Advertisement

ranchi

  • May 27 2019 1:57AM
Advertisement

17वीं लोकसभा : इस बार पिछली बार से ज्यादा है युवा सांसदों की संख्या

17वीं लोकसभा : इस बार पिछली बार से ज्यादा है युवा सांसदों की संख्या
संजय , रांची : देश  के 17वें लोकसभा चुनाव में चुन कर आये 542 सांसदों में से 23 फीसदी यानी 125 सांसदों ने  अपना पेशा बिजनेस बताया है. वहीं, सर्वाधिक 39 फीसदी सांसदों के शपथपत्र  में उनका पेशा राजनीतिक व सामाजिक सेवा लिखा है. 38 फीसदी सांसद  खेतीबाड़ी से जुड़े हैं. अन्य पेशे वाले सांसदों में से दो फीसदी शिक्षक,  तीन फीसदी कलाकार (फिल्म व अन्य), चार फीसदी चिकित्सक तथा चार फीसदी ही  वकील हैं. 
 
 पीआरएस लेजिसलेटिव रिसर्च की रिपोर्ट के अनुसार कई सांसदों ने  अपना पेशा एक से अधिक बताया है. 16वीं लोकसभा के मुकाबले 17वीं लोकसभा में  अपेक्षाकृत अधिक युवा सांसद होंगे. 16वीं लोकसभा में 40 वर्ष से कम उम्र वाले  सांसद आठ फीसदी थे. वहीं इस बार इनकी संख्या 12 फीसदी है. 
 
पीआरएस लेजिसलेटिव रिसर्च की रिपोर्ट : 542 में से 125 सांसद जुड़े हैं व्यवसाय से, 39 फीसदी ने राजनीतिक व सामाजिक सेवा को बताया पेशा
 
महिला सांसदों की  अौसत उम्र पुरुष सांसदों से करीब छह वर्ष कम है. इस बार 70 वर्ष से अधिक  उम्र वाले सांसद छह फीसदी है. गौरतलब है कि पहली लोकसभा (1952) के 26 फीसदी  सांसदों की उम्र 40 वर्ष से कम थी. तब से इनका अनुपात लगातार घटता रहा है.  
 
 
देश भर की 736 महिलाअों ने लोकसभा का चुनाव लड़ा था, इनमें से जीतने वाली (78) 14 फीसदी सांसद बनीं. 
पहली लोकसभा में सिर्फ पांच फीसदी महिला सांसद थीं. 
कुल सांसदों में से 397 (भाजपा 303, कांग्रेस 52 व 22 तृणमूल कांग्रेस) राष्ट्रीय पार्टियों से 
राज्य स्तरीय पार्टियों में से सबसे ज्यादा सांसद डीएमके (23) व वाइएसआर कांग्रेस (22) के
कुल 542 सांसदों में से 300 सांसदों का यह पहला टर्म. 16वीं लोकसभा के 197 सांसद इस बार भी जीते
जीते सांसदों में से 45 पूर्व में भी सांसद रहे थे.
 
भाजपा से सौमित्र खान इकलौते मुस्लिम सांसद
लोकसभा की कुल 543 सीटों में से 542 के लिए चुनाव हुए थे. इनमें भाजपा के पास 303 सीटें हैं. इनमें प बंगाल के सौमित्र खान पार्टी के इकलौते मुस्लिम सांसद हैं. ज्यादातर मुस्लिम सांसद विपक्षी दलों के हैं.

27 मुस्लिम सांसद इस बार पहुंचे संसद
 
पार्टी सांसद
भाजपा 01
कांग्रेस  05
टीएमसी 05
सपा 03
बसपा 03
नेकां 03
अन्य 07
 
1980 में सबसे अधिक 49 मुस्लिम सांसद पहुंचे थे
1952 11 
1957 19
1962 20 
1967 25 
197128
 
वर्षसांसद
952 11 
1957 19
1962 20 
1967 25 
197128
 
वर्षसांसद
1980  49 
1984  42
2004  34
2009  30
2014  22

शिक्षक, कलाकार, वकील और डॉक्टर भी चुनकर आये हैं संसद में
17वीं लोकसभा में शिक्षक, कलाकार, वकील, डॉक्टर, व्यवसायी भी चुन कर आये हैं. इस बार 39% राजनीतिक और सामाजिक कार्यकता, 38% किसानी से जुड़े लोग, 23% व्यवसायी चुनकर लोस में पहुंचे हैं.
 
