Advertisement

ranchi

  • Jan 11 2019 7:21AM

ग्लोबल स्किल समिट : 106619 युवाओं को नौकरी देने का गवाह बना खेलगांव

ग्लोबल स्किल समिट : 106619 युवाओं को नौकरी देने का गवाह बना खेलगांव
पिछले ग्लोबल स्किल समिट के दौरान मुख्यमंत्री रघुवर दास द्वारा की गयी घोषणा इस वर्ष पूरी की गयी
 
17 देशों के राजदूत, उच्चायुक्त, राज्यपाल, मुख्यमंत्री, केंद्रीय मंत्री, झारखंड के मंत्री, अफसर, अभिनेत्री, क्रिकेटर, शिक्षाविद आदि थे मौजूद
रांची : झारखंड सरकार द्वारा पिछले ग्लोबल स्किल समिट में एक लाख युवकों को रोजगार से जोड़ने की घोषणा को इस बार के ग्लोबल स्किल समिट 2019 में अमली जामा पहनाया गया. इसका गवाह बने खेलगांव का एथलेटिक्स स्टेडियम अौर वहां मौजूद 17 देशों से पहुंचेे राजदूत, उच्चायुक्त, काउंसुलेट, इंडस्ट्री लीडर. अपने ही लक्ष्य को पार कर कौशल विकास विभाग ने 106619 युवकों को रोजगार दिया. 
 
आठ स्किल संस्थानों के साथ एमअोयू किया. वहीं, टोकन के रूप में 10 युवक/युवती को नियुक्ति पत्र भी सौंपा. एक दिन के इस कार्यक्रम का संचालन मशहूर एंकर रोहित राय व चारू शर्मा के साथ-साथ रांची की राजश्री ने संयुक्त रूप से किया. उच्च, तकनीकी व कौशल विभाग के सचिव राजेश कुमार शर्मा ने आगंतुकों का स्वागत किया. 
 
उन्होंने कहा कि सरकार का युवकों को रोजगार देने का सपना आज पूरा हुआ. जब युवक/युवतियों को नियुक्ति पत्र मिल रहे थे, तो स्टेडियम में मौजूद हर युवा अपने भविष्य को लेकर आशान्वित हो रहे थे.  मोटिवेटर संदीप कोचर जहां युवकों को मोटिवेट कर रहे थे, वहीं अभिनेत्री महिमा चौधरी ने अपनी उपस्थिति से कार्यक्रम को रोचक बनाया.
 
झारखंड अब युवा शक्ति के रूप में पहचाना जायेगा : मुख्य सचिव
 
रांची : राज्य के मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी ने कहा कि झारखंड की तस्वीर  के कई रंग हैं. अब तक यह खान-खनिज संपदा से परिपूर्ण, नैसर्गिक सौंदर्य, सांस्कृतिक धरोहर, इस्पात नगरों के रूप में जाना जाता रहा है, अब झारखंड राज्य युवा शक्ति के रूप में भी जाना जायेगा. श्री त्रिपाठी ने कहा कि देश-विदेश के विभिन्न संस्थानों के साथ मिल कर हुनर को लोगों के जीवन से जोड़ने का काम किया जा रहा है. 
 
कुछ ही दिनों में अब झारखंड एक स्किल हब बन जायेगा. उन्होंने कहा कि झारखंड सरकार ने यहां की युवतियों व युवकों की प्रतिभा को देखते हुए स्किल विभाग खोला. एक दिन में एक लाख से अधिक युवकों को रोजगार उपलब्ध कराना एक कीर्तिमान है. यहां के युवकों में कौशल है, परिश्रम की क्षमता है. सत्य व निष्ठा यहां के लोगों के डीएनए में ही है. युवा भी अपने हुनर से अब राज्य व देश का नाम रोशन करें.
 
नीरा यादव ने पढ़ा प्रधानमंत्री का संदेश
 
रांची  :शिक्षा मंत्री नीरा यादव ने ग्लोबल स्किल समिट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संदेश पढ़ कर सुनाया. अपने संदेश के माध्यम से प्रधानमंत्री ने एक लाख लोगों को रोजगार देने पर सरकार को बधाई दी.
 
श्रीमती यादव ने कहा कि आज से पहले की स्थिति किसी से छिपी नहीं है. रोजगार को लेकर यहां के युवाओं का पलायन होता था.  युवक-युवतियों का शोषण भी होता था. युवा पीढ़ी हताश और निराश थी. अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री रघुवर दास के नेतृत्व में झारखंड के युवाओं के सपने साकार हो रहे हैं.
 
जरा तस्वीर से तू निकल के सामने आ
 
रांची : ग्लोबल स्किल समिट-2019 में उस समय तालियों की गड़गड़ाहट होने लगी, जब अभिनेत्री महिमा चौधरी मंच पर पहुंचीं. हालांकि मंच से नीचे महिमा चौधरी के साथ सेल्फी व फोटो खींचने की होड़ लगी रही. कई सरकारी अधिकारी भी महिमा के साथ फोटो खिंचवा रहे थे. 
मंच पर आने के बाद महिमा ने स्टेडियम में बैठे लोगों का हाथ हिला कर व प्रणाम कर अभिवादन किया. तेज धूप के कारण महिमा असहज महसूस कर रही थीं. अपने हाथ में पकड़े सोवेनियर से सिर व चेहरे को धूप से बचाने की कोशिश कर रही थीं.   माइक पकड़ कर उन्होंने गीत : जरा तस्वीर से तू, निकल के सामने आ, मेरी महबूूबा...गाया. महिमा ने इसी गाने के आधार पर यहां के युवकों को बताया कि उनमें भी प्रतिभा है, बस उन्हें सामने आना है अौर अपने हुनर से निरंतर आगे बढ़ते रहना है.
 
छह कौशल विकास केंद्रों का हुआ अॉनलाइन उदघाटन
 
रांची : ग्लोबल स्किल समिट में मुख्यमंत्री रघुवर दास ने अॉनलाइन छह कौशल विकास केंद्रों का उदघाटन किया. इनमें कोडरमा में सक्षम झारखंड कौशल विकास योजना के लिए एक्सेल डाटा सर्विस, पलामू में सक्षम झारखंड कौशल विकास योजना के लिए यूनिवर्सल आइडियल सेवा समिति केंद्र का उदघाटन किया गया. 
 
इनके अलावा रांची में दीनदयाल उपाध्याय कौशल केंद्र के लिए ग्राम ट्रेनिंग इंप्लॉयबिलिटी सर्विस प्राइवेट लिमिटेड अौर टॉप्सगुरु ग्रुप सर्विस लिमिटेड का उदघाटन किया गया. जामताड़ा में प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के लिए इंडियानीर मीडिया प्राइवेट लिमिटेड व लोहरदगा में प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के लिए प्यूपिल ट्रेनी वेंचरर्स प्राइवेट लिमिटेड केंद्र का उदघाटन किया गया.

10 युवक/युवतियों को दिया गया नियुक्ति पत्र
 
रांची : ग्लोबल स्किल समिट में कुल एक लाख युवकों को रोजगार देने के लक्ष्य को पार करते हुए कुल एक लाख छह हजार 619 युवकों को रोजगार के लिए रजिस्टर्ड किया गया. समिट में 10 युवक/युवतियों को टोकन के रूप में नियुक्ति पत्र दिये गये. नियुक्ति पत्र राज्यपाल, मुख्यमंत्री, केंद्रीय मंत्री, शिक्षा मंत्री के हाथों दिलाया गया.
 
जिन्हें नियुक्ति पत्र दिये गये
 
नाम प्रशिक्षण प्रदाता संस्था नियोक्ता कंपनी
 
अस्मित टोप्पो, गुमला दीनदयाल उपाध्याय ग्राम कौशल योजना  हिम्मत सिंह का लिनेन हसन
नीलकमल मुंडा, बुंडू दीनदयाल उपाध्याय ग्राम कौशल योजना श्री फैमिली बिजेंट प्राइवेट लि बेंगलुरु
डेविड जॉन नाग, खूंटी एमएसएमइ टूल रूम रांची कैंपी इंडिया प्राइवेट लिमिटेड
वंदना कुमारी दीनदयाल उपाध्याय कौशल केंद्र वीएलसीसी सेंटर
वीरेंद्र नाथ महतो, रांची डे एनयूएलएम सोना युक्ति रांची समर हॉस्पिटल सिंह मोड़
जोगेंद्र महतो, सिल्ली पीआरइजेएचएफ कल्याण गुरुकुल एसयूएनआरइ दुबई
सुषमा लकड़ा, चान्हो पीआएफजेएफ गुरुकुल अॉटोमोटिव एक्सेल प्रा लि मैसूर
देवंती कुमारी, हजारीबाग एसजेकेवाइ प्रथम केयर हेल्थ नर्सिंग ब्यूरो दिल्ली
सुगदा हेंब्रम, जमशेदपुर एसजेकेवीवाइ शाबरी इंटरप्राइजेज
संदीप टाना भगत, बेड़ो दीनदयाल उपाध्याय कौशल केंद्र डिस्टिल एजुकेशन एंड टेक्नोलॉजी
 
धौनी ने झारखंड की पहचान विश्व भर में दिलायी है : चेतन शर्मा
 
पूर्व क्रिकेटर चेतन शर्मा ने कहा है कि भारतीय क्रिकेटर महेंद्र सिंह धौनी ने झारखंड की पहचान विश्व भर में दिलायी है. धौनी जैसा बड़ा क्रिकेट कप्तान अब देश को मिलेगा या नहीं पता नहीं, लेकिन झारखंड की युवाअों की प्रतिभा देखने लायक है. इसलिए देश को तीन-चार धौनी इस राज्य से चाहिए. आज लोगों की जुबान पर माही का नाम है. इस तरह की पहचान इस राज्य के लिए बड़ी बात है. 
 
अपनी मातृभाषा का हमेशा ख्याल रखें : जगदीश्वर
 
मॉरीशस के उच्चायुक्त जगदीश्वर गोवर्धन ने कहा है कि यहां की संस्कृति को जीवित रखना है, तो अपनी मातृभाषा का ख्याल रखें. मॉरीशस में भारतीय भाषा को जीवित रखने का काम हो रहा है. वहां की मानव जाति की सेवा से सबको प्रेरणा लेने की आवश्यकता है. श्री गोवर्धन ने कहा कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रवासी भारतीयों का मान बढ़ाया है. 
 
नरेंद्र मोदी व धौनी से प्रेरणा लें झारखंड के युवक : तलवार
 
डीएलएफ लिमिटेड के निदेशक व पीएचडी सीसीआइ के अध्यक्ष राजीव तलवार ने युवाअों से कहा कि अगर उनमें क्षमता है, तो वह अपना विकास कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि एक साधारण व्यक्ति अपनी प्रतिभा व मेहनत से देश का प्रधानमंत्री बन सकता है. धौनी इसी शहर से मेहनत कर आज देश का नाम रोशन कर रहा है.  ऐसे में यहां के युवा इन जैसे लोगों से प्रेरणा लें. 
 
यहां के युवकों को दुबई में दी जायेगी नौकरी : अली अल जाबी 
 
अमिरात ड्राइविंग इंस्टीट्यूट, दुबई के सीइअो अली अल जाबी ने कहा कि झारखंड का उत्तरोत्तर विकास हो रहा है. झारखंड में युवाअों के हौसले को देखते हुुए उनकी कंपनी यहां पर ट्रेनिंग सेंटर खोलेगी. उन्होंने कहा कि दुबई में एक्सपो 2020 का आयोजन हो रहा है. इसमें बड़ी संख्या में युवकों को रोजगार मिलने की पूरी संभावना है. यहां के युवकों को ड्राइविंग की ट्रेनिंग दी जायेगी. 
 
2022 तक 12 लाख प्रशिक्षित प्लंबर चाहिए : सोमानी
 
एचएसआइएल लिमिटेड के सीएमडी आरके सोमानी ने कहा कि उनकी कंपनी में 2022 तक 12 लाख प्लंबर की डिमांड है. अब तक 80 हजार प्लंबर को प्रशिक्षित किया गया है. ऐसे में झारखंड के युवा इस रोजगार में जुड़ सकते हैं. उनकी कंपनी से वर्मा, श्रीलंका, भूटान आदि देशों में प्लंबर की डिमांड बढ़ी है. हर क्षेत्र के युवाअों को प्रशिक्षित किया जा रहा है.
 
स्कूल की पढ़ाई के दौरान ही बच्चों की प्रतिभा की पहचान जरूरी स्कील्ड करना होगा : अशरफ
 
रांची : ग्लोबल स्कील समिट के तकनीकी सत्र दो में सामान्य शिक्षा में ही बच्चों को स्कील्ड कैसे बनाया जाये, इस पर चर्चा हुई. वक्ताओं ने कहा कि बचपन में ही तय कर लिया जाये कि बच्चे की प्रतिभा किस क्षेत्र में है और उसे उसी क्षेत्र के लिए विकसित किया जाये. कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पनामा के राजदूत अशरफ ने कहा कि पनामा में स्कूल के दौरान ही बच्चों की प्रतिभा की मॉनीटरिंग की जाती है. 
 
श्री विश्वकर्मा स्कील यूनिवर्सिटी के वीसी राज नेहरू ने कहा कि देश की 65 प्रतिशत आबादी 35 वर्ष से कम आयु के युवाओं की है. इनमें 75 प्रतिशत युवाओं का शैक्षणिक स्तर बेहतर नहीं होता, जो चिंता का विषय है. यूनेस्को के हायर एजुकेशन के प्रतिनिधि संजीव रॉय ने कहा कि उन्होंने धनबाद के डिनोबली स्कूल से पढ़ाई की है. उन्होंने कहा कि हर छात्र यदि एक घंटे स्कील की पढ़ाई करे, तो देश में बेरोजगारी नहीं रहेगी. 
 
11 कौशल स्टार्स भी हुए शामिल
 
रांची : ग्लोबल स्किल समिट में झारखंड से कौशल प्रशिक्षण प्राप्त कर नौकरी, स्वरोजगार या कौशल विशेषज्ञता या प्रतियोगिता में अपनी पहचान बनानेवाले 11 कौशल स्टार्स भी शामिल हुए. इनमें अनमोल गुप्ता, नीलम कुमारी, रश्मि कुमारी सिंह, रिया पॉल, तब्बसुम नाज, मिखाली अंसारी, प्रकाश मुंडा, सोनाली गोप, काजल कुमारी, सोनू कुमार, दीपक कुमार शामिल हैं. मौके पर वर्ल्ड स्किल प्रतियोगिता के लिए चुने गये सज्जाद अंसारी ने भी झारखंड कौशल विकास के सहयोग से अपनी स्थिति मजबूत होने की कहानी लोगों को बतायी.
 
आठ संस्थानों के साथ हुआ एमअोयू
 
रांची : ग्लोबल स्किल समिट-2019 में आठ स्किल संस्थानों के साथ एमअोयू हुआ. कौशल विकास मिशन सोसाइटी के निदेशक रवि रंजन ने एमअोयू किया. इनमें कैंपी इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, सचिंदर इलेक्ट्रिक, इस्ट अॉटो, सेंचुरियन यूनिवर्सिटी, इंडियन इंस्टीट्यूट अॉफ वेल्डिंग, फेस्टो, हितिच, भारचीय स्किल यूनिवर्सिटी जयपुर शामिल हैं. यह एमअोयू झारखंड में कौशल विकास कार्यक्रम के विस्तार के लिए किया गया.
 
सबसे अधिक नौकरी देनेवाले संस्थान
 
संस्थान जॉब अॉफर
आइआइ एंड एफएस डेवलपमेंट कोर्पोरेशन 5131
विजनरी नॉलेज एंड मैनेजमेंट 5121
जेआइटीएम स्किल 4705
पीएएन आइआइटी एलुमनी रिच 4556
वेंचर स्किल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड 4966
किस विभाग में कितनी नियुक्तियां
विभाग लक्ष्य  नियुक्ति
झारखंड कौशल विकास 40000 44693
उच्च शिक्षा निदेशालय 12000 12101
तकनीकी शिक्षा निदेशालय 8000 5963
श्रम नियोजन व प्रशिक्षण विभाग 12000 109565
उद्योग विभाग 2000 998
ग्रामीण विकास विभाग 12000 12451
नगर विकास विभाग 10000 14892
समाज कल्याण विभाग 4000 4556
कुल 100000 106619
सर्वाधिक रोजगार देनेवाली कंपनी
कंपनी जॉब अॉफर
डिस्टिल एजुकेशन प्राइवेट लिमिटेड 2583
शपूरजी पालोनजी एंड कंपनी 2236
शाबरी इंटरप्राइजेज 2114
वेल्सपुन इंडिया 2000
सेवा सहयोग सिक्यूरिटी व फेसिलिटी एमएनजी 1944
फ्रांटियर नीटर्स प्राइवेट लिमिटेड 1922
अरविंद स्मार्ट टेक्सटाइल्स लिमिटेड 1874
एजिस लिमिटेड 1621
श्रीकृष्ण इंडिस्ट्रियल रिक्यूर्टमेंट 1688
आरएम मेनपावर सर्विसेस 1556
कंसंट्रेक्स दक्ष्य सर्विस प्राइवेट लिमिटेड 1259
साहना क्लोथिंग कंपनी प्राइवेट लिमिटेड 1172
 
रांची : फोर्थ जेनरेशन इंडस्ट्री के लिए तैयार हों
 
रांची : ग्लोबल स्किल समिट के पहले तकनीकी सत्र में कौशल विकास संबंधी भविष्य की तैयारियों तथा इसकी जरूरतों पर चर्चा हुई. सत्र के संयोजक डॉ एसपी कोचर, विकास कानूनगो, प्रो मुक्ति नाथ मिश्रा, प्रणव अग्रवाल, विशाल जिंदल तथा भारत में अजरबैजान के राजदूत अशरफ फरहाद ने सत्र के विषय पर विचार व्यक्त किये. वक्ताअों ने कहा कि पूरी दुनिया व खासकर भारत तेजी से बदल रहा है. 
 
बदलते दौर में अाजीविका व रोजगार के लिए कौशल विकास एक महत्वपूर्ण काम है. अलग से कौशल विकास तो हो रहा है, पर शैक्षणिक संस्थानों के साथ ही कौशल व प्रशिक्षण का रिश्ता जोड़ना ज्यादा फायदेमंद होगा. यह काम 10वीं के बाद प्लस-टू व आगे की शिक्षा के दौरान ही किया जाना चाहिए. हम फोर्थ जेनरेशन (4.0) वाले अौद्योगिक युग में जी रहे हैं. इसे 4.1 जेनरेशन भी कहा जा सकता है. 

Advertisement

Comments

Advertisement