सुप्रीम कोर्ट का फैसला: नयी शर्तों को साथ मुंबई में फिर से खुलेंगे डांस बार
Advertisement

patna

  • Jan 12 2019 3:57AM

शहर में खराब हवा को लेकर प्रभात खबर ने चलाया अभियान तो जागा प्रशासन, कई स्तरों पर उपाय शुरू

पटना  : शहर की वायु को शुद्ध करने और पीएम 2.5 का फैलाव रोकने के लिए बिना ढके पक्के निर्माण करने कर रही 21 निर्माण कंपनियों को शुक्रवार को  नोटिस जारी किये गये हैं. बिहार राज्य प्रदूषण नियंत्रण पर्षद की तरफ से जारी इन   नोटिस में इन कंपनियों को 21 दिनों के  अंदर निर्माण स्थलों को ग्रीन कवर करने को कहा गया है. ऐसा नहीं करने पर कार्रवाई की चेतावनी दी गयी है. 
 
इनको नोटिस : बेली रोड स्थित संजय कंस्ट्रक्शन मेसर्स, जलालपुर सिटी, मेसर्स रूपा टॉवर, खाजपुरा जगदेव पथ स्थित सनराइज सांईं ओजोन प्लाजा, गोला रोड स्थित शिवम कंस्ट्रक्शन,  आशियाना रोड स्थित न्यू बिल्डिंग अंडर कंस्ट्रक्शन, पुनाईचक स्थित  रवि इन्क्लेव, वेटनरी कॉलेज रोड रूपसपुर थाना न्यू बिल्डिंग, पाटिलपुत्र काॅलोनी स्थित मेसर्स आरटी मेंसंस, सगुना मोड स्थित गनपति हाइट माधवी केदार इन्क्लेव, दीघा रोड माधुरी इन्क्लेव और राजीव नगर  स्थित एक्जीक्यूटिव इंजीनियर इस्ट जोन सीपीडबल्यूडी जीआरपी प्रोजेक्ट. 
 
जानकारी हो कि बिना ढके पक्के निर्माण करने से वातावरण में  बारीक तत्व फैल जाते हैं. पीएम  2.5 के रूप में  पहचाने जाने वाले ये बारीक तत्व इन दिनों पटना की हवा की गुणवत्ता के लिए सबसे बड़ी चुनौती बन गये हैं. पटना का एयर क्वालिटी इंडेक्स इस समय देश में सर्वाधिक है. धूल कणों को रोकने को निर्माण सामग्रियों को ढका होना चाहिए. 
 
पुलों का निर्माण बिना ढके करने वालों पर जुर्माना, मिला सात दिनों का समय
पटना. राजधानी पटना सहित अन्य महत्वपूर्ण शहरों में प्रदूषण नियंत्रण के लिए सरकार ने महत्वपूर्ण फैसला लिया है. मुख्य सचिव दीपक कुमार ने बताया कि राज्य में काम करनेवाली सभी एजेंसियों को निर्माण का काम ढंक कर करना है. 
 
इस दौरान वहां पर नियमित रूप से पानी का छिड़काव किया जाना है. उनको निर्माण के गाइड लाइन के तहत काम करने के लिए सात दिनों का समय दिया दिया गया है. उसके बाद ऐसा करते हुए पाये जाने पर जुर्माना वसूला जायेगा. 

आर ब्लॉक से स्टेशन रोड की चौड़ाई बढ़ेगी
इसी तरह के खोमचे वालों का सर्वे कराया जायेगा. नगर निगम क्षेत्र में खाने-पीने वाली सामग्रियों को कवर कर बेचने को लेकर आर्थिक मदद दी जायेगी. इसके लिए अभियान चलेगा. वाहनों का नियमित प्रदूषण जांच अभियान चलाने का निर्देश  भी दिया गया है. 
 
परिवहन विभाग को यह भी निर्देश दिया गया है कि वह यथा संभव रास्ते की चौड़ाई को और अधिक करे. इसके तहत पटना के आर ब्लॉक से स्टेशन रोड की चौड़ाई बढ़ायी जायेगी. जहां पर संभव हो वहां पर वन-वे ट्रैफिक की व्यवस्था किया जाये.
 
164 वाहनों की हुई प्रदूषण जांच वसूला गया 94 हजार जुर्माना
पटना. बढ़ते वायु प्रदूषण को कम करने  के लिए शुक्रवार को भी पटना के पांच प्रमुख जगहों पर वाहनों की प्रदूषण जांच की गयी. हड़ताली मोड़, डाकबंगला, कारगिल चौक, सगुना मोड़ और बाइपास में चलाये गयेे अभियान के दौरान सिटी बस, आॅटो और स्कूल बस समेत 164 व्यावसायिक वाहनों की प्रदूषण जांच की गयी. 
 
इस दौरान मानक से अधिक प्रदूषण फैलाने वाले और पाॅल्यूशन सर्टिफिकेट नहीं रखने वाले वाहन चालकों से 94 हजार जुर्माना वसूला गया.  प्रदूषण जांच के लिए स्मोक मीटर और गैस एनालाइजर सभी मोटरयान निरीक्षकों को उपलब्ध कराया गया है. जांच टीम में सभी जगहों पर एक मोटरयान निरीक्षक और एक प्रवर्तन अवर निरीक्षक की प्रतिनियुक्ति की गयी है. 

सगुना मोड़ से वसूला सबसे अधिक जुर्माना 
 जांच के दौरान सगुना मोड़ से सबसे अधिक जुर्माना  वसूला गया. वहां 37 वाहनों की प्रदूषण जांच की गयी और उनसे 26300 रुपये जुर्माना वसूला गया. डाकबंगला चौराहा पर कुल 23 वाहनों की जांच की गयी, जिसमें 3 वाहन प्रदूषण फैलाने वाले पाये गये. 
 
उनसे कुल 14200 रुपये जुर्माना वसूला गया. बाइपास में 22 वाहनों की जांच हुई और उनसे 10600 रुपये जुर्माना वसूला गया. शनिवार को भी सुबह 10 से शाम 6 बजे तक विशेष अभियान जारी रहेगा.
 

Advertisement

Comments

Advertisement