  • विश्व में सबसे अधिक रवांडा में  61 फीसदी महिला सांसद, बांग्लादेश में 21 प्रतिशत
  • 38 फीसदी सांसद खेती के पेशे में
  • 54 वर्ष है सांसदों की औसत आयु
  • 12  प्रतिशत सांसद हैं 40 वर्ष से कम उम्र के
  • 08 प्रतिशत सांसद थे 40 वर्ष के कम उम्र के 16वीं लोकसभा में
 
 
 
महिला सांसदों की  अौसत उम्र पुरुष सांसदों से करीब छह वर्ष कम है. इस बार 70 वर्ष से अधिक  उम्र वाले सांसद छह फीसदी है. गौरतलब है कि पहली लोकसभा (1952) के 26 फीसदी  सांसदों की उम्र 40 वर्ष से कम थी. तब से इनका अनुपात लगातार घटता रहा है.  
 
 
देश भर की 736 महिलाअों ने लोकसभा का चुनाव लड़ा था, इनमें से जीतने वाली (78) 14 फीसदी सांसद बनीं. 
पहली लोकसभा में सिर्फ पांच फीसदी महिला सांसद थीं. 
कुल सांसदों में से 397 (भाजपा 303, कांग्रेस 52 व 22 तृणमूल कांग्रेस) राष्ट्रीय पार्टियों से 
राज्य स्तरीय पार्टियों में से सबसे ज्यादा सांसद डीएमके (23) व वाइएसआर कांग्रेस (22) के
कुल 542 सांसदों में से 300 सांसदों का यह पहला टर्म. 16वीं लोकसभा के 197 
सांसद इस बार भी जीते
जीते सांसदों में से 45 पूर्व में भी सांसद रहे थे.
 
भाजपा से सौमित्र खान इकलौते मुस्लिम सांसद
लोकसभा की कुल 543 सीटों में से 542 के लिए चुनाव हुए थे. इनमें भाजपा के पास 303 सीटें हैं. इनमें प बंगाल के सौमित्र खान पार्टी के इकलौते मुस्लिम सांसद हैं. ज्यादातर मुस्लिम सांसद विपक्षी दलों के हैं.
 
27 मुस्लिम सांसद इस बार पहुंचे संसद
 
पार्टी सांसद
भाजपा 01
कांग्रेस  05
टीएमसी 05
सपा 03
बसपा 03
नेकां 03
अन्य 07
 
1980 में सबसे अधिक 49 मुस्लिम सांसद पहुंचे थे
1952 11 
1957 19
1962 20 
1967 25 
197128
 
वर्षसांसद
952 11 
1957 19
1962 20 
1967 25 
197128
 
वर्षसांसद
1980  49 
1984  42
2004  34
2009  30
2014  22
 
शिक्षक, कलाकार, वकील और डॉक्टर भी चुनकर आये हैं संसद में
17वीं लोकसभा में शिक्षक, कलाकार, वकील, डॉक्टर, व्यवसायी भी चुन कर आये हैं. इस बार 39% राजनीतिक और सामाजिक कार्यकता, 38% किसानी से जुड़े लोग, 23% व्यवसायी चुनकर लोस में पहुंचे हैं.
 
विश्व में सबसे अधिक रवांडा में  61 फीसदी महिला सांसद, बांग्लादेश में 21 प्रतिशत
38 फीसदी सांसद खेती के पेशे में
54 वर्ष है सांसदों की औसत आयु
12  प्रतिशत सांसद हैं 40 वर्ष से कम उम्र के
08 प्रतिशत सांसद थे 40 वर्ष के कम उम्र के 16वीं लोकसभा में
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement