Advertisement

politics

  • Dec 15 2018 11:47AM
Advertisement

क्या आप जानते हैं! तीन राज्यों में चुने गये 400 विधायक करोड़पति, आधे कांग्रेसी

क्या आप जानते हैं! तीन राज्यों में चुने गये 400 विधायक करोड़पति, आधे कांग्रेसी
file photo

 नेशनल कंटेंट सेल

-एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक  रिफॉर्म (एडीआर) ने जारी की रिपोर्ट, बीजेपी के 40 प्रतिशत एमएलए करोड़पति

नयी दिल्ली : मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ विधानसभाओं के नतीजे सामने आ चुके हैं. यहां भाजपा और कांग्रेस के अलावा अन्य दलों के 519 विधायकों ने जीत दर्ज की है. एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक  रिफॉर्म (एडीआर) की रिपोर्ट के मुताबिक, कुल 519 नवनिर्वाचित विधायकों में से 400 करोड़पति हैं. इनमें सबसे ज्यादा 53 प्रतिशत यानी 215 विधायक कांग्रेस के हैं. वहीं, 40 प्रतिशत यानी 158 विधायक भाजपा के हैं. तीनों राज्यों में सबसे ज्यादा 175 करोड़पति विधायक मध्यप्रदेश से हैं. इसी तरह राजस्थान के 156 और छत्तीसगढ़ के 69 विधायक करोड़पति हैं.
 
बात करें एजुकेशन की तो राजस्थान में सबसे ज्यादा 75 विधायक ग्रेजुएट प्रोफेशनल हैं. 47 विधायक पोस्ट ग्रेजुएट हैं. आठ विधायक पीएचडी और 10 विधायक साक्षर हैं. 10वीं पास विधायकों की संख्या 17, 12वीं पास विधायकों की संख्या 31 और 8वीं पास विधायकों की संख्या 7 है, जबकि 4 विधायक ऐसे हैं जो 5वीं पास हैं. छत्तीसगढ़ के नवनिर्वाचित विधायकों में 18 प्रोफेशनल ग्रेजुएट, 14 ग्रेजुएट, 29 पोस्ट ग्रेजुएट, 12 बारहवीं पास, 3 दसवीं पास, चार 8वीं पास और 4 पांचवीं पास हैं. मध्य प्रदेश में नवनिर्वाचित विधायकों में 35 ऐसे हैं, जो सिर्फ 12वीं पास हैं. 14 विधायक 10वीं पास हैं. 7 विधायक 8वीं और 6 सिर्फ 5वीं पास हैं. ग्रेजुएट विधायक 65 हैं. इसके अलावा, ग्रेजुएट प्रोफेशनल 25, पोस्ट ग्रेजुएट 55, पीएचडी 3 और साक्षर विधायक 10 हैं.

 
तेलंगाना के 73 व छत्तीसगढ़ के 24 विधायकों पर मामले दर्ज
एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म रिपोर्ट के मुताबिक, तेलंगाना के 119 नवनिर्वाचित सदस्यों में से 61 फीसदी यानी 73 विधायक ऐसे हैं जिनका आपराधिक रिकॉर्ड है. वहीं, छत्तीसगढ़ में जीते 90 विधायकों में से 37 विधायकों पर आपराधिक मामले दर्ज हैं.  रिपोर्ट के मुताबिक तेलंगाना में टीआरएस के 88 में से 50, कांग्रेस के 19 में से 14 एआइएमएइएम के सात में से छह, टीडीपी के दो और भाजपा के एक विधायक ने अपने अपने हलफनामों में उनके खिलाफ आपराधिक मामलों की जानकारी दी है.
 
दोगुनी हुई औसत संपत्ति:  विधायकों की औसत संपत्ति  2014 के मुकाबले दोगुनी हो गयी है. 2014 में औसतन Rs 7.70 करोड़ थी जो अब Rs 15.71 करोड़ हुई.
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement