवें और धौनी पांचवें पर उतरते तो हम फाइनल में होते...

रांची : विश्वकप के सेमीफाइनल में भारत , न्यूजीलैंड से 18 रन से हार गया. इस हार के साथ ही भारत विश्वकप 2019 से तो बाहर हुआ ही बेस्ट फिनिशर महेंद्र सिंह धौनी के बैटिंग आर्डर पर भी सवाल उठ रहे हैं. सोशल मीडिया से लेकर चौक चौराहों पर मैच की चर्चा है. चर्चा है कि अगर धौनी पहले उतरते तो क्या होता. धौनी के समर्थन में सचिन तेंदुलकर ने भी बयान दिया है और सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण ने भी धौनी के बैटिंग आर्डर पर सवाल उठाकर टीम मैनेजमेंट को कठघरे में खड़ा कर दिया है. इन परिस्थितियों में धौनी के बैटिंग आर्डर को लेकर उनके शहर रांची  के लोग क्या सोचते हैं, यह जानने के लिए प्रभात खबर डॉट कॉम ने कुछ लोगों से बातचीत की- 

कुमार स्नेह :  धौनी की कप्तानी अच्छी है वह टीम में खिलाड़ियों को बता सकते हैं कैसे खेलना है. अब टीम में बदलाव होना चाहिए. संभव है कि धौनी पहले उतरते तो रिजल्ट कुछ और होता लेकिन जिस तरह हमारे दिग्गज खिलाड़ी एक के बाद एक आउट होते गये थे, उसी वक्त मैच हमारे हाथ से फिसल गया था. 
 
इरशाद : हमें पता है कि धौनी शानदार फिनिशर हैं. इतिहास देख लीजिए वह बेस्ट फिनिशर हैं. धौनी के अलावा कोई नहीं जीता सकता था. टीम मैनेजमेंट का यह फैसला बेहद गलत था कि धौनी को सातवें नंबर पर भेजा जाये.. अगर धौनी पांचवें पर उतरते तो फायदा होता. धौनी पांचवें पर उतर कर मैच बचा लेते अंतिम में हार्ड हीटर की जरूरत होती है उस वक्त हार्दिक पांड्या को भेजा जाता तो मैच बच जाता. 
 
बरियातू के डीआईजी मैदान में क्रिकेट खेल रहे बच्चे भी मानते हैं कि धौनी शानदार फिनिशर हैं. यहां के क्रिकेटर्स कहते हैं अगर धौनी पहले उतरते तो भारत फाइनल में पहुंच जाता. धौनी जीत तक मैच लेकर चले जाते, पांड्या को बाद में उतारना चाहिए था.   
 
अभिषेक विद्यार्थी हैं, वे धौनी के प्रदर्शन और बैटिंग आर्डर पर कहते हैं . संभव है कि कल धौनी पहले आते हैं तो रिजल्ट कुछ और होता. धौनी ने कल 72 बॉल खेले और 50 रन बनाया वह सोच रहे थे आखिरी वक्त में रन बना लेंगे, उनका यही फैसला गलत हो गया. बात सिर्फ धौनी की नहीं है जो टॉप आर्डर बैट्‌समैन हैं जिनमें रोहित शर्मा, विराट कोहली जैसे खिलाड़ी हैं, वे भी नहीं चले. खेल की शुरुआत ही बहुत खराब हुई थी..
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement