Advertisement

ranchi

  • Jun 12 2019 3:52PM
Advertisement

रांची में बिजली-पानी की किल्लत के विरोध में AAP ने राजभवन के सामने किया धरना-प्रदर्शन

रांची में बिजली-पानी की किल्लत के विरोध में AAP ने राजभवन के सामने किया धरना-प्रदर्शन

रांची : आम आदमी पार्टी (AAP) ने बुधवार को राजधानी रांची में बिजली और पानी के लिए राजभवन के समक्ष धरना-प्रदर्शन किया. पार्टी ने कहा कि नगर निगम, नगर विकास विभाग और रघुवर सरकार की नीति और नीयत में खोट है. इसलिए लोगों को बिजली-पानी के संकट का सामना करना पड़ रहा है. लोगों की मूलभूत जरूरतों पर सरकार का ध्यान नहीं है.

इसे भी पढ़ें : रांची : महिला स्वयं सहायता समूहों को कृषि यंत्र देने की हो रही है तैयारी

पार्टी के प्रदेश सचिव राजन कुमार सिंह ने कहा कि 7 जून से लगातार आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता शहर के विभिन्न क्षेत्रों में लोगों से मिल रहे हैं. सभा करके नगर निगम, नगर विकास विभाग एवं रघुवर सरकार के झूठ से लोगों को अवगत करा रहे हैं. साथ ही यह अपील कर रहे हैं कि बिजली और पानी की किल्लत के खिलाफ उनके आंदोलन को अपना समर्थन दें.

उन्होंने बताया कि पार्टी के कार्यकर्ता एक शिकायत सह मांगपत्र जमा कर रहे हैं, जिसे प्रधानमंत्री कार्यालय को भेजा जायेगा, ताकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मालूम हो कि राज्य में जनता किस हाल में है. राजन सिंह ने कहा कि नगर विकास मंत्री सीपी सिंह एवं मुख्यमंत्री रघुवर दास जनमुद्दों पर लगातार झूठ बोल रहे हैं. दोनों जनता को धोखा दे रहे हैं. इनकी नीति एवं नीयत में खोट है.

राजन ने कहा कि वर्षों से रांची शहर की जनता बिजली-पानी की किल्लत से जूझ रही है. स्थिति भयावह है. मुख्यमंत्री और नगर विकास मंत्री, जो रांची के विधायक भी हैं, के सारे वादे झूठे साबित हुए हैं. ये लोग जनता से धोखा कर रहे हैं. ‘आप’ नेता ने कहा कि राजधानी रांची में 4 से 6 घंटे तक बिजली गुल रहती है. आसपास के जिलों में 8-8 घंटे तक बिजली कटती है.

इसे भी पढ़ें : झारखंड : भीमा कोरेगांव मामले में फादर स्टेन स्वामी के आवास पर महाराष्ट्र पुलिस ने मारा छापा

उन्होंने कहा कि रांची शहर के 80% घरों में पाइपलाइन से पानी नहीं आता. कई इलाके में घंटों लाइन में लगने के बाद भी लोगों को टैंकर से पानी नहीं मिल पाता. कहा कि 50 हजार घरों को पानी देने की योजना भ्रष्टाचार कि भेंट चढ़ गयी. वर्ष 2012 में पूरी होने वाली 30 माह की योजना 10 साल से अधूरी है. बजट 234 करोड़ से 380 करोड़ रुपये हो गया.

आम आदमी पार्टी के नेता ने आरोप लगाया कि पेयजल आपूर्ति का ठेका हैदराबाद की ब्लैकलिस्टेड कंपनी को दे दिया गया. नगर निगम का बजट लगभग 2.5 हजार करोड़ का है. निगम के पास पर्याप्त संख्या में टैंकर नहीं हैं, जिसकी वजह से लोगों को पेयजल उपलब्ध नहीं हो पा रहा है. पार्टी के नेता ने कहा कि मुख्यमंत्री का ‘जीरो पावर कट’ और नगर विकास मंत्री सीपी सिंह का हर घर को पाइपलाइन से पेयजल आपूर्ति का वादा पूरी तरह जुमला साबित हुआ.

‘आप’ के कोषाध्यक्ष आलोक शरण ने कहा कि रांची की जनता पानी और बिजली के लिए त्राहि-त्राहि कर रही है. मंत्री-विधायक या मुख्यमंत्री को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता. पार्टी ने सरकार के समक्ष पांच मांगें रखी हैं :

1. रांची सहित पूरे झारखंड में 24 घंटे  बिजली की निर्बाध आपूर्ति की जाये.

2.  दिल्ली सरकार की तरह 200 यूनिट तक घरेलू और वाणिज्यिक बिजली 1 रुपया प्रति यूनिट दी जाये.

3. तत्काल हर घर को टैंकर से पानी उपलब्ध कराया जाये.

4. हर घर को पाइपलाइन से जोड़कर दिल्ली की तर्ज पर मुफ्त पानी दिया जाये.

5. बिना सूचना के बिजली काटने पर बिजली कंपनी पर जुर्माना लगाया जाये और वह राशि उपभोक्ता को दी जाये.

मौके पर पर पिंटू गुप्ता, रवि कुमार, अमिता लाल, सुल्तान खान, मोहम्मद जफर, रवि टोप्पो, प्रो उषा किरण, रेणुका तिवारी, संतोष विश्वकर्मा, विकास पाठक, संजीदा खातून, अरुण पाठक, परवेज अख्तर, कृष्णा किशोर, यास्मिन लाल, दीपक रूपक, पवन पांडे, यास्मिन लाल, नवीन प्रभाकर व अन्य उपस्थित थे.

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement