Advertisement

ranchi

  • Nov 9 2019 3:14AM
Advertisement

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 : झामुमो-कांग्रेस की 13 व राजद की सात सीटें तय

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 : झामुमो-कांग्रेस की 13 व राजद की सात सीटें तय
रांची : विधानसभा चुनाव को लेकर विपक्ष में सीट बंटवारे का खाका तय हो गया है. यूपीए में झामुमो, कांग्रेस और राजद के बीच सीटें बंट गयी हैं. गठबंधन के दलों ने हेमंत सोरेन को मुख्यमंत्री के रूप में प्रोजेक्ट किया है. 
 
झामुमो नेता श्री सोरेन के नेतृत्व में यूपीए चुनाव लड़ेगा. यूपीए के अंदर तय फॉर्मूले में झामुमो के खाते में 43 सीटें, कांग्रेस के खाते में 31 सीटें और राजद के पास सात सीटें रहेंगी. इधर, यूपीए ने पहले फेज की 13 सीटें भी घटक दलों के बीच बांट ली है. पहले फेज में गुमला, विशुनपुर लातेहार और गढ़वा झामुमो के पास है. वहीं, इस फेज की छह सीटें कांग्रेस के पास होंगी. पहले फेज में तीन सीटों राजद चुनाव लड़ेगा.
 
शुक्रवार को प्रेस क्लब में यूपीए के सीट बंटवारे की आधिकारिक घोषणा करते हुए प्रभारी आरपीएन सिंह ने कहा कि हम सब ने पहले ही कहा था कि गठबंधन होगा, उचित समय पर इसका खुलासा किया जायेगा. 
 
चुनाव रणनीति के तहत लड़ा जाता है. उन्होंने कहा कि हेमंत सोरेन के नेतृत्व में चुनाव लड़ेंगे. प्रभारी ने कहा कि किसी भी सीट पर फ्रेंडली फाइट नहीं होगा. किसी दल का कोई उम्मीदवार लड़ेगा, तो उसके खिलाफ वह पार्टी कार्रवाई करेगी. प्रभारी ने कहा कि गठबंधन में सबकुछ तय हो गया है. कहीं किसी की नाराजगी नहीं है. 
 
झामुमो नेता हेमंत सोरेन ने कहा कि यूपीए में सीटों का बंटवारा हो गया है. राजद अनुपस्थित है, तो हम सलाह-मशवरा से हल निकालेंगे. लालू प्रसाद को सुनियोजित तरीके से जेल में बंद रखा गया है. सरकार आतंकवादी की तरह व्यवहार कर रही है. उनसे विचार-विमर्श में परेशानी हो रही है. ऐसे में समय पर लालू प्रसाद से बात कर निर्णय लिया जायेगा. गठबंधन में कहीं कोई दिक्कत नहीं है.  
 
हेमंत के साथ बैठे तेजस्वी, कांग्रेस से फंस रहा है पेच
 
राजद नेता तेजस्वी ने झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन के साथ लंबी बातचीत की. हेमंत सोरेन के आवास पर ढाई घंटे तक बातचीत चली. कांग्रेस अध्यक्ष रामेश्वर उरांव, आलमगीर आलम सहित कई नेता मौजूद थे. 
 
सभी नेताओं को साथ प्रेस क्लब आना था, लेकिन तेजस्वी सीधे होटल चले गये. इसके बाद तेजस्वी को मनाने में यूपीए नेता जुट गये. हेमंत सोरेन और आरपीएन सिंह पूरे मामले को सुलझा रहे थे. राजद विश्रामपुर सीट को लेकर अड़ा था. यूपीए में कांग्रेस और राजद के बीच ही एक सीट पर पेच फंस रहा है. 
 
वामदलों को अपने कोटे की सीट दे सकता है झामुमो
 
यूपीए के तय खाका में वामदलों के लिए सीटें छोड़ने की घोषणा नहीं हुई है. झामुमो के खाते में 43 सीटें हैं. झामुमो अपने कोटे से वामदलों को सीटें दे सकता है. 
 
झामुमो ने घाटशिला, सिसई, गांडेय और रांची सीट नहीं छोड़ी
 
रांची. यूपीए के अंदर कांग्रेस और झामुमो के बीच सीटिंग और दूसरे स्थान पर रही सीट का ही फॉर्मूला चला. सूचना के मुताबिक झामुमो ने घाटशिला, सिसई, गांडेय और रांची सीट नहीं छोड़ी. घाटशिला में कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप बलमुचु, सिसई में पूर्व मंत्री गीता श्री उरांव, गांडेय में डॉ सरफराज अहमद की सीट फंस गयी है. अब कांग्रेस के इन चेहरों को पार्टी मौका नहीं दे पायेगी. वहीं, रांची सीट के लिए सुबोधकांत सहाय अड़े थे, लेकिन रांची सीट भी झामुमो के खाते में चली गयी.
 
लिखित हुआ समझौता 
 
यूपीए के बीच सीट बंटवारे को लेकर लिखित समझौता हुआ है. यूपीए के आला नेताओं ने बताया कि सीट बंटवारे का खाका तैयार हुआ, उसके बाद लिखित समझौता हुआ. यूपीए नेता ने बताया कि झामुमो, कांग्रेस और राजद ने हस्ताक्षर किया है. इस मसौदा पर तेजस्वी ने हस्ताक्षर किया. 
 
हम 10 सीट पर लड़ें या 20 सीट पर, इससे कोई लेना देना नहीं है, क्योंकि हम मुख्यमंत्री तो होने नहीं जा रहे है. किसी को सीएम बनाने भी नहीं जा रहे हैं. हमारा मकसद उस विचारधारा को हराना है, जो संविधान को नहीं मानती. तेजस्वी यादव, राजद
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement