ranchi

  • Jan 23 2020 8:41AM
Advertisement

दिल्ली विधानसभा चुनाव के बाद होगा झारखंड में प्रदेश अध्यक्ष समेत नेता प्रतिपक्ष का चयन जल्द, गिलुवा के इस्तीफा पर कोई निर्णय नहीं

दिल्ली विधानसभा चुनाव के बाद होगा झारखंड में प्रदेश अध्यक्ष  समेत नेता प्रतिपक्ष का चयन जल्द, गिलुवा के इस्तीफा पर कोई निर्णय नहीं
रांची : झारखंड भाजपा की वर्तमान इकाई के तीन साल का कार्यकाल नवंबर 2019 में ही पूरा हो गया. झारखंड में हुए विधानसभा चुनाव और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के चयन की प्रक्रिया पूरी नहीं होने के कारण पार्टी ने संगठनात्मक चुनाव को लंबित रखा था. 
 
अब राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की ताजपोशी के बाद पार्टी में फेरबदल की चर्चा शुरू हो गयी है. जानकारी के अनुसार, दिल्ली विधानसभा चुनाव के बाद फरवरी में झारखंड में प्रदेश अध्यक्ष समेत नेता प्रतिपक्ष के चयन की प्रक्रिया पूरी की जायेगी. सूत्रों के अनुसार, इस बार पार्टी में बड़े  फेरबदल की तैयारी चल रही है. जनवरी में हुए विधानसभा सत्र के दौरान भाजपा ने नेता प्रतिपक्ष का चयन नहीं  किया था. सत्र के दौरान विधायकों की तीन सदस्यीय कमेटी गठित कर उन्हें निर्णय लेने  की जिम्मेवारी सौंपी थी. 
 
भाजपा अध्यक्ष से की मुलाकात : झारखंड राज्य अल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष गुरविंदर सिंह सेठी ने नयी दिल्ली में  भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मिलकर उन्हें बधाई दी. 
 
गिलुवा के इस्तीफा पर कोई निर्णय नहीं 
 
इधर, चर्चा है कि  झाविमो के केंद्रीय अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी भी भाजपा के शीर्ष नेताओं के  संपर्क में हैं. झाविमो के भाजपा में विलय को लेकर भी कवायद चल रही है. चर्चा है कि श्री मरांडी के भाजपा में अाने के बाद उन्हें बड़ी जिम्मेवारी सौंपी जा सकती है. विधानसभा चुनाव में संतोेषजनक परिणाम नहीं आने पर पहले ही अपनी जिम्मेवारी  लेते हुए वर्तमान अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा ने पद से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने अपना इस्तीफा केंद्रीय नेतृत्व को भेजा है. हालांकि अभी तक श्री गिलुवा के इस्तीफा पर कोई निर्णय नहीं लिया गया है.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement