Advertisement

patna

  • Aug 18 2019 7:15AM
Advertisement

रात दो बजे MLA अनंत सिंह को गिरफ्तार करने पहुंची पुलिस, UAPA कानून के तहत घोषित हो सकते हैं आतंकी

रात दो बजे MLA अनंत सिंह को गिरफ्तार करने पहुंची पुलिस, UAPA कानून के तहत घोषित हो सकते हैं आतंकी
विधायक पर लगा यूएपीए
 
पटना : एके 47 व हैंड ग्रेनेड बरामद होने के मामले में मोकामा के बाहुबली विधायक अनंत सिंह को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस के वरीय अधिकारियों ने शनिवार की देर रात दो बजे सरकारी आवास की घेराबंदी की. आवास के अंदर मौजूद सभी लोगों से पुलिस अधिकारियों ने पूछताछ की़  कुछ लोगों को हिरासत में लिये जाने की भी सूचना है़  
 
हालांकि, खबर लिखे जाने तक विधायक अनंत सिंह की गिरफ्तारी नहीं हो सकी़. रात एक बजे से ही पुलिसकर्मियों की चहलकदमी शुरू हो गयी थी. इधर, विधायक अनंत सिंह के खिलाफ शिकंजा कसता जा रहा है. 
 
घर से हथियार बरामद होने के मामले में विधायक को आतंकवादी तक घोषित किया जा सकता है. विधायक पर अनलॉफुल एक्टिविटी प्रीवेंशन एक्ट (यूएपीए) के तहत कार्रवाई होगी. उनके खिलाफ पटना पुलिस ने बाढ़ थाने मे यूएपीए के तहत मुकदमा दर्ज कराया है. केंद्र सरकार द्वारा हाल ही में किये गये संशोधन के बाद  देश में शायद यह पहली कार्रवाई है, जिसमें किसी अकेले व्यक्ति को देश के लिए खतरा मानकर यूएपीए लगाया गया है. 
 
इस कानून के तहत केंद्रीय सुरक्षा और खुफिया  एजेंसियां को विधायक पर कार्रवाई करने में कोई अड़चन नहीं आयेगी.  इसमामले में गिरफ्तारी के लिए  विधानसभा अध्यक्ष से अनुमति की भी आवश्यकता नहीं पड़ेगी. जिला पुलिस केवल ऊपर से हरी झंडी का इंतजार कर रहा है. केंद्रीय सुरक्षा एजेंसी पूरे मामले की जांच आतंकी घटना के रूप में कर रही है. शनिवार को एसटीएफ- एटीएस के अलावा सेना की टीम ने भी मौका- मुआयना किया.  एनआइए ने भी मामले की पड़ताल की. 
 
बरामद हथियार और गोला बारूद सेना का है या नहीं, यह अभी पुष्टि नहीं हुई है. पुलिस मुख्यालय, एनआइए , एटीएस , एसटीएफ और सेना के अधिकारी मीडिया से दूरी बनाये हुए हैं. एएसपी एएसपी लिपि सिंह को मामले की जांच अधिकारी बनाया गया है. सेंट्रल एजेंसियां अपनी अलग जांच कर रही हैं.
 
जब्त हो सकती है अनंत सिंह की संपत्ति
 
अनलॉफुल एक्टिविटी प्रीवेंशन एक्ट को गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम भी कहा जाता है. इसमें केंद्र को अधिकार है कि अगर कोई संगठन या व्यक्ति देश की ‘ संप्रभुता और अखंडता’ के लिए बड़ा खतरा हो या वह विभिन्न समुदायों के बीच वैमनस्य बढ़ाता हो या राष्ट्र की एकता के लिए खतरा लगता हो तो उसे ‘गैर-कानूनी’ घोषित किया जा सकता है. 
 
इसके मुताबिक आतंकवादी गतिविधियों में संलिप्त होने की आशंका के आधार पर किसी अकेले व्यक्ति को भी आतंकी घोषित किया जा सकता है. इसमें आरोपी की पूरी संपत्ति भी जब्त की जा सकती है. इस मामले में जांच इंस्पेक्टर स्तर का अधिकारी भी कर सकता है लेकिन अनंत सिंह के मामले में एएसपी स्तर के अधिकारी को जांच दी गयी है.
2005 में राजनीति में उतरे, 2015 में हुए जदयू से दूर 
 
अनंत सिंह 2005 में राजनीति में उतरे थे उस समय उन्‍होंने जेडीयू के टिकट पर मोकामा सीट से चुनाव लड़ा था. बाहुबली नेता सूरज भान सिंह को हराकर जीत हासिल की थी. 2015 विधानसभा चुनाव से पहले वह जेडीयू से अलग हो गये. बाद में जेडीयू छोड़ दिया. मोकामा सीट पर उन्होंने निर्दलीय चुनाव लड़ा और जीत हासिल की. अनंत सिंह जदयू के नेताओं पर फंसाने की साजिश रचने का आरोप लगा रहे हैं. 
 
मोकामा विधानसभा क्षेत्र मुंगेर लोकसभा सीट में पड़ता है. यहां से जदयू के ललन सिंह सांसद हैं.  अनंत सिंह की पत्नी नीलम कांग्रेस के टिकट पर यहां से चुनाव लड़ी थीं. अनंत सिंह बार बार यही कह रहे हैं कि उन्हें जदयू के एक नेता के इशारे पर फंसाया गया है.
 
वारंट के लिए कोर्ट से सोमवार को पुलिस करेगी दोबारा अनुरोध
 
बाढ़ : विधायक अनंत सिंह की कभी भी गिरफ्तारी हो सकती है. शनिवार को अनंत सिंह की गिरफ्तारी के लिए वारंट जारी कराने को कोर्ट से अनुरोध किया गया, पर वारंट नहीं मिला. अब सोमवार को दोबारा अर्जी दी जायेगी. 
 
वहीं सेना और सेंट्रल एजेंसी का दस्ता अनंत सिंह के पैतृक घर से बरामद हैंड ग्रेनेड को निष्क्रिय करने नदावां पहुंचा.  ग्रेनेड की सुरक्षा के लिए पंडारक और समियागढ़ थाने की पुलिस की तैनाती की गयी है. सुरक्षा व्यवस्था संभालने को मजिस्ट्रेट तैनात किया गया है. शुक्रवार की रात से सुबह तक बाढ़ के प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी अरविंद कुमार,  शनिवार सुबह से दोपहर दो बजे तक बाढ़ के कनीय अभियंता अर्जुन प्रसाद तथा रात्रि 10:00 बजे तक  कृषि पदाधिकारी चंद्रभूषण प्रसाद सिंह मजिस्ट्रेट के रूप में तैनात रहे.  
 
इन धाराओं में दर्ज हुआ है  मामला 
 
अनंत सिंह के खिलाफ बाढ़ थाने में कांड संख्या 389/19  दर्ज करायी गयी है. इसमें आइपीसी 414, 120 बी, 25 (1-ए), 25(1एए ), 25(1-बी) ए/ 25(1-बी)सी/26/35 आर्म्स एक्ट, 3/4 विस्फोटक पदार्थ अधिनियम, एवं 13 यूएपीए (अनलॉफुल एक्टिविटी प्रीवेंशन एक्ट )की धाराएं लगायी गयी हैं.   
लाइनर को जेल भेजा
 
पुलिस ने छापेमारी के बाद अनंत सिंह के लाइनर संजय राम को गिरफ्तार कर लिया था. शनिवार को उसे  न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया. प्राथमिकी में संजय भी नामजद अभियुक्त है. नदावां में लोग सहमे हुए हैं. बाहुबली  के काफिले में सबसे आगे चलने वाले कई समर्थक भूमिगत हो गये हैं.
 
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